कांग्रेस को नारायण राणे का बड़ा झटका, मंत्री पद से दिया इस्तीफा

By: | Last Updated: Monday, 21 July 2014 7:14 AM

मुंबई: महाराष्ट्र में विधानसभा के चुनाव के दिन नज़दीक आने के साथ ही सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी में उठापटक तेज़ हो चली है.

 

सीएम पृथ्वीराज चव्हाण से नाराज़ चल रहे उद्योग मंत्री नारायण राणे ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले, उन्हें मनाने की सभी कोशिशें नाकाम हो गईं.

 

राणे ने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को सौंप दिया है, सीएम ने इस्तीफा मंजूर करने से इनकार कर दिया है.

 

सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने राणे को मनाने की भरसक कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने.

 

तरूण गोगोई के खिलाफ बग़ावत, 30 कांग्रेसी विधायक गवर्नर से मिले 

सूत्रों का कहना है कि नारायण राणे तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे जिसमें वह अपने इस्तीफा देने के कारणों पर बात करेंगे.

 

हालांकि राणे ने साफ किया है कि वह कांग्रेस में बने रहेंगे.

 

क्या है मामला?

 

राणे मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के नेतृत्व से खासे नाराज़ चल रहे हैं और बीतों दिनों उन्होंने कहा था कि अगर कांग्रेस मौजूदा नेतृत्व के अधीन विधानसभा चुनाव में जाती है तो नतीजे वहीं होंगे जो लोकसभा चुनाव में आए थे.

 

दरअसल, राणे महाराष्ट्र में नेतृत्व परिवर्तन की मांग कर रहे थे और वह केंद्रीय नेतृत्व से भी नाराज़ चल रहे हैं.

 

कौन हैं राणे?

 

महाराष्ट्र की राजनीति में राणे का कोंकण इलाके में खासा असर है. वे राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. राणे खुद को सीएम का उम्मीदवार पेश करते आए हैं और इसके लिए कई बार रुठे भी हैं.

 

जब अशोक चव्हाण को महाराष्ट्र का सीएम बनाया गया तो भी राणे ने इसका विरोध किया था और मंत्री पद से इस्तीफा दिया था. जब पृथ्वीराज चव्हाण सीएम बने थे तब भी उन्होंने विरोध किया था.

 

राणे 2005 में शिवसेना छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे. लेकिन शिवसेना से भी उनके रिश्ते बेहद खराब हैं.

 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राणे को लेकर तीखी प्रतिक्रिया दी है.  ठाकरे ने कहा था कि उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि राणे जिस भी दल में जाएं उन्हें ‘मानसिक शांति’ मिले.