10 साल से रूका था सेना का ऑपरेशन म्यांमार ?

By: | Last Updated: Wednesday, 10 June 2015 2:16 AM

नई दिल्ली: भारतीय सेना ने पहली बार सीमा पार म्यांमार में कार्रवाई कर उग्रवादियों को मार गिराया है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारतीय सेना ने म्यांमार की सेना और एनएससीएन खाप्लांग गुट के बागियों सहयोग से ऑपरेशन चलाया जिसमें 35 से 40 उग्रवादी मारे गए हैं. 7 उग्रवादियों के शव बरामद हो गए हैं बाकी की तलाश जारी है. सेना ने म्यांमार सीमा में उग्रवादियों की अवैध हथियार हथियार फैक्ट्री को भी तबाह कर दिया है.

 

सूत्र बता रहे हैं कि म्यांमार ऑपरेशन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की अगुवाई में हुआ. इस ऑपरेशन के लिए वो पीएम के साथ बांग्लादेश दौरे पर नहीं गए थे. डोभाल हमले के बाद मणिपुर गए. सूत्र बता रहे हैं कि एनएससीएन खाप्लांग गुट के बागियों को साथ मिलाकर सेना ने ऑपरेशन किया. ठिकाने की जानकारी उन्हीं से मिली.

 

सीमा पार अंजाम दिए गए अपनी तरह के पहले अभियान में सेना के विशेष बलों ने वायुसेना के साथ मिलकर सोमवार को म्यांमार के भीतर जाकर मणिपुर हमले के लिए जिम्मेदार समूहों के करीब 20 विद्रोहियों को ढेर कर दिया.

पहली बार सीमा पार जाकर सेना की कार्रवाई 

 

इंडियन एक्सप्रेस का खुलासा

म्यांमार में घुसकर उग्रवादियों को ठिकाने लगाना भारतीय विदेश मंत्रालय की भी बड़ी कामयाबी मानी जा रही है. इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से खबर है कि सेना करीब दस साल पहले से ऐसा ऑपरेशन करना चाहती थी लेकिन इसे म्यांमार की तरफ से इजाजत नहीं मिल रही थी. 1988 में सैनिक विद्रोह के बाद म्यांमार तमाम तरह की सैनिक पाबंदियां झेल रहा था.

 

भारतीय सेना को इस बात की पक्की जानकारी थी कि म्यांमार भारत सीमा के 15-20 किलोमीटर के दायरे में उग्रवादियों के ठिकाने हैं. ये सारे डिटेल म्यांमार की सेना को भेजे गए सूत्र बता रहे हैं कि इस साल की शुरुआत में म्यांमार की सेना ने NSCN-खाप्लांग गुट पर कार्रवाई करने को मंजूरी दी.

 

विशेष सूचना पर कार्रवाई

यह कार्रवाई एक विशेष सूचना के आधार पर कमांडो ने म्यांमार अधिकारियों के साथ तालमेल कायम करके की. सेना का कहना है कि दो उग्रवादी संगठनों को भारी नुकसान पहुंचा. समझा जाता है कि ये दोनों संगठन एनएससीएन (के) और केवाईकेएल हैं.

 

इस अभियान पर प्रतिक्रिया देते हुए सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री तथा पूर्व कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा, ‘‘ हम म्यांमार की सीमा में गए. हमारे उनके साथ अच्छे संबंध हैं और हमने वहां कार्रवाई की.’’ अतिरिक्त सैन्य अभियान महानिदेशक मेजर जनरल रणबीर सिंह ने बताया कि मणिपुर के हमले के बाद सेना बिल्कुल चौकस थी. उसे पिछले कुछ दिनों में इस बात की पक्की सूचना मिली थी कि ये उग्रवादी भारतीय क्षेत्र में और हमले करने की साजिश रच रहे हैं.

