रॉक गांर्डन में फ्रांस्वा ओलांद से मिले पीएम मोदी

By: | Last Updated: Sunday, 24 January 2016 6:58 PM
narendra modi francis holland to meet today

चंडीगढ़/नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस पर मेहमान फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद आज तीन दिन के दौरे पर भारत पहुंचे. चंडीगढ़ में पीएम मोदी ने ओलांद का स्वागत किया और मशहूर रॉक गार्डन की सैर करवाई.

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद का विमान आज दोपहर चंडीगढ़ पहुंचा, तो एयरपोर्ट पर पंजाबी भांगड़ा और ढोल-ढमाके के साथ उनका भव्य स्वागत किया गया. चंडीगढ़ के रास्ते में भी उनके स्वागत के लिए पंजाबी कलाकार खड़े नजर आए.

भारत के गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि का स्वागत करने के लिए पीएम मोदी भी खास तौर से चंडीगढ़ पहुंचे.

चंडीगढ़ की पहचान बन चुके जिस मशहूर रॉक गार्डन में दोनों नेताओं की मुलाकात तय थी. मोदी वहां पहले पहुंचकर ओलांद का इंतजार करते दिखे. चंडीगढ़ की खूबसूरत सुखना झील के पास बने इस रॉक गार्डन की सैर पीएम मोदी ने खुद ओलांद को करवाई.

ये पहला मौका था जब चंडीगढ़ के सेक्टर 1 में मौजूद ये गार्डन किसी पीएम के दौरे का गवाह बन रहा था. इस रॉक गार्डन को नेक चंद ने बनाया था.

नेकचंद, ये नाम है उस शख्स का जिसने कबाड़ की मदद से 40 एकड़ की इस जमीन को रॉक गार्डन में बदल दिया था. नेकचंद साइकिल पर बेकार पड़ी ट्यूब लाइट्स, टूटी-फूटी चूडियों, प्लेट, चीनी के कप, फ्लश की सीट, बोतल के ढक्कन व किसी भी बेकार फेंकी गई चीजों को बीनते रहते थे और यहां इकट्ठा करते रहते थे. और धीरे-धीरे फुर्सत के लम्हों में नेकचंद ने फेंकी गई फ़ालतू चीज़ों से ऐसी उत्कृष्ट आकृतियों का निर्माण किया कि देखने वाले दंग रह जाते हैं.

हर साल इस गार्डन को देखने हजारों पर्यटक आते हैं. गार्डन में झरनों और जलकुंड के अलावा ओपन एयर थियेटर भी देखा जा सकता है, जहां कई तरह की सांस्कृतिक गतिविधियां होती रहती हैं. इसे बनाने वाले नेकचंद तो अब इस दुनिया में नहीं रहे लेकिन उनके बेटे अनुज जैन रॉक गार्डन में मोदी और ओलांद की मुलाकात से बेइंतहा खुश नजर आ रहे हैं.

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद के इस दौरे में पीएम मोदी से पहली मुलाकात के लिए चंडीगढ़ को इसलिए चुना गया, क्योंकि इस शहर का फ्रांस से पुराना नाता है. 50 साल पहले चंडीगढ़ शहर का निर्माण स्विस फ्रांसीसी आर्किटेक्ट ली कार्बूजिए ने किया था. भारत चाहता है कि फ्रांस अब चंडीगढ़ के स्मार्ट सिटी बनने में मदद करे.

क्यों है चंडीगढ़ खास?

 

50 साल पहले चंडीगढ़ शहर का निर्माण स्विस फ्रांसीसी आर्किटेक्ट ली कार्बूजिए ने किया था. ओलांद इस बार गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि हैं . इस बार राजपथ पर फ्रांस के सैनिकों की एक टुकड़ी भी मार्च करेगी . दोनों देशों में कई अहम समझौते भी हो सकते हैं .

दिल्ली से सिर्फ 266 किलोमीटर दूर पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ को द सिटी ब्यूटीफुल कहा जाता है. चंडीगढ़ को यूनेस्को में हेरिटेज शहर का दर्जा दिलवाने की कोशिश भी चल रही है.

चंडीगढ़ की खूबसूरत सुखना झील के पास बने रॉक गार्डन में मोदी और ओलांद ने 12 मिनट गुजारे.

चंडीगढ़- द सिटी ब्यूटीफुल
चौड़ी सड़कें और ऊंची इमारतें चंडीगढ़ की सबसे बड़ी खासियत हैं. पूरे शहर में पेड़ों की संख्या इतनी ज्यादा है कि आज भी चंडीगढ़ को ग्रीन शहर का दर्जा हासिल है. कहने वाले कहते हैं कि चंडीगढ की सरंचना मानव शरीर की तरह की गई जैसे सबसे ऊपर दिमाग यानी हाईकोर्ट और विधानसभा सचिवालय को सर बनाया गया और सेक्टर 17 को शहर का दिल. और इस शहर में जान फूंकने वाले थे ली कार्बूजिए…स्विस फ्रेंच आर्किटेक्ट. इसी साल 11 नवंबर को इस शहर को बने हुए 50 साल पूरे हो जाएंगे.

rock garden

फ्रांस के राष्ट्रपति ओलांद ने अभी तक फ्रैंच आर्कीटैक्ट ली कार्बूजिए के बनाए चंडीगढ़ को फोटो या वीडियो के जरिए ही देखा होगा लेकिन अब उन्होंने अपने आर्किटेक्ट का हुनर अपनी आंखों से देखा. कार्बूजिए की एक खासबात यह थी कि उन्होंने जो भी बनाया उसमें हमेशा आम आदमी को ध्यान में रखा. वह चाहते थे कि शहर में रहने वाले हर व्यक्ति को बेहतर सुविधाएं मिले और सेक्टर्स में मार्केट, हॉस्पिटल, लेक और कैपिटल कॉम्पलैक्स इसी की एक मिसाल है.

चंडीगढ़ के क्रिएटर स्विस फ्रांसीसी आर्किटेक्ट ली कार्बूजिए ने स्विटजरलैंड में अपने होमटाउन ‘लॉ-शी-दे-फॉन्द’ में पहली बिल्डिंग अपने माता-पिता के लिए डिजाइन की थी. वहां लोग इसे व्हाइट हाउस के नाम से जानते हैं. कार्बूजिए ने सूरज की मूवमेंट के हिसाब से ये घर बनाया था. उनका यही हुनर चंडीगढ़ शहर की डिजाइनिंग में भी देखने को मिलता है.

भारत फ्रांस के बीच आतंकवाद के अलावा और मुद्दों पर भी समझौता होने की उम्मीद है. इसमें नाभिकीय समझौता सौदा, ऊर्जा संरक्षण, बायो टेक्नोलॉजी रिसर्च सेंटर जैसे क्षेत्रों में करार हो सकता है. खास बात ये है कि भारत और फ्रांस के बीच फुटबॉल और हॉकी जैसे खेल क्षेत्रों में सहयोग पर भी समझौता होने के आसार हैं लेकिन सूत्रों की माने तो इस दफा भी राफेल डील को लेकर आखिरी समझौते की उम्मीद फिलहाल कम ही है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: narendra modi francis holland to meet today
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017