पहले दिन ही भारत ने फ्रांस के साथ किए कई अहम समझौते

By: | Last Updated: Saturday, 11 April 2015 12:57 AM

पेरिस: भारत, फ्रांस से जितनी जल्द संभव हो, उड़ान भरने के लिए तैयार 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदेगा. इस बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलोंद 126 राफेल लड़ाकू विमान के लिए काफी लंबे समय से अटकी वार्ता से अलग हट कर इस सौदे पर अंतर सरकार समझौता करने पर सहमत हुए.

 

भारत-फ्रांस सामरिक संबंधों को नये स्तर पर ले जाते हुए मोदी और ओलोंद ने महाराष्ट्र में रूके हुए जैंतापुर परमाणु परियोजना पर आगे बढ़ने पर भी सहमति व्यक्त की. इस आशय की घोषणा एलिसी पैलेस में शिखर स्तर की बातचीत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलोंद के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में की.

 

मोदी ने कहा, ‘‘भारत में लड़ाकू विमानों की परिचालन संबंधी महत्वपूर्ण जरूरतों को ध्यान में रखते हुए मैंने उनसे (ओलोंद) बातचीत की और आग्रह किया कि सरकार से सरकार के स्तर पर सौदे के तहत उड़ान भरने के लिए तैयार स्थिति लायक 36 राफेल लड़ाकू विमान जितनी जल्दी हो सके, मुहैया करायें.’’

 

मोदी ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दोनों देशों ने तय किया है कि भारत को राफेल लड़ाकू विमान परिवर्तित शर्तों पर प्राप्त होंगे. बातचीत के बाद जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि दोनों नेताओं ने विमानों की आपूर्ति के लिए अंतर सरकारी समझौते पर उस शर्त पर सहमति व्यक्त की जो अब तक इस बारे में अलग से चल रही प्रक्रिया से बेहतर होगा.

 

इसका आशय 12 अरब डॉलर कीमत से 126 राफेल लड़ाकू विमानों के सौदे की बिक्री के संबंध में 2012 से जारी वार्ता से था.  संयुक्त बयान में कहा गया है, ‘‘इसकी आपूर्ति समयसीमा के भीतर होगी और यह भारतीय वायु सेना की परिचालनात्मक जरूरतों के अनुरूप होगा. विमान और इससे जुड़ी प्रणाली और हथियार उन्हीं विन्यासों पर होंगे जिसे भारतीय वायु सेना ने मंजूर किया था और जो फ्रांस की ओर से लम्बी अवधि के रख-रखाव जवाबदेही के साथ होगा.”

 

भारत और फ्रांस के बीच 12 अरब डॉलर मूल्य के 126 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद के लिए पिछले तीन सालों से बातचीत चल रही थी. राफेल लड़ाकू विमान के बारे में बातचीत इसकी कीमत और डेसाल्ट एविएशन की ओर से सरकारी स्वामित्व वाले हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड द्वारा बनाये जाने वाले 108 विमानों के लिए गारंटी देने में हिचकिचाहट के कारण फंसी हुई थी.

 

‘मेक इन इंडिया’ को मुख्य विषय मानते हुए दोनों पक्षों ने असैन्य परमाणु, शहरी विकास, रेलवे और अंतरिक्ष जैसे क्षेत्रों में करीब 20 समझौतों पर हस्ताक्षर किए जिसमें महाराष्ट्र के जैतापुर में रूकी हुई परमाणु परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए एक समझौता शामिल है.

 

डेसाल्ट एविएशन के अध्यक्ष एवं सीईओ एरिक ट्रैपियर ने कहा, ‘‘जिस तरह से हम पहले उन्नत मिराज-2000 विमान की आपूर्ति कर रहे हैं, हमें इस बात की प्रसन्नता है कि भारतीय प्रशासन ने हमारे संबंधों को अगले दशक के लिए नई गति प्रदान की है और भारत एवं फ्रांस के बीच सामरिक संबंधों की गुंजाइश आगे बढ़ी है.’’

 

इससे पहले, दिन में मोदी ने रक्षा क्षेत्र से जुड़े फ्रांसिसी कंपनियों के सीईओ से मुलाकात की और उन्होंने भारत में प्रौद्योगिकी एवं औद्योगिक परियोजनाएं स्थापित करने में रूचि दिखाई. जैतापुर परियोजना के संबंध में मोदी ने कहा, ‘‘हमने प्रगति की है.’’

 

संयुक्त बयान में कहा गया है कि दोनों नेताओं ने अपने वाणिज्यिक उद्यमों को जैतापुर में 1650-1650 मेगावाट क्षमता के छह परमाणु संयंत्र स्थापित करने के प्रस्ताव पर चर्चा को जल्द समाप्त करने को प्रोत्साहित किया जिसमें परियोजना की व्यवहार्यता (प्रैक्टिकैलिटी) और बड़े एवं महत्वपूर्ण विषयों पर महात्वाकांक्षी सहयोग के दायरे में होगा.

 

इसमें कहा गया है कि फ्रांस की कंपनी अरीवा के साथ लार्सन एवं टर्बो के बीच एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये गए जो हमारे औद्योगिक सहयोग के दायरे को बढाने के साथ पूर्व अभियांत्रिकी अध्ययन समझौते को अंतिम रूप देगा.

 

बयान के अनुसार, ‘‘दोनों नेताओं ने परमाणु उर्जा प्रतिष्ठानों के संदर्भ में भारत फ्रांस असैन्य परमाणु सहयोग के भविष्य के लिए महत्वाकांक्षी आधारशिला रखने की बात कही जिसमें असैन्य परमाणु दायित्व समेत कई अन्य विषय शामिल हैं.’’

 

जैतापुर परियोजना के तहत फ्रांस की कंपनी अरीवा छह परमाणु संयंत्र स्थापित करेगी जिससे करीब 10 हजार मेगावाट क्षमता का बिजली उत्पादन होगा. यह परियोजना बिजली की दर को लेकर मतभेद के कारण काफी समय से रूकी हुई थी.

 

भारत के लार्सन एंड टर्बो और फ्रांस की अरीवा के बीच समझौता स्थानीयकरण के जरिये लागत कम करने के उद्देश्य से किया गया ताकि जैतापुर परियोजना की वित्तीय व्यवहार्यता को बेहतर बनाया जा सके.

 

एक अन्य समझौता एनपीसीआईएल और अरीवा के बीच पूर्व अभियांत्रिकी सहमति के तहत अध्ययन को लेकर हुआ जिसका उद्देश्य संयंत्र के सभी तकनीकी आयामों को लेकर स्पष्टता लाना है ताकि अरीवा, एलस्टाम और एनपीसीआईएल समेत सभी पक्ष कीमत को उचित बनाने के साथ जोखिम से जुड़े सभी प्रावधानों को उन्नत बना सके.

 

इससे भारत में स्वदेशी परमाणु उर्जा उद्योग के विकास एवं प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को सुगम बनाया जा सकेगा. फ्रांस ने भारत को अपने उस निर्णय के बारे में सूचित किया जिसमें भारतीय पर्यटकों के लिए 48 घंटे में शीघ्र वीजा देने की योजना लागू करने की बात कही गई है.

 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जहां भारत और फ्रांस सहयोग नहीं कर रहे हों. फ्रांस, भारत के महत्वपूर्ण मित्रों में शामिल है.’’ फ्रांस ने भारत में 2 अरब यूरो (करीब 1 अरब डालर) निवेश करने की घोषणा की, वहीं मोदी ने फ्रांस की कंपनियों से तेजी से आगे बढ़ रही अर्थव्यवस्था में धन लगाने को आमंत्रित किया.

 

ओलोंद ने सीईओ फोरम में घोषणा की कि फ्रांस, भारत में 2 अरब यूरो निवेश करेगा. फ्रांस के निवेशकों को आमंत्रित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘भारत से बड़ा कोई अन्य बाजार नहीं है. यह पिछले छह महीने में तेजी से वृद्धि दर्ज करने वाली अर्थव्यवस्था हो गई है. विश्व बैंक, मूडी जैसी अन्य एजेंसियों ने एक स्वर से कहा है कि भारत सबसे तेज गति से बढ़ता राष्ट्र है.’’

 

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ऐसा देश पाना दुर्लभ है जहां सरकार विकास को प्रतिबद्ध हो साथ ही आबादी का लाभ भी हो. निवेशक आमतौर पर बौद्धिक संपदा की सुरक्षा को लेकर चिंतित रहते हैं. केवल भारत जैसा लोकतंत्र ही इसकी गारंटी दे सकता है.’’

 

सीईओर फोरम को संबोधित करते हुए ओलोंद ने कहा, ‘‘हम फ्रांस की कंपनियों के जरिये भारत में सतत विकास के लिए 2 अरब यूरो का सहयोग देने को तैयार हैं.’’

 

उन्होंने कहा कि फ्रांस, भारत में रेलवे, शहरी आधारभूत ढांचे के विकास, रक्षा और परमाणु क्षेत्र में सहयोगी बनेगा. दोनों पक्षों ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक समझौते पर हस्ताक्षर किया जिसके तहत वे संयुक्त रूप से ग्रहों से संबंधित अभियान पर आगे बढ़ेंगे.

 

फ्रांस के राष्ट्रपति के रक्षा क्षेत्र में, विशेष तौर पर ‘मेक इन इंडिया’ पहल का समर्थन करने का जिक्र करते हुए मोदी ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दोनों देशों ने तय किया है कि भारत को राफेल लड़ाकू विमान परिवर्तित शर्तो पर प्राप्त होंगे.

 

उन्होंने कहा, ‘‘आज हम भारत और फ्रांस के बीच रक्षा सहयोग को नये स्तर तक ले गए हैं.’’ मोदी ने कहा, ‘‘मेरी राष्ट्रपति ओलोंद से काफी अच्छी बातचीत हुई. हमारा रक्षा सहयोग काफी पुराना है. रक्षा उपकरण और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में फ्रांस हमारा भरोसेमंद आपूर्तिकर्ता रहा है. लड़ाकू विमान से लेकर पनडुब्बी तक हमारे संबंध सर्वोपरि रहे हैं.’’

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि परमाणु बिजली के क्षेत्र में फ्रांस हमारा अहम साझेदार रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि जैतापुर में हमने छह परमाणु बिजली परियोजना स्थापित करने पर प्रगति की है. दोनों ने बिजली उत्पादन की लागत कम करने और अधिक तकनीकी सहयोग एव आगे अध्ययन के बारे में समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.’’

 

मोदी ने कहा कि विशेष तौर पर अरीवा तथा एल एंड टी ने भारत में संयंत्र लगाने की सहमति पर हस्ताक्षर किये हैं. ‘‘मैं महासूस करता हूं कि यह समझौता काफी महत्वपूर्ण होगा और ‘मेक इन इंडिया’ के लिए उत्तम उदाहरण होगा और अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत को नये मुकाम पर ले जायेगा.’’

 

मोदी ने कहा कि दुनिया में चुनौतिपूर्ण माहौल है और विभिन्न क्षेत्रों में अशांति की स्थिति है जिसके कारण सभी प्रभावित हो रहे हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ बदलती दुनिया में स्थिरता को लेकर कई अनिश्चित सवाल हैं.’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘आतंकवाद फैल रहा है और नया आकार ले रहा है. इस चुनौती से विभिन्न रूपों में निपटा जा रहा है और इससे निपटने के लिए व्यापक रणनीति बनाया जाना चाहिए. चाहे पेरिस हो या मुम्बई, भारत और फ्रांस एक दूसरे को समझते हैं.’’

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह प्रत्येक देश की जिम्मेदारी है कि वह आतंक के खिलाफ लड़ाई में सहयोग करे और किसी आतंकी समूह को पहना नहीं रहे तथा जितनी जल्दी संभव हो, आतंकवादियों को दंडित करे.

 

उन्होंने कहा, ‘‘भारत और फ्रांस इन चुनौतियों के प्रति समान विचार रखते हैं और इसलिए हम सुरक्षा संबंध को और मतबूत बना रहे हैं.’’

 

यह भी पढ़ें:

सीन नदी में पीएम मोदी और ओलांद ने की ‘नाव पर चर्चा’

भारत में 2 अरब यूरो निवेश करेगा फ्रांस, स्पेस, रेलवे सहित कई अहम समझौते 

मोदी ने ‘मेक इन इंडिया’पहल की पेशकश के साथ फ्रांस के उद्यमियों को न्योता दिया  

डिजिटल इंडिया से सहभागी, पारदर्शी सरकार बनेगी: मोदी 

सरकार सभी ‘धर्मों’ के नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करेगी: मोदी 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Narendra Modi_France_PM narendramodi undertakes Naav pe charcha with French Prez on river Seine
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017