अब सरसों तेल ने निकाला पसीना, कीमत 30 से 40 रुपए बढ़ी

By: | Last Updated: Monday, 2 November 2015 2:28 AM
Mustard oil prices rise over 30%

नई दिल्ली : कमरतोड़ महंगाई त्योहारों को फीका कर सकती है. दाल और सब्जियों के बाद अब सरसों के तेल ने मुसीबत बढ़ा दी है. खुदरा बाजार में सरसों तेल की कीमत 130 से 140 रुपए हो गई है. यह इजाफा पिछले करीब एक माह के भीतर हुआ है. लोगों का आरोप है कि सरकार लगातार महंगाई को रोकने में असफल हो रही है.

 

पढ़ें : देश को दाल क्यों नहीं दे पाए मोदी?

 

पिछले साल इसी समय सरसों के तेल की कीमत खुदरा बाज़ार में तकरीबन 90-110 रुपए प्रति लीटर थी. अभी खुदरा बाज़ार में सरसों का तेल 140 रुपए प्रति लीटर तक का बिक रहा है. अलग-अलग कंपनियों और क्वालिटी के सरसों के तेल की एमआरपी तो 150-170 तक की रेंज में है. अभी इसके दरों में 30 से 40 रुपए का इजाफा हो गया है.

 

पढ़ें : खुदरा मंहगाई दर में बढ़ोतरी तो वहीं औद्योगिक उत्पादन बढ़ा

 

दुकानदारों के मुताबिक कम पैदावार और कालाबाजारी  चलते ऐसा हुआ है. ग्राहक दाल के बढ़े हुए दामों से पहले ही परेशान थे. अब तेल के दाम ने उनकी परेशानी और बढ़ा दी है. सफल और केंद्रीय भंडार जैसे सरकारी स्टोर्स जहां रियायती दरों पर सामान मिल जाता वहां भी सरसों का तेल पिछले साल के मुकाबले 15-20 रुपए महंगा मिल रहा है.

 

पढ़ें : थोक बाजार की महंगाई दर के कम रहने के क्या हैं मायने

 

सरसों के तेल के दामों का असर दिवाली के दीयों पर भी देखने को मिलेगा. आम लोगों का कहना है की अब दीयों की जगह मोमबत्ती से ही काम चला लेंगे. जानकारों का कहना हैं की इस बार फसल भी काफी अछि हुई है और मांग भी नहीं बड़ी हैं. दीपावली को देखते हुए कालाबाजारी को ही इसका बड़ा कारण बताया जा रहा है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Mustard oil prices rise over 30%
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017