साइबर स्पेस को आतंकवाद और कट्टरपंथ का मैदान बनने से रोके सभी देश: पीएम मोदी

साइबर स्पेस को आतंकवाद और कट्टरपंथ का मैदान बनने से रोके सभी देश: पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि सभी देशों को यह जिम्मेदारी लेना सुनिश्चित करना चाहिए कि डिजिटल स्पेस आतंकवाद और कट्टरपंथ की अंधकारपूर्ण ताकतों का मैदान नहीं बनना चाहिए.

By: | Updated: 23 Nov 2017 04:30 PM
Nations need to share information to counter cyber threat: PM Modi

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने साइबर स्पेस को आतंकवाद और कट्टरपंथ का मैदान बनने के खतरे को रोकने के लिये दुनिया के देशों के बीच सूचना के आदान प्रदान और समन्वय स्थापित करने की अपील की. उन्होंने कहा कि निजता और राष्ट्रीय सुरक्षा के बीच बारीक संतुलन बनाया जा सकता है.


लोकतांत्रिक विश्व में साइबर हमला बड़ा खतरा- पीएम मोदी


वैश्विक साइबर स्पेस सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘’इंटरनेट अपने आप में समावेशी प्रकृति का है. लेकिन खुले और सुलभ इंटरनेट की खोज अक्सर खतरे को बुलावा देती है. वेबसाइट की हैकिंग और उसे विकृत बनाने की खबरें तो छोटी बात हैं. इनसे स्पष्ट होता है कि साइबर हमले एक बड़ा खतरा हैं विशेष तौर पर लोकतांत्रिक विश्व में. हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हमारे समाज के संवेदनशील वर्ग साइबर अपराधियों के दुष्ट साजिशों के जाल में नहीं फंसें. हमें इसके लिये सजग रहने की जरूरत है.’’


पीएम मोदी ने कहा कि इसके लिए इस बात पर काफी ध्यान देने की जरूरत है कि साइबर खतरों से निपटने के वास्ते हमारे पास अच्छी तरह से प्रशिक्षित और सक्षम पेशेवर हों.


साइबर हमले में प्रभावित हुए तीन लाख कम्प्यूटर


उल्लेखनीय है कि इस साल मई और जून में वैश्विक स्तर पर साइबर हमले में तीन लाख कम्प्यूटर प्रभावित हुए. इसके कारण बैंकों, बहुराष्ट्रीय कंपनियों और कई प्रतिष्ठानों का कामकाज बाधित हुआ. उन्होंने कहा कि ‘हैकिंग’ शब्द ने आज रोमांचक रूप ले लिया है, हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि साइबर सुरक्षा हमारे युवाओं के कैरियर के लिये आकर्षक और व्यवहार्य विकल्प बने.


पीएम मोदी ने कहा कि इसी के साथ सभी देशों को यह जिम्मेदारी लेना सुनिश्चित करना चाहिए कि डिजिटल स्पेस आतंकवाद और कट्टरपंथ की अंधकारपूर्ण ताकतों का मैदान नहीं बनना चाहिए. सूचनाओं का आदान प्रदान और सुरक्षा एजेंसियों के बीच तालमेल इस खतरे के सतत रूप से बदलते स्वरूप से निपटने के लिये महत्वपूर्ण है.


डिजिटल स्पेस आतंकवाद और कट्टरपंथ का मैदान नहीं बने- पीएम मोदी


प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि देशों को इस बात की जिम्मेदारी लेना सुनिश्चित करना चाहिए कि डिजिटल स्पेस आतंकवाद और कट्टरपंथ का मैदान नहीं बने. साइबर योद्धाओं को ऐसे साइबर हमलों के प्रति सतर्क रहने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि इस खतरे के सतत रूप से बदलते स्वरूप से निपटने के लिये सुरक्षा एजेंसियों के बीच सूचनाओं का आदान प्रदान और समन्वय करना जरूरी है.


राष्ट्र की सुरक्षा मजबूत करेंगे- पीएम मोदी


दुनिया के अनेक देशों के प्रतिनिधियों एवं साइबर विशेषज्ञों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर एक तरफ हम निजता और खुलेपन के बीच बारीक संतुलन बनाने के साथ साथ दूसरी तरफ राष्ट्र की सुरक्षा मजबूत कर सकेंगे. इसके अलावा हम एकसाथ मिलकर वैश्विक और मुक्त व्यवस्था और हर देश से जुड़ी कानूनी जरूरतों के विषय पर हमारे मतभेदों को दूर कर सकेंगे.


पीएम मोदी ने कहा कि सरकार डिजिटल पहुंच के माध्यम से लोगों का सशक्तिकरण करने के लिए प्रतिबद्ध है और आधार की मदद से सब्सिडी को लक्षित लोगों तक बेहतर तरीके से पहुंचाने से दस अरब डालर की राशि बचाने में मदद मिली है.


पीएम मोदी ने जन धन बैंक अकाउंट, आधार प्लेटफार्म पर जोर दिया


प्रधानमंत्री ने सम्मेलन में जन धन बैंक अकाउंट, आधार प्लेटफार्म और मोबाइल माध्यम पर जोर दिया और कहा कि इससे भ्रष्टांचार को कम कर पारदर्शिता लाने में मदद मिल रही है. मोदी ने डिजिटल माध्यम और प्रौद्योगिकी की सराहना करते हुए कहा कि प्रौद्योगिकी हर बाधा को तोड़ती है. सरकार डिजिटल पहुंच के माध्यम से लोगों का सशक्तिकरण करने के लिए प्रतिबद्ध है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Nations need to share information to counter cyber threat: PM Modi
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ABP न्यूज से बोले राहुल गांधी, 'एकतरफा चुनाव में कांग्रेस की होगी बड़ी जीत, नतीजों से चौकेगी BJP'