‘नेट न्यूट्रेलिटी’ पर एयरटेल ने कहा: बहस करें, झूठ न फैलाएं

By: | Last Updated: Sunday, 19 April 2015 4:54 PM

नई दिल्ली: नेट निरपेक्षता अभियान में निशाने पर आई दूरसंचार कंपनी एयरटेल ने आज कहा कि सबके लिए समान रूप से इंटरनेट उपलब्ध कराने की बहस के नाम पर ‘झूठ’ फैलाया जा रहा है.

 

उल्लेखनीय है कि कंपनी के नये प्लेटफार्म ‘एयरटेल जीरो’ को नेट निरपेक्षता के सिद्धांत का उल्लंघन बताते हुए आलोचना की जा रही है. इसके अलावा फेसबुक की पहल इंटनेट डाट आर्ग आदि भी आलोचकों के निशाने पर है.

 

कंपनी ने नेट निरपेक्षता मामले में अपना पक्ष रखने के लिए अपने ग्राहकों से सोशल मीडिया व ईमेल के जरिए संपर्क साधा है. कंपनी के 22 करोड़ से अधिक मोबाइल ग्राहक हैं.

 

एयरटेल के निदेशक (उपभोक्ता कारोबार) श्रीनिवास गोपालन ने पीटीआई भाषा को एक साक्षात्कार में कहा,‘ हम बहस के पूरी तरह पक्ष में हैं लेकिन बहस और झूठ फैलाना एक ही चीज नहीं है. मैं आपसे असहमत हो सकता हूं लेकिन हमें आपके बारे में झूठ नहीं बोलना चाहिए.’ उन्होंने कहा कि कंपनी ने इस मुद्दे पर अपनी स्थिति को स्पष्ट करने के लिए ही नेट निरपेक्षता पर अपने चार संकल्पों को सार्वजनिक किया है.

 

एयरटेल के ‘एयरटेल जीरो’ योजना के तहत उसके ग्राहक इस प्लेटफार्म पर उपलब्ध एप्प आदि का नि:शुल्क इस्तेमाल कर संकेगे जबकि इसके लिए एयरटेल को कतिपय शुल्क का भुगतान सम्बद्ध कंपनियां करेंगी.

 

गोपालन ने कहा,‘ कुछ लोगों ने बहस को मोड़ दिया है. हमने ईमेल व सोशल मीडिया के जरिए अपने ग्राहकों व कर्मचारियों तक पहुंचते हुए नेट निरपेक्षता पर अपनी बातों को दोहराया है.’ नेट निरपेक्षता से आशय इंटरनेट के सारे ट्रेफिक से समान व्यवहार करना है और किसी कंपनी या एप्प को भुगतान के आधार पर प्राथमिकता देना इस अवधारणा का उल्लंघन माना जाएगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Net Neutrality_AIRTEL
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Airtel India Net Neutrality
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017