'भारत में जीना है तो उसे शादी करना ही होगा'

By: | Last Updated: Saturday, 9 May 2015 2:20 PM
Neena Gupta: I want to tell all women that if you want to live in India and in society, you have to marry

नई दिल्ली: इंडिया जैसे देश में अगर किसी महिला को समाज में जीना है तो उसे शादी करना ही होगा. यह हम नहीं कह रहें है बल्कि ऐसा बॉलीवुड की जानी-मानी एक्ट्रेस और फेम गर्ल नीना गुप्ता का मानना है.

 

इंडिया की जानी मानी फैशन डिजाइनर 26 साल की मसाबा गुप्ता, नीना की ही बेटी हैं जिन्हें आज से 27 साल पहले समाज की परवाह ना करते हुए और एक बोल्ड डिसिजन लेते हुए नीना ने जन्म दिया था.

 

दुनिया के दिग्गज क्रिकेटरों में से एक और वेस्टइंडिज के धुरंधर बल्लेबाज विवियन रिचर्डस के साथ रिलेशनशिप में रहने और प्रेग्नेंट होने पर एक बोल्ड डिसिजन लेते हुए एक बच्ची को जन्म देने वाली नीना गुप्ता और उनकी बेटी मसाबा गुप्ता ने हाल ही में बांम्बे टाइम्स से बातचीत की और अपनी बातें खुलकर लोंगो के सामने रखी. पेश है उसकी एक झलक…

 

नीना से जब यह पूछा गया कि आज से 27 साल पहले आपने एक बोल्ड डिसिजन लेते हुए मसाबा को जन्म दिया था उस वक्त आपको ऐसा करने के लिए किस चीज ने ज्यादा मजबूर किया था?

 

इस सवाल के जवाब में नीना ने कहा कि मैं यह जानती हूं कि लोग उस समय मुझसे यह कह रहे थे कि ‘अरे तुमने क्या किया?’ लेकिन इंडिया में ऐसी कई गरीब महिलाएं है जिन्हें सिंगल मदर बनने के लिए मजबूर किया जाता है. उनमें और मुझमें सिर्फ इतना ही फर्क है कि मैनें इसे अपनी इच्छा से किया और उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर किया जाता है.

 

नीना ने आगे बताया कि हालांकि यह बहुत कठिन था और मैं खुद ऐसा करना चाहती थी इसके बावजूद मैनें हमेशा लोंगो से यही कहा कि यह मेरा गलत डिसिजन था क्योंकि किसी बच्चे को अकेले पालना एक बहुत ही चुनौती पूर्ण काम होता है.

 

उन्होंने कहा आगे कहा –  आप अपनी इच्छा और अपनी सनक के लिए एक बच्चे को परेशानियों में डाल देते हो. बच्चों को इस तरह के फैमिली की आवश्यकता नहीं होती है. चूंकि मैं काम करने वाली थी और मैंने केवल इसी वजह से शादी भी नहीं की क्योंकि मैं अपनी बच्ची की सिंबलिंग बनना चाहती थी. मेरे दोस्तों ने मुझसे कहा कि ऐसा मत करो लेकिन मैं यंग थी और मेरे अंदर काफी जोश था इसलिए मैनें ऐसा किया.

 

अपने इस फैसले पर उन्होंने कहा – मैने ऐसा महसूस किया कि यह मेरे लिए काफी कठिन था लेकिन इसके बावजूद मैने अपना बेस्ट किया लेकिन इसके चलते मुझे खराब फिल्में करनी पड़ी क्योंकि मुझे उसकी देखभाल के लिए पैसों की जरुरत थी. मैने अपनी मां को कैंसर के चलते खो दिया था. इसलिए जब मसाबा का जन्म हुआ मेरे पिता ने पुरानी दिल्ली को छोड़ा दिया और मेरे साथ रहने के लिए मुंबई चले आएं और वह घर के मुखिया बने रहे जब तक की वह आज से 5 साल पहले उनका निधन नहीं हो गया.

 

नीना से जब यह पूछा गया कि उनकी लाइफ का सबसे भावुक पल कौन सा था?

 

इस सवाल के जवाब में नीना ने कहा कि जब मेरे वर्तमान पति और मैं उस कगार पर खड़े थे जब हम अलग होने वाले थे वह पल हमारे लिए सबसे भावुक पल था क्योंकि हम दोनों एक-दूसरे को पिछले 14 सालों से अच्छी तरह से जानतें थे लेकिन हमनें सिर्फ 5 साल पहले ही शादी की थी.

