सीएम शिवराज सिंह चौहान के 'गांव' में नहीं है एक भी शख्स पढ़ा-लिखा!

By: | Last Updated: Wednesday, 21 October 2015 6:04 AM

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में एक गांव ऐसा भी है जहां एक भी व्यक्ति पढ़ा-लिखा नहीं है. प्रदेश की राजधानी भोपाल से 60 किलोमीटर दूर सीहोर जिले का ये गांव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृहजिला और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के चुनावी क्षेत्र में आता है जहां एक भी व्यक्ति पढ़ा-लिखा नहीं है.

 

इस गांव में ज्यादातर ‘कोरकू’ जनजाति के आदिवासी रहते हैं जो लुप्त होने की कगार पर हैं. यहां 500 से ज्यादा आदिवासी रहते हैं और इलाके में 5 से 14 साल तक की उम्र के लगभग 50 बच्चे हैं जो ‘शिक्षा के मौलिक अधिकार’ के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं. अगर गांव का कोई बच्चा पढ़ना चाहता भी है तो उसे 7 किलोमीटर दूर चलकर पहाड़ी इलाके में जाना पड़ता है.

 

गांव के ही निवासी करन सिंह कहते हैं कि ‘नेता हमेशा आते हैं और स्कूल बनवाने का वायदा करके चले जाते हैं लेकिन यहां आज तक स्कूल नहीं बना. अगर यहां प्राइमरी स्कूल भी बन जाये तो हमारे बच्चे पढ़ना सीख सकेंगे.’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Not a single literate in MP CM’s hometown
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ABP News hometown MP shivraj singh chouhan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017