130 विधायकों के साथ दिल्ली पहुंचे नीतीश कुमार, आज शाम राष्ट्रपति के सामने कराएंगे विधायकों की परेड

By: | Last Updated: Wednesday, 11 February 2015 2:15 AM

नई दिल्ली: बिहार में जारी राजनीतिक संकट के बीच पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने 130 समर्थक विधायकों के साथ मंगलवार रात दिल्ली पहुंच गए और इन विधायकों को वह राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के समक्ष पेश करना चाहते हैं ताकि दिखा सकें कि उन्हें बहुमत हासिल है.

 

राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी द्वारा राजनीतिक संकट को दूर करने में ‘‘विलंब’’ के बाद मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की जगह जेडी यू विधायक दल के नेता चुने गए नीतीश ने यह कदम उठाया.

 

कुमार और उनका समर्थन करने वाले विधायक दो व्यावसायिक विमानों से दिल्ली पहुंचे.

 

राष्ट्रपति भवन के सूत्रों ने कहा कि नीतीश के आग्रह पर राष्ट्रपति कल निर्णय करेंगे. नीतीश चाहते हैं कि बिहार विधानसभा में अपना बहुमत दिखाने के लिए वह विधायकों को राष्ट्रपति के समक्ष पेश करें.

 

नीतीश ने कहा कि वह विधायकों को राष्ट्रीय राजधानी में राष्ट्रपति के समक्ष पेश करने को बाध्य हो रहे हैं क्योंकि त्रिपाठी ने कोई निर्णय नहीं किया .

 

नीतीश कुमार ने पटना हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘24 घंटे से अधिक का समय बीत चुका है और सरकार बनाने के हमारे दावे के संबंध में बिहार के राज्यपाल की ओर से कोई निर्णय नहीं किया गया है. बहुमत हमारे पक्ष में है और हम इस बारे में भारत के राष्ट्रपति को सूचित करेंगे. हम अपने विधायकों को लेकर कल उनसे दोपहर करीब सवा दो बजे मिलने जाएंगे.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने समर्थक सभी 130 विधायकों को लेकर राजभवन गए थे, उन सभी का समर्थन पत्र आठ फरवरी को ही दे दिया था. तब उसमें अध्ययन करने के लिए क्या है..मुझे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने का निर्णय विलंबित करने का कोई औचित्य नहीं है.’’ मांझी ने त्यागपत्र देने से इनकार करते हुए दावा किया है कि उन्हें अब भी अधिकतर विधायकों का समर्थन प्राप्त है जबकि कुमार ने मांग की है कि राज्यपाल बहुमत साबित करने के लिए उन्हें या मांझी को बुलायें .

 

मांझी ने विधानसभा में शक्ति परीक्षण गुप्त मतदान से कराने की मांग की है. जेडीयू ने उन्हें ‘‘पार्टी विरोधी’’ गतिविधियों के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है और उन्हें असम्बद्ध विधायक घोषित कर दिया है.

 

जेडीयू के करीब 99 विधायकों के साथ ही कुमार के साथ समर्थक राजद, कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी और निर्दलीय विधायक भी हैं.

 

कुमार ने सरकार बनाने के दावे के लिए कल त्रिपाठी से मुलाकात की थी जबकि मांझी ने भी बाद में राज्यपाल से मुलाकात की और कुमार के दावे का खंडन किया.

 

कुमार 2005 से 2014 के मध्य तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे और कुमार को फिर से जेडीयू विधायक दल का नेता चुन लिया गया है. उन्होंने कहा कि राज्यपाल की ओर से हो रही देरी से माहौल बिगड़ रहा है और इससे खरीद फरोख्त को बढ़ावा मिलेगा.

 

उन्होंने कहा, ‘‘देरी नहीं होनी चाहिए. हमने सरकार बनाने के लिए अपना दावा पेश कर दिया है और राज्यपाल को सब कुछ लिखित में दे दिया है..हम चाहते हैं कि संवैधानिक मूल्य बरकरार रहें और सरकार गठन के लिए कुछ भी गलत कदम नहीं उठाये जाने चाहिए.’’

 

संबंधित खबरें-

परेड के लिए नीतीश ने बुक कराया विमान, मुलाकात पर कल निर्णय लेंगे राष्ट्रपति

मांझी को अपना उत्तराधिकारी चुनकर गलती की: नीतीश 

मांझी 18 विभागों के कार्य स्वयं देखेंगे 

मायूस हैं मांझी के गांव वाले 

बिहार: सत्ता संघर्ष मामला हाई कोर्ट पहुंचा 

मांझी बहुमत साबित करने में सफल होंगे: बीजेपी 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: nitish_kumar_to_meet_president
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017