 

मैं अपने पिता और मसाबा के साथ बिना उसकी शादी किए हुए दिल्ली शिफ्ट हुई थी. मुझे चिकनपॉक्स हुआ था और उसी समय मैनें यह डिसाइड किया और मैं यह हर महिला से कहना चाहूंगी कि अगर आप इंडिया में जीना चाहती है और खासकर सोसाइटी में तो आपको शादी करनी ही पड़ेगी. मॉडर्न वूमेन मत बनों जैसा कि मै थी.

 

नीना ने आगे बताया कि मैं शादी विवाह में विश्वास नहीं रखती थी लेकिन इसके बावजूद आपको शादी करनी ही पड़ती है. नीना ने कहा कि जब मसाबा मधु मंतेना के प्यार में थी तो मैंने मसाबा से कहा कि तुम तबतक शिफ्ट नहीं हो सकती जब तक तुम उससे शादी नहीं कर लेती हो क्योंकि मैनें इसके चलते काफी परेशानियों का सामना किया है.

 

मसाबा से जब यह पूछा गया कि आपके नजरिए से एक सिंगल मदर के द्वारा किसी बच्चे को पालना कैसा होता है?

 

इस सवाल के जवाब में मसाबा ने कहा कि लोग मुझसे अक्सर यह पूछते थे कि यह कितना कठिन था लेकिन मुझे इतना तक याद नहीं कि मुझे बचपन में कब परेशानियों का सामना करना पड़ा था. हां, मुझे यह जरुर याद है कि जब हमें छुट्टियों के लिए जाना होता था और जब उस वक्त कोई भी ब्यक्ति (पुरुष) प्लानिंग करने के लिए नहीं होता था उस समय हमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था.

 

मसाबा ने बताया कि एकबार हम छुट्टियों पर जा रहे थे और हमारा पासपोर्ट और सामान मुंबई एयरपोर्ट से चोरी हो गया था. उस वक्त हमारे साथ ऐसा कोई नहीं था जो पुलिस स्टेशन के चक्कर लगा सके.

 

मसाबा ने आगे बताया कि मेरी मां घर की मुखिया थी. जिन्हें बाहर भी काम करना पड़ता था और जब वह घर वापस आती थी तो उन्हें मुझे एंटरटेन भी करना भी था. केवल इतना ही नहीं उन्हें मेरी तरह मेरे ग्रैंडडैड का खयाल भी रखना पड़ता था. जिसके चलते मुझे मेरे ग्रैंडडैड से काफी जलन भी होता था.

 

मसाबा ने कहा कि उन्हें टेनिस खेलने के लिए 8 घंटे घर से बाहर रहना पड़ता था और तब मेरे ग्रैंडडैड कहा करते थे कि ‘हल्दी लगाओ इसके, ये काली है, क्या होगा इसका?’ मैं अपने ग्रैंडडैड के इस तरह के विचारों को पसंद नहीं करती थी और इसके चलते उनसे जाहिल की तरह ब्यहवार करती थी.

 

मसाबा ने आगे बताया कि जब मेरी मां काम से वापस आती थी तो मैं और मेरे ग्रैंडफादर उनके रुम में जाकर बैठ जाते थे और इस बात का इंतजार करते थे कि वह किसपर पहले ध्यान देती है. लेकिन जब मेरे ग्रैंडफादर का निधन हो गया तो मुझे इस बात का एहसास हुआ कि वह कितने अच्छे थे.

 

मसाबा ने कहा कि मेरी मां को एक बच्चे जिसका पिता एक कैरेबिआई हो के साथ स्वीकार करना वास्तव में एक बहुत बड़ी बात थी.

 

मसाबा से जब यह पूछा गया कि क्या आप अपने पिता विवियन रिचर्ड्स से जुड़ी हुई थी?

 

इस सवाल के जवाब में मसाबा ने कहा कि मैं अपने पिता से काफी जुड़ी हुई थी लेकिन मै अपने आप को केवल इसलिए नहीं मार सकती हूं कि मेरे पिता मेरी लाइफ के उन तमाम पल के हिस्सा नहीं थे.  मसाबा ने कहा कि मैं उन्हें एक आईकॉन की तरह ही देखती हूं. मैं उन्हें एक बड़े क्रिकेटर और एक  सेलिब्रिटी की तरह ही देखती हूं.

 

मसाबा ने कहा कि हमारे बीच कभी ऐसे संबंध ही नहीं रहे कि कभी लगे कि वो मेरे पिता हैं. वह वेस्टइंडिज में रहते हैं लेकिन महीनों यात्रा करते हैं. पिछले 4से 5 सालों में मैनें उन्हें सिर्फ 3 से 4 बार ही मिली हूं. हां हम अक्सर अपनी लाइफ के बारे में काफी बातें करते हैं वह मुझे अपने गहन अनुभव के सहारे अच्छी-अच्छी बातें भी बताते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Neena Gupta: I want to tell all women that if you want to live in India and in society, you have to marry
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017