ग्राउंड रिपोर्ट- नेपाल में भारतीयों की नो एंट्री

By: | Last Updated: Tuesday, 25 August 2015 5:58 AM
No Entry in Nepal

नई दिल्ली: बिहार में चुनावी शोर है तो बिहार से सटे नेपाल के कई इलाकों में हिंसा भड़की हुई है. नेपाल की इस हिंसा का सीधा असर भारत पर पड़ा है. बिहार की सीमा से सटे नेपाल के इलाकों में भारत के लोगों के जाने पर रोक लगा दी गई है. नेपाल के बीरगंज, गौर, मलंगवा, जनकपुर जैसे बिहार से सटे इलाकों में स्थिति काफी तनावपूर्ण है. भारत-नेपाल सीमा पर एसएसबी को अलर्ट किया गया है. एसएसबी के जवान अलर्ट पर हैं .

 

सोमवार को नेपाल में हुई हिंसा में 20 पुलिस वालों (एसएसपी, इंस्पेक्टर)सहित 50 से ज्यादा लोगों के मारे जाने की खबर है. हिंसा में 100 से ज्यादा जख्मी हैं. हिंसा ग्रस्त गौर(रौतहट) और मलंगवा (सर्लाही) को सेना के हवाले कर दिया गया है. नेपाल के ये दोनों जिले बिहार के सीतामढ़ी जिले से सटा हुआ है. गौर के पास भारत का बैरगनिया और मलंगवा के पास भारत का सोनबरसा शहर है.

 

सीतामढ़ी के पास ही जनकपुर और जलेश्वर भी है. जबकि बीरगंज मोतिहारी जिले में रक्सौल बॉर्डर के उस पार है.  यहां भी माहौल तनावपूर्ण है. बिहार में चुनावी माहौल है उसके बीच नेपाल में इस तरह का माहौल यहां के राजनीतिक और सामाजिक समीकरणों को प्रभावित कर सकता है.

 

नेपाल में इस हिंसा के पीछे दो वजह है. पहली वजह भारत की सीमा से सटे हिंदी भाषी इलाकों के लोगों के अधिकार में कटौती और दूसरी वजह से अलग थारू राज्य की मांग. नेपाल में भारत की सीमा से सटे इलाके में बसे लोगों को मधेशी कहा जाता है.

 

भारत की सीमा और पहाड़ के बीच के इलाके को नेपाल में मध्य देश कहा जाता है. इसी से मधेशी शब्द का जन्म हुआ है. हफ्ते भर से ज्यादा से इलाके में मधेशी आंदोलन चल रहा है. 2011 की जनगणना के मुताबिक नेपाल में 51 फीसदी आबादी मधेशियों की है. इसमें नेपाल के मूल और भारत से गए दोनों शामिल है. यहां की बोली मैथिली, भोजपुरी, बज्जिका और नेपाली है.

 

2 करोड़ से ज्यादा की आबादी वाले नेपाल में कुल पांच राज्य हैं और 75 जिले . आंदोलनकारियों की मांग है कि थरूहट और मधेशी को अलग राज्य बनाया जाए. आंदोलन वाले इलाकों में 22 जिले हैं. नेपाल में इन दिनों नया संविधान बनाया जा रहा है. मधेशी नेताओं का आरोप है कि एक करोड़ से ज्यादा की आबादी वाले उनके इलाके को नजरअंदाज किया जा रहा है. नए संविधान में अलग मधेशी राज्य को मान्यता नहीं देने का प्रस्ताव रखा गया है.

 

भारतीय युवतियां और उनसे जन्मे बच्चों को दोयम दर्जे की नागरिकता का प्रस्ताव नए संविधान में रखा गया है. इस इलाके में एक लाख से ज्यादा की आबादी पर एक सांसद हैं जबकि पहाड़ी इलाकों में 4-5 हजार पर एक सांसद की सीट. आंदोलनकारी इसी भेदभाव का विरोध कर रहे हैं. नए संविधान के मसौदे में सात राज्य करने का प्रस्ताव तो है लेकिन उसमें मधेशी और थरूहट नहीं है.

 

संविधान के नए मसौदे में मधेशी बहुल जिलों को अलग अलग राज्यों में मिलाया जा रहा है. मधेशी समुदाय इसी भेदभाव का विरोध कर रहा है. मधेशिय़ों की अपनी अलग राज्य की मांग है. मधेशी आंदोलन का नेतृत्व कर रहे लोगों ने अलग राज्य का एलान करने के साथ ही अपनी अलग सेना बनाने का एलान किया है.

 

मधेशी राज्य की मांग को लेकर नेपाल के जिस इलाके में बवाल मचा हुआ है उस इलाके में हजारों भारतीय रोज कारोबार के सिलसिले में आते जाते हैं. हजारों लोगों की बिहार के दरभंगा, मधुबनी, सहरसा, सुपौल, सीतामढ़ी, मोतिहारी, बेतिया में रिश्तेदारी है.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेपाल दौरे में पिछले दिनों जनकपुर जाने वाले थे. लेकिन वहां आंदोलन की वजह से उनका कार्यक्रम रद्द हो गया था. जनकपुर, गौर, मलंगवा में जो नारेबाजी हो रही है उसमें लोग चीन के खिलाफ नारे लगा रहे हैं. मधेशी नेताओं ने कहा कि भारत से उनका बेटी-रोटी का रिश्ता है और किसी भी कीमत पर भारत विरोधी कोई प्रयास नेपाल में सफल नहीं होने दिया जाएगा. देश के कई बड़े नेता इसी इलाके से आते हैं.

 

जिस हिंसा में पुलिस वाले और लोगों की मौत हुई है वो थरूहट प्रदेश की मांग को लेकर हुई हिंसा है. नेपाल के कैलाली जिला जो कि यूपी के पीलीभीत के पास है वहां सोमवार को पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसा हुई. कैलाली और कंचनपुर को मिलाकर अलग थरूहट प्रदेश की मांग हो रही है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: No Entry in Nepal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017