प्रधानमंत्री दलितों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं ?

By: | Last Updated: Monday, 21 March 2016 6:02 PM
No change in reservation policy for Dalits: Narendra Modi

नई दल्ली: पिछले कुछ महीनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दलितों से जुड़े कई कार्यक्रम में शिरकत किया है. आज ही उन्होंने खुद को आंबेडकर का भक्त भी कहा है. ऐसे में क्या प्रधानमंत्री दलितों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं.

दिल्ली में डॉ. भीमराव आंबेडकर के राष्ट्रीय स्मारक के शिलान्यास के मौके पर प्रधानमंत्री ने खुद को बाबा साहब का सबसे बड़ा भक्त बताया. दिल्ली में 26 अलीपुर रोड पर डॉ आंबेडकर स्मारक बनाया जा रहा है. बाबा साहब ने यहीं अंतिम सांस ली थी. इस स्मारक का निर्माण CPWD कर रही है, इसे बनाने में करीब 100 करोड़ रुपये खर्च होंगे. प्रधानमंत्री मोदी ने इस स्मारक को पूरा बनाने के लिए डेडलाइन भी तय कर दी. पीएम ने कहा 14 अप्रैल 2018 को मैं स्मारक का उद्घाटन करूंगा.

modi 4

प्रधानमंत्री का बाबा साहेब के प्रति लगाव इससे पहले भी नजर आता रहा है. पिछले साल अक्टूबर में मुंबई के इंदू मिल परिसर में डॉ आंबेडकर का स्मारक का शिलान्यास प्रधानमंत्री मोदी ने किया था. नवंबर में ब्रिटेन दौरे पर गए प्रधानमंत्री मोदी ने लंदन में उस घर का भी उद्घाटन किया था, जिसमें डॉ. आंबेडकर 1920-22 के दौरान रहे थे. पिछले साल दिसंबर में दलित कारोबारियों के एक कार्यक्रम में भी पीएम मोदी ने शिरकत थी.

इसी साल 22 जनवरी को लखनऊ में भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में प्रधानमंत्री मोदी ने शिरकत की थी. उस दौरान हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दलित छात्र रोहित वेमुला पर बोलते हुए नरेंद्र मोदी भावुक भी हो गए थे. पीएम मोदी ने कहा था कि रोहित वेमुला के रूम में मां भारती ने अपना लाल खोया है.

इसके बाद 22 फरवरी को वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में संत रविदास मंदिर गए थे. रविदास निचली जाति के समाज सुधारक और चिंतक थे. ये कुछ मौके हैं जब प्रधानमंत्री मोदी दलितों से जुड़े कार्यक्रम में जाकर खुद को दलितों का हिमायती बताते रहे हैं. दिल्ली में दलितों के कार्यक्रम के मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन विरोधियों को भी जवाब दिया जो मोदी सरकार को आरक्षण विरोधी बताते रहे हैं.

अगले दो महीने में पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने हैं और अगले साल उत्तर प्रदेश, पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं. विपक्ष प्रधानमंत्री के दलित प्रेम पर चुटकी लेने में भी पीछे नहीं है.

राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद मे कहा, ”उन्होंने ही कहा था कि हम आरक्षण पर विचार करेंगे हम तो उनकी बात याद दिलाते हैं. आरएसएस सही है या वो सही हैं यह उनको ही तय करना है.”

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: No change in reservation policy for Dalits: Narendra Modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017