 

सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘पिछले हमलों में शामिल समूहों के कुछ लोगों की ओर से ये हमले हमारे सुरक्षाकर्मियों और सहयोगियों पर किए जाने थे. आसन्न खतरे को ध्यान में रखते हुए तत्काल कार्रवाई जरूरी थी. खुफिया सूचना के आधार पर हमने इन योजनाबद्ध हमलों का मुकाबला करने के लिए अभियान चलाया.’’ उन्होंने अभियान के बारे में बताया. हालांकि उन्होंने कोई भी प्रश्न उत्तर के लिए लेने से इनकार कर दिया.

 

राठौर ने कहा कि सीमावर्ती राज्यों और सीमा के आसपास शांति तथा समरसता सुनिश्चित करते हुए ‘‘हमारी सुरक्षा , संरक्षा और राष्ट्रीय अखंडता को पेश आने वाले किसी भी खतरे का ठोस जवाब दिया जाएगा.’’

 

राठौर ने कहा कि सेना ने इस अभियान को अंजाम दिया लेकिन हेलिकाप्टरों को तैयार रखा गया था. उन्होंने कार्रवाई को सरकार की ओर से उठाया गया ‘‘अभूतपूर्व और बेहद मजबूत कदम’’ बताया क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दो शिविरों में कार्रवाई का आदेश दिया था जिन्हें पूरी तरह नेस्तनाबूद कर दिया गया. मेजर जनरल सिंह ने बताया कि अभियान नगालैंड और मणिपुर में भारत म्यांमार सीमा के पास दो स्थानों पर चलाया गया लेकिन सूत्रों ने बताया कि यह कार्रवाई म्यामांर के अंदर स्थानीय प्रशासन के साथ तालमेल कायम कर की गयी. भारतीय कार्रवाई दल सुरक्षित लौट आया.

 

पश्चिमी सीमा पर भी इसी प्रकार की कार्रवाई किए जाने के बारे में पूछे जाने पर राठौर ने कहा, ‘‘पश्चिमी अशांति से भी समान तरीके से निपटा जाएगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ आतंकवादी मंशा रखने वाले सभी ऐसे पड़ोसियों को यह एक संदेश है. दोस्ती और (आतंकवाद को) कतई बर्दाश्त नहीं करने की बात साथ साथ चलेगी. यह एक शुरूआत है. यह संदेश सभी को जाना चाहिए.’’ सूत्रों के अनुसार यह पहली बार हुआ है कि भारतीय सेना ने सीमा पार कमांडो कार्रवाई की है जो आतंकवाद के खिलाफ सक्रिय पहल का द्योतक है. इस कार्रवाई की योजना मणिपुर में उग्रवादियों द्वारा किए गए हमले के बाद बनायी गयी.

 

सूत्रों ने बताया कि इस कार्रवाई को अंतिम रूप देने के प्रयासों के चलते राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल प्रधानमंत्री की 6. 7 जून की बांग्लादेश यात्रा में उनके साथ नहीं गए थे.

 

सूत्रों के मुताबिक अभियान पक्की खुफिया सूचना के आधार पर चलाया गया. दोनों पक्षों के बीच भीषण गोलीबारी हुर्ह.

 

मेजर जनरल सिंह ने कहा, ‘‘हमने उन्हें भारी नुकसान पहुंचाया है. फलस्वरूप, हमारे नागरिकों एवं सुरक्षाबलों से खतरा टल गया है. ’’

 

सूत्रों ने बताया कि मणिपुर के चंदेल में चार जून को उग्रवादियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में 18 सैनिकों के शहीद होने के बाद बदले की कार्रवाई के तहत यह अभियान चलाया गया. सूत्रों ने सीमापार कार्रवाई को सही ठहराया और बताया कि यह नोटिस किया गया था कि उग्रवादी हमला करने के लिए सीमापार से आते थे और फिर लौट जाते थे.

