रोजगार के लिए दिल्ली को पसंद करते हैं नॉर्थ ईस्ट के लोग

By: | Last Updated: Sunday, 27 July 2014 3:23 AM
north east_delhi_

फ़ाइल

नई दिल्ली: दिल्ली को सबसे ज्यादा नस्लीय भेदभाव वाला शहर माने जाने के बावजूद इस शहर को छोड़ने का मेरा कोई इरादा नहीं है, क्योंकि यहां अवसरों की कमी नहीं. यह कहना है गुवाहाटी से बेहतर मौके की तलाश में दिल्ली आने वाले अभिजीत के.बोरा का.

 

बोरा ने आईएएनएस से कहा, “बेहतर मौका मिले, तो दूसरे शहर जाने में कोई बुराई नहीं. लेकिन दिल्ली में अवसरों की कभी कमी नहीं रही. इसलिए इस शहर को छोड़ने का ख्याल मेरे जेहन में अभी तक नहीं आया.”

 

असम के तिनसुकिया की रहने वाली सागरिका दत्ता दिल्ली को सपनों का शहर मानती हैं.

 

25 वर्षीय सागरिका कहती हैं, “मैं जानती थी कि 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद मैं आगे की पढ़ाई यहीं करूंगी, क्योंकि पूर्वोत्तर में उच्च शिक्षा की स्थिति ठीक नहीं है.”

 

पूर्वोत्तर सहायता केंद्र व हेल्पलाइन (एनईएससीएच) के एक अध्ययन के मुताबिक, दिल्ली में रह रहे पूर्वोत्तर के 100 लोगों में से 78 लोगों को किसी न किसी प्रकार से नस्लीय भेदभाव, महिलाओं के विरुद्ध अपराध, भेदभाव, अपशब्दों और इस समुदाय के लोगों पर हमले एक बड़ी चिंता बनकर उभरी है.

 

कोटला मुबारकपुर में मणिपुर के 30 वर्षीय एक युवक की विवाद के बाद स्थानीय युवकों द्वारा की गई पिटाई से मौत के बाद एक बार फिर इस क्षेत्र के लोगों की सुरक्षा की चिंता बढ़ गई है.

 

पूर्वोत्तर वासियों का हालांकि कहना है कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं. यदि राजधानी में एक तरफ भय का माहौल है, तो दूसरी तरफ आशा और समृद्धि भी है.

 

किस्मत से दत्ता को अब तक किसी तरह के भेदभाव का सामना नहीं करना पड़ा और वापस अपने शहर लौटने का कोई इरादा नहीं है.

 

वह कहती हैं, “यह आपकी मित्र मंडली और वातावरण पर निर्भर करती है, जहां आप रह रहे होते हैं. मैं करियर को तरजीह देने वाली इंसान हूं, इसलिए हमेशा से अपने घर से बाहर ही रहना चाहती थी, क्योंकि जनसंपर्क पेशेवरों के लिए पूर्वोत्तर में कोई भविष्य नहीं है.”

 

बोरा कहते हैं कि बहुतायत में करियर के विकल्प उपलब्ध होने से यह शहर पूर्वोत्तर के लोगों के लिए चुंबक की तरह काम करता है.

 

एनईएससीएच की रपट के मुताबिक, पूर्वोत्तर के आठ राज्यों के 20 हजार लोग राष्ट्रीय राजधानी में रहते हैं, जिसमें आधी तादाद महिलाओं की है.

 

नगालैंड के रहने वाले कासर एक लॉ कंपनी की साझीदार हैं और यहां कानून की पढ़ाई करने आईं थीं.

 

कासर ने कहा, “मैंने कानून की पढ़ाई पूरी की और यहां काम करने लगी. मैंने इस शहर को नहीं छोड़ा, क्योंकि यहां अवसरों की भरमार है.”

 

कासर कहती हैं कि इस क्षेत्र में पूर्वोत्तर के लोगों को ज्यादा तरजीह दी जाती है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: north east_delhi_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर ने फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी
'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी

नई दिल्ली: नागरिक अधिकार कार्यकर्ता इरोम शार्मिला और उनके लंबे समय से साथी रहे ब्रिटिश नागरिक...

अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे
अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे

 मुंबई: मुंबई पुलिस के मशहूर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को महाराष्ट्र...

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017