2019 से पहले किसानों पर मोदी सरकार की नजर, 50 हजार करोड़ के फंड का एलान संभव | Narendra Modi may announce 50 thousand crores fund for farmers, minimum support price news

2019 से पहले किसानों पर मोदी सरकार की नजर, 50 हजार करोड़ के फंड का एलान संभव

सूत्रों के मुताबिक़ कृषि मंत्रालय के इस प्रस्ताव पर वित्त मंत्रालय से चर्चा हो चुकी है और इसपर इसी हफ्ते कैबिनेट की मुहर लग सकती है. फंड का इस्तेमाल न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम में ख़रीद होने पर किसानों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए किया जाएगा.

By: | Updated: 09 Apr 2018 10:09 PM
Narendra Modi may announce 50 thousand crores fund for farmers, minimum support price news

नई दिल्ली: 2019 आम चुनाव से ठीक पहले नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के लिए एक बड़ा कदम उठाने जा रही है. बजट में न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागत से डेढ़ गुना करने के ऐलान को मूर्तरूप देने के लिए सरकार 50 हजार करोड़ रुपये के फंड बनाने का फ़ैसला कर सकती है. इस हफ्ते बुधवार को होने वाली बैठक में इसे कैबिनेट की मंज़ूरी मिल सकती है. किसानों से अनाज ख़रीदने के लिए प्राइवेट कंपनियों को भी शामिल किए जाने की योजना है.


किसानों के लिए ख़ज़ाना खोलेगी मोदी सरकार


किसानों और खेती के मोर्चे पर आलोचना झेल रही मोदी सरकार किसानों के लिए खजाना खोलने का फ़ैसला कर सकती है. एबीपी न्यूज़ को मिली एक्सलूसिव जानकारी के मुताबिक किसानों को कम से कम 50 फीसदी मुनाफ़ा दिलाने के लिए सरकार ने 50000 करोड़ रूपये का एक फंड बनाने का फ़ैसला किया है. इस फंड का मक़सद किसानों को उनकी अनाज़ का सही मूल्य दिलाना सुनिश्चित करना है. सूत्रों के मुताबिक़ कृषि मंत्रालय के इस प्रस्ताव पर वित्त मंत्रालय से चर्चा हो चुकी है और इसपर इसी हफ्ते कैबिनेट की मुहर लग सकती है. फंड का इस्तेमाल न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम में ख़रीद होने पर किसानों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए किया जाएगा.


सरकार का फोकस इस बात पर ज़्यादा है कि किसानों को कम से कम समर्थन मूल्य जितना दाम ज़रूर मिल सके. क्योंकि होता ये है कि जो समर्थन मूल्य घोषित किया भी जाता है किसान को अपनी फ़सल का वो दाम भी नहीं मिल पाता है और उसे अपनी फ़सल औने पौने दामों पर बेचनी पड़ती है.


मंत्रीसमूह ने दी है मंज़ूरी


गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में इस मसले पर बने मंत्रीसमूह ने इस योजना को अंतिम रूप दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक़ मंत्रीसमूह ने किसानों से अनाज ख़रीदने के लिए तीन विकल्पों को मंज़ूरी दी है.




  1. बाज़ार गारंटी स्कीम (Market Assurance Scheme)- आमतौर पर प्रचलित विकल्प जिसमें केंद्र और राज्य सरकार की एजेंसियां जैसे एफसीआई किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अनाज ख़रीदती हैं.

  2. मूल्य न्यूनता ख़रीद स्कीम (Price Deficiency Procurement Scheme)- ये मध्य प्रदेश में पहले से लागू भावान्तर भुगतान योजना जैसी स्कीम है. इसके तहत अगर फ़सल का दाम न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम होगा तो समर्थन मूल्य और फ़सल के दाम के अंतर का भुगतान सरकार करेगी.

  3. निजी ख़रीद और स्टॉक स्कीम (Private Procurement & Stockist Scheme)- चूंकि पहला दोनों स्कीम सरकार से जुड़ा है इसलिए सरकार अनाज की ख़रीद में निजी कंपनियों को भी शामिल करना चाहती है. राज्य सरकारें फ़सलों के दाम समर्थन मूल्य से नीचे जाने की हालत में कुछ चुनिंदा निजी कंपनियों को अनाज ख़रीदने की इजाज़त दे सकती हैं. कंपनियों को टैक्स में छूट और कमीशन देने की व्यवस्था की जाएगी.


इसका फ़ैसला राज्यों पर छोड़ा जाएगा कि वो अपनी ज़रूरत के मुताबिक़ किस विकल्प को चुनते हैं. वहीं कृषि मंत्रालय ने किसानों से गेहूं और धान के अलावा मोटे अनाज को भी किसानों से ख़रीदने का फ़ैसला किया है.


समर्थन मूल्य का निर्धारण है चुनौती


हालांकि सरकार के लिए असली चुनौती है न्यूनतम समर्थन मूल्य का निर्धारण. बजट में तो सरकार ने फ़सल की लागत से कम से कम डेढ़ गुना ज़्यादा समर्थन मूल्य देने का वादा किया है लेकिन ज़्यादातर किसान संगठन और जानकार समर्थन मूल्य के निर्धारण के फॉर्मूले को लेकर सरकार से सहमत नहीं दिखते हैं. जैसे कि, किसान संगठन इस बात को लेकर दबाव बना रहे हैं कि कृषि लागत की गणना में खेती वाली भूमि पर दिया जाने वाला किराया भी शामिल किया जाए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Narendra Modi may announce 50 thousand crores fund for farmers, minimum support price news
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जानें- देश में करेंसी संकट के पीछे कांग्रेस की साजिश का सच