 

मेजर जनरल सिंह ने कहा, ‘‘हम इस मामले में म्यांमार के अधिकारियों के संपर्क में हैं. हमारी सेनाओं के बीच घनिष्ठ सहयोग का इतिहास रहा है. हम ऐसे उग्रवादियों का मुकाबला करने के लिए साथ मिलकर काम करने को आशान्वित रहे हैं.’’ मार्च में संघषर्विराम से हट जाने वाला एनएससीएन :के: तथाकथित ‘यूनाईटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ साउथ ईस्ट एशिया’ के बैनर तले अन्य उग्रवादी संगठनों के साथ मिलकर कई हमलों में शामिल रहा है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: myanmar_army_attacks_extremist
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: action Army encounter Myanmar
First Published:

Related Stories

'सोनू' के तर्ज पर कपिल मिश्रा का पोल खोल वीडियो, गाया- एके तुझे खुद पर भरोसा नहीं क्या...?
'सोनू' के तर्ज पर कपिल मिश्रा का पोल खोल वीडियो, गाया- एके तुझे खुद पर भरोसा...

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार में मंत्री पद से बर्खास्त किए गए कपिल मिश्रा ने सीएम अरविंद केजरीवाल...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. रिश्तों में टकराव के लिए चीन ने पीएम नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है. http://bit.ly/2vINHh4  मंगलवार को...

 'ब्लू व्हेल' गेम पर सरकार सख्त, रविशंकर प्रसाद ने कहा- इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता
'ब्लू व्हेल' गेम पर सरकार सख्त, रविशंकर प्रसाद ने कहा- इसे स्वीकार नहीं किया...

नई दिल्ली: जानलेवा ‘ब्लू व्हेल’ गेम को लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को...

विपक्षी दलों के साथ शरद यादव कल करेंगे 'शक्ति प्रदर्शन'!
विपक्षी दलों के साथ शरद यादव कल करेंगे 'शक्ति प्रदर्शन'!

नई दिल्ली: जेडीयू के बागी नेता शरद यादव कल यानि गुरुवार को अपनी ताकत के प्रदर्शन के लिए सम्मेलन...

भगाए जाने के बाद बोला चीन, लद्दाख में टकराव की कोई जानकारी नहीं
भगाए जाने के बाद बोला चीन, लद्दाख में टकराव की कोई जानकारी नहीं

बीजिंग: चीन ने जम्मू-कश्मीर के लद्दाख में मंगलवार को दो बार भारतीय इलाके में घुसपैठ की कोशिश...

योगी राज में किसानों के 'अच्छे दिन'
योगी राज में किसानों के 'अच्छे दिन'

नई दिल्लीः यूपी के किसानों के लिए खुशखबरी का इंतजार खत्म हो गया है. कल सीएम योगी आदित्यनाथ 7 हज़ार...

दिल्ली में तेज रफ्तार ने ली 24 साल के हिमांशु बंसल की जान
दिल्ली में तेज रफ्तार ने ली 24 साल के हिमांशु बंसल की जान

नई दिल्ली: दिल्ली के कनॉट प्लेस इलाके में तेज रफ़्तार स्पोर्ट्स बाईक से एक्सिडेंट का बड़ा मामला...

कर्नाटक में राहुल ने लॉन्च की इंदिरा कैंटीन, ₹10 में खाना और ₹5 में नाश्ता
कर्नाटक में राहुल ने लॉन्च की इंदिरा कैंटीन, ₹10 में खाना और ₹5 में नाश्ता

बेंगलुरू: कर्नाटक में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं और इसकी तैयारी अब से शुरू हो गई है. इसी...

यात्रियों को सौगात, रेलवे ने शुरू की कई नई ट्रेनें, यहां है पूरी List
यात्रियों को सौगात, रेलवे ने शुरू की कई नई ट्रेनें, यहां है पूरी List

नई दिल्ली : भारतीय रेलवे ने बीते हफ्ते यात्रियों को नई सौगात देते हुए कई सारी नई ट्रेनों को शुरु...

गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, रविवार को 11 तो इस साल अब तक 208 की मौत
गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, रविवार को 11 तो इस साल अब तक 208 की मौत

अहमदाबाद शहर स्वाइन फ्लू से सबसे ज्यादा प्रभावित है. प्रशासन भरपूर कोशिश कर रहा है लेकिन...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017