निर्भया का दोस्त और 16 दिसंबर के विक्टिम अरविंद ने बताया 'इंडियाज डॉटर' को फेक डाक्यूमेंट्री

By: | Last Updated: Tuesday, 10 March 2015 2:50 PM
Nirbhaya_Documentry_India’s Daughter_

नई दिल्ली: विवादों में फंसी बीबीसी की निर्भया डाक्यूमेंट्री पर अब उसकी विश्वसनीयता को लेकर सवाल उठने लगा है. घटना का चश्मदीद गवाह और निर्भया (ज्योति)  के दोस्त अरविंद पांडे ने डाक्यूमेंट्री की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया है.

सीएनएन- आईबीएन को दिए इंटरव्यू में  अरविंद ने कहा कि ये डाक्यूमेंट्री झूठी और असंवेदनशील है. सीएनएन- आईबीएन की रिपोर्ट के मुताबिक  अरविंद ने कहा ये डाक्यूमेंट्री अव्यवस्थित है, इस पूरी डाक्यूमेंट्री में एक विक्टिम की सोच को नजरअंदाज किया गया है, साथ ही इसमें कहीं भी विक्टिम का जिक्र नहीं है. सिर्फ मैं और ज्योति जानते थे कि उस रात क्या हुआ था. और ये डाक्यूमेंट्री सच्चाई से कहीं दूर है.

 

डाक्यूमेंट्री में ज्योति के जिस ट्यूटर सत्येंद्र को बार-बार दिखाया गया था उसके बयान पर सवाल उठाते हुए अरविंद ने कहा, उन्हें कैसे पता कि मैं इस रात कौन सी फिल्म देखना चाहता था.

 

साथ ही इरविंद ने कहा मैंने कभी ज्योति के ट्यूटर सत्येंद्र के बारे में नहीं सुना.

 

आपको बता दे की उडविन की डाक्यूमेंट्री में सतेंद्र को कई बार दिखाया गया है. अपनी एक बाइट में सतेंद्र ने कहा है कि उस रात ज्योति का दोस्त  (अरविंद पांडे) एक्शन फिल्म देखना चाहता था पर ज्योति ने लाइफ ऑफ पाई देखना पसंद किया.

 

आपको बता दें कि 16 दिसंबर की रात ज्योति और अरविंद मुनरिका से बस में चढ़े थे, जब दरिंदों ने इस दिल दहाने वाली घटना को अंजाम दिया तो उस दौरान अरविंद को काफी चोटें आई थीं और निर्भया को बचाया नहीं जा सका.

 

आपको बता दें कि इस डाक्यूमेंट्री को भारत सरकार ने देश में बैन कर दिया है यहां तक कि इंटरनेट , यूट्यूब पर भी यह वीडियो बैन है. इस बैन का लोग अपने-अपने तरीके से विरोध कर रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Nirbhaya_Documentry_India’s Daughter_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017