नोटबंदी के बाद देश में घटे अरबपति, मुकेश अंबानी पहले नंबर पर: रिपोर्ट

नोटबंदी के बाद देश में घटे अरबपति, मुकेश अंबानी पहले नंबर पर: रिपोर्ट

By: | Updated: 28 Jun 2017 01:32 PM

नई दिल्ली: पिछले साल नवंबर में 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने के बाद से देश मे अरबपतियों की संख्या में कमी आई है. ताजा आंकड़