Note ban anniversary: RBI says not completed counting, still verifying returned notes|नोटबंदी के एक साल: अब तक नहीं हो पाई है नोटों की गिनती

नोटबंदी के एक साल: अब तक नहीं हो पाई है नोटों की गिनती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को चलन से बंद करने की घोषणा की थी. उसके बाद लोगों द्वारा विभिन्न बैंकों में जमा किये गये अमान्य नोटों की गिनती और जांच केंद्रीय बैंक कर रहा है. विपक्षी पार्टियां नोटबंदी के साल पूरा होने के मौके पर आठ नवंबर को काला दिवस मनाने की घोषणा की है.

By: | Updated: 29 Oct 2017 08:15 PM
Note ban anniversary: RBI says not completed counting, still verifying returned notes
नई दिल्ली: देश में नोटबंदी के लगभग एक साल पूरे होने को हैं लेकिन रिजर्व बैंक अभी भी वापस आये नोटों की गिनती और जांच का काम पूरा नहीं कर सका है. केंद्रीय बैंक ने पीटीआई संवाददाता द्वारा सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत पूछे गये एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी.

रिजर्व बैंक ने कहा कि वह 30 सितंबर तक 500 रुपये के 1,134 करोड़ नोट और 1000 रुपये के 524.90 करोड़ नोट का सत्यापन कर चुका है. इनके मूल्य क्रमश: 5.67 लाख करोड़ रुपये और 5.24 लाख करोड़ रुपये हैं. उसने आगे कहा कि दो पालियों में सभी उपलब्ध मशीनों में नोटों की गिनती और जांच की जा रही है.

आरटीआई के तहत रिजर्व बैंक से नोटबंदी के बाद वापस आये नोटों की गिनती के बारे में पूछा गया था. गिनती समाप्त होने के समय के बारे में उसने कहा, ''वापस आये नोटों की गिनती की प्रक्रिया जारी है.'' उसने कहा कि नोटों की गिनती और जांच करने वाली 66 मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को चलन से बंद करने की घोषणा की थी. उसके बाद लोगों द्वारा विभिन्न बैंकों में जमा किये गये अमान्य नोटों की गिनती और जांच केंद्रीय बैंक कर रहा है. विपक्षी पार्टियां नोटबंदी के साल पूरा होने के मौके पर आठ नवंबर को काला दिवस मनाने की घोषणा की है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Note ban anniversary: RBI says not completed counting, still verifying returned notes
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात विधानसभा चुनाव रिजल्ट विश्लेषण: जीतते-जीतते, हार के बाद फिर जीत की तरफ बढ़ी बीजेपी