25 सितंबर की सुबह लाएगी वृन्दावन की 50 विधवाओं के जीवन में एक नया सवेरा

By: | Last Updated: Wednesday, 17 September 2014 8:25 PM

मथुराः 25 सितंबर की सुबह वृन्दावन की 50 विधवा महिलाओं के जीवन में एक नया सवेरा लेकर आएगी, जिन्हें कभी उन्हीं की मातृभूमि ने अपने से अलग करके भुला दिया था.

 

इस मौके पर जब वे एक विशेष कोच में हावड़ा स्टेशन पर पहुंचेंगी, तब उनकी राह में जीवन के बीते हुए दिनों में हर राह पर मिलने वाले कांटों की जगह गुलाब की पंखुड़ियां बिछी होंगी और ‘ढाक’ (एक बंगाली वाद्य) एवं शंखनाद की मंगल ध्वनि कानों में पड़ रही होगी.

 

गैरसरकारी संगठन सुलभ इण्टरनेशनल के प्रवक्ता मदन झा के अनुसार 23 सितंबर को वृन्दावन के विभिन्न आश्रय सदनों में दशकों से रह रही 60 से 90 वर्ष आयु की 50 विधवा एवं परित्यक्त महिलाओं को दुर्गापूजा के अवसर पर बंगाल की उस धरती पर एक बार फिर पैर रखने का मौका मिलेगा जिसने कभी उनको अपने से अलग कर दिया था.

 

ये महिलाएं वहां आयोजित होने वाले दर्जनों पण्डालों में दुर्गापूजा के विभिन्न रूपों का दर्शन करेंगी. उन्होंने बताया कि यात्रा की तैयारियां पूर्ण हो चुकी हैं. इन महिलाओं में से कुछ ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात करने की इच्छा व्यक्त की है.

 

सुलभ इण्टरनेशनल के संस्थापक डॉ. बिन्देश्वर पाठक का कहना है कि कोलकाता में उनका यह प्रवास उनकी जिन्दगी में खुशियां लाने और उन्हें अपनेपन का अहसास कराने का एक प्रयास है. इसलिए उन्हें उनकी जन्मभूमि ले जाया जा रहा है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: new life for vrindavan widow
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017