नेशनल हेरल्ड केस: पेशी का समन रद्द करने की राहुल, सोनिया की अर्जी पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई

By: | Last Updated: Tuesday, 5 August 2014 1:59 AM

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष सोनिया और राहुल गाँधी के खिलाफ दायर नेशनल हेरल्ड केस में दिल्ली हाईकोर्ट में आज सुनवाई होगी. पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने केस दायर करने वाले सुब्रमण्यम स्वामी को जवाब देने के लिए नोटिस जारी किया था.

 

नेशनल हेरल्ड केस में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने सोनिया, राहुल को पेशी का समन दिया था, जिसे राहुल-सोनिया ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है. सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर कांग्रेस पार्टी के फंड का व्यावसायिक इस्तेमाल का आऱोप है.

 

हेराल्ड केस: सुब्रमण्यम स्वामी को मिला नोटिस, अगली सुनवाई 5 अगस्त को

 

पिछली सुनवाई से पहले सोनिया गांधी ने इस मुद्दे पर कुछ भी बोलने से इनकार किया.

 

जब एबीपी न्यूज़ ने सोनिया गांधी से इस केस के सिलसिले में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि ये मामला अदालत में है इसलिए वह इस पर कुछ नहीं बोलेंगीं.

 

आपको बता दें कि इससे पहले सोनिया गांधी ने इस मुद्दे को पोलिटिकल विच हंटिंग करार दिया था.

 

प्रवर्तन निदेशालय ने नेशनल हेराल्ड केस में प्रारंभिक जांच का मामला दर्ज किया है. ये वही केस है जिसमें सोनिया और राहुल गांधी पर पार्टी फंड का व्यापारिक गतिविधियों में इस्तेमाल का आरोप है.

 

नेशनल हेराल्ड केस में इनकम टैक्स का नोटिस बदले की कार्रवाई: सोनिया

 

प्रवर्तन निदेशालय इस बात की जांच करेगा कि कहीं इस मामले में प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट या फेमा के किसी प्रावधान का उल्लंघन तो नहीं हुआ है. अगर प्रारंभिक जांच में ऐसा कोई उल्लंघन पाया गया तो केस दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी.

 

क्या है मामला?

आपको बता दें कि दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी, ऑस्कर फर्नांडीस, मोतीलाल वोरा, सुमन दुबे और सैम पित्रोदा को 7 अगस्त को कोर्ट में पेश होने के लिए समन जारी किया था.

 

याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने फर्जीवाड़ा करके नेशनल हेरॉल्ड की संपत्ति पर कब्जा किया है. स्वामी ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर पार्टी फंड का निजी हित में इस्तेमाल का आरोप लगाया है.

 

आपको बता दें कि कांग्रेस के सोनिया और राहुल समेत कुछ नेताओं पर आरोप है कि नवंबर, 2012 में नेशनल हेराल्ड के प्रकाशक एसोसिएट जर्नल को 90 करोड़ रुपये का ब्याज रहित कर्ज दिया गया था और नियमों के मुताबिक राजनैतिक पार्टी इस तरह का कर्ज नहीं दे सकती.

 

नेशनल हेराल्ड समाचार पत्र की स्थापना 1938 में भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने की थी. यह 2008 में बंद हो गया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: national_herald_case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017