बिहार में बोले पीएम- कई ऐसे नेता हैं जिनकी सोच ने देश का भारी नुकसान किया

बिहार में बोले पीएम- कई ऐसे नेता हैं जिनकी सोच ने देश का भारी नुकसान किया

मोदी ने कहा कि ब्रिटिश काल के दौरान, ‘जब हमारे पास शानदार जलमार्ग था, मोकामा को ‘मिनी कोलकाता’ के नाम से जाना जाता था. हमें उस खोये हुए गौरव को पुराने रूप में लाना होगा.’

By: | Updated: 14 Oct 2017 10:40 PM
मोकामा ( बिहार): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि उनकी सरकार योजनाओं को निर्धारित समय-सीमा के भीतर लागू करना सुनिश्चित करती है, जबकि पहले चुनाव के समय योजनाओं की घोषणा की जाती थी और फिर उन्हें भुला दिया जाता था.

मोदी ने ‘कई नेताओं की सोच की निंदा की’ जो यह मानते हैं कि सड़क जैसी परियोजनाएं गरीबों के लिये नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘हम इस बात की कल्पना नहीं कर सकते कि इस सोच ने किस हद तक देश को नुकसान पहुंचाया है.’ प्रधानमंत्री बिहार की राजधानी से तकरीबन 100 किलोमीटर दूर मोकामा में राजमार्ग और सीवेज शोधन जैसी विकास परियोजनाएं शुरू करने के बाद सभा को संबोधित कर रहे थे.

बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और रामविलास पासवान भी कार्यक्रम में उपस्थित थे. मोदी ने अपना 30 मिनट का भाषण मगही में शुरू किया और मोकामा के लोगों की तारीफ की. उन्होंने शहर के पौराणिक योद्धा मुनि परशुराम के साथ इस शहर के संबंधों को याद किया.

उन्होंने कवि रामधारी सिंह दिनकर और बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्री कृष्ण सिंह के योगदान को याद किया. उन्होंने इस बात को रेखांकित किया कि वे बेगूसराय के रहने वाले थे. अंतर्देशीय जल परिवहन को प्रोत्साहन देने के लिये अपनी सरकार की प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए मोदी ने कहा कि ब्रिटिश काल के दौरान, ‘जब हमारे पास शानदार जलमार्ग था, मोकामा को ‘मिनी कोलकाता’ के नाम से जाना जाता था. हमें उस खोये हुए गौरव को पुराने रूप में लाना होगा.’ उन्होंने कहा, ‘मेरी सरकार बेहतर सड़क, रेल और इंटरनेट कनेक्टिविटी, बिजली कनेक्शन और सबको पेयजल प्रदान करने के लिये अथक काम कर रही है. हमने इन खास लक्ष्यों को ध्यान में रखकर कई योजनाएं शुरू की हैं.’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ‘एक रोडमैप तैयार करके योजनाएं शुरू करती है’ और ‘तय समय-सीमा के भीतर कार्यान्वयन सुनिश्चित करती है’ जबकि अतीत की सरकारों की आदत चुनाव के समय परियोजनाओं की घोषणा करने की थी, जिन्हें बाद में भुला दिया जाता था.’ 19 अक्तूबर को दिवाली और बिहार के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार छठ की शुभकामना देते हुए मोदी ने कहा, ‘एक बार गंगा प्रदूषण मुक्त हो जाएगी तो छठ मनाने में वास्तव में खुशी होगी.’ गंगा की सफाई के लिये सरकार ने ‘नमामि गंगे’ परियोजना शुरू की है.

मोदी ने भारत के सड़क नेटवर्क का विस्तार करने के लिये गडकरी की सराहना की. गडकरी सड़क एवं परिवहन मंत्री हैं. उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भी ‘उनके सहयोग और केंद्र द्वारा शुरू की गई पहल के लिये उनकी चिंता’ के लिये सराहना की.

कुमार ने मोदी से अनुरोध किया कि वह भागलपुर में गंगा पर बने ‘विक्रमशिला सेतु’ के समानांतर पुल बनाने जैसी महत्वपूर्ण परियोजनाएं शुरू करें और बक्सर को वाराणसी से सीधे तौर पर जोड़ने वाली सड़क परियोजना शुरू करें. वाराणसी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है.

उन्होंने मोकामा के साथ अपने संबंधों को भी याद किया. मोकामा एक समय बाढ़ संसदीय क्षेत्र का हिस्सा था. बाढ़ संसदीय क्षेत्र का उन्होंने लोकसभा में कई बार प्रतिनिधित्व किया था.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पिछले 27 वर्षों में यह पहला मौका है जब केंद्र और बिहार दोनों जगह एक ही गठबंधन की सरकार है. सुशील मोदी ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के शब्दों में बिहार को विकास की राह पर आगे ले जाने के लिये अब दो इंजन हैं.’ इससे पहले दिन में प्रधानमंत्री ने पटना विश्वविद्यालय के 100 साल पूरे होने पर आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया. वह बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के थोड़े समय के लिये बिहार संग्रहालय भी गए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात और हिमाचल में जीतने के बाद 2019 का प्लान बनाने में जुटी बीजेपी