एस्सार से फायदा नहीं लिया: नितिन गडकरी

By: | Last Updated: Friday, 27 February 2015 12:14 PM

नई दिल्ली : जासूसी कांड को लेकर आरोपों के घेरे में आई कंपनी एस्सार को लेकर इंडियन एक्सप्रेस ने बड़ा खुलासा किया है . अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक एस्सार कंपनी के खर्चे पर मोदी सरकार के मंत्री नितिन गडकरी और उनके परिवार ने विदेश यात्रा की थी. यूपीए सरकार के कई मंत्रियों और पत्रकारों पर भी कंपनी मेहरबान रही है.

 

जासूसी कांड: गडकरी पर एस्सार की मेहरबानी? 

जासूसी कांड को लेकर आरोपों के घेरे में एस्सार कंपनी पर इंडियन एक्सप्रेस ने बड़ा खुलासा किया है. अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक एस्सार कंपनी ने मोदी सरकार के मंत्री नितिन गडकरी, यूपीए सरकार में कई मंत्रियों और पत्रकारों पर मेहरबानी दिखाई. एस्सार के आंतरिक दस्वावेजों से खुलासा हुआ है कि कंपनी के ही दस्तावेजों के मुताबिक 2013 में जब गडकरी मंत्री नहीं थे तब एस्सार ने गडकरी, उनकी पत्नी और दो बेटों के लिए याट का इंतजाम किया था. फ्रेंच रिवेयरा के समंदर में ये याच 7  से 9 जुलाई 2013 तक खड़ा रखा. याट तक परिवार को पहुंचाने के लिए हेलिकॉप्टर का भी इंतजाम किया गया. अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में आप नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण पीआईएल दाखिल हुई है और मांग की है कि पूरे मामले की जांच कराई जाए. प्रशांत भूषण का कहना है कि किसी कंपनी से फायदा लेना भ्रष्टाचार के दायरे में आता है.

 

2013 में नितिन गडकरी और उनके परिवार के विदेश दौरे का खर्च रुइया परिवार की कंपनी एस्सार ने उठाया था. ये दावा अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने किया है. 

 

नितिन गडकरी ने परिवार के साथ एस्सार के रुइया परिवार के खर्च पर विदेश में छुट्टियां मनाईं. 2013 में जब गडकरी मंत्री नहीं थे तब एस्सार ने गडकरी, उनकी पत्नी और दो बेटों के लिए यॉट का इंतजाम किया था.

 

इंडियन एक्सप्रेस ने खुलासा किया है कि फ्रेंच रिवेयरा के समंदर में ये याट 7  से 9 जुलाई 2013 तक खड़ा रखा. यॉट तक परिवार को पहुंचाने के लिए हेलिकॉप्टर का भी इंतजाम किया गया.

 

इंडियन एक्सप्रेस ने एस्सार के आंतरिक दस्वावेजों से खुलासा किया है कि गडकरी के अलावा कंपनी ने यूपीए सरकार के कई मंत्रियों और पत्रकारों पर पैसा खर्च किया. पत्रकारों को कार और दूसरी सुविधाएं मुहैया कराई गई.

 

इंडियन एक्सप्रेस से गडकरी ने कहा है कि मैं परिवार के साथ नॉर्वे जा रहा था. होटल और विमान का किराया हमने उठाया. मैंने रुइया परिवार के याट का इस्तेमाल किया क्योंकि मैं उन्हें 25 साल से जानता हूं. मेरे दौरे के बारे में सुनकर उन्होंने मुझे निमंत्रण दिया. मैं इसमें कोई हितों का टकराव नहीं देखता. मैं न तो तब बीजेपी अध्यक्ष था, न ही मंत्री और न सांसद. इसमें क्या समस्या है.

 

एस्सार के कथित दस्तावेजों के मुताबिक श्रीप्रकाश जायसवाल, दिग्विजय सिंह और मोतीलाल वोरा, वरुण गांधी ने कंपनी में नियुक्तियों के लिए लोगों के नाम की सिफारिश की थी. कांग्रेस कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा ने इससे इनकार किया है.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: nitin gadkari refuse all allegation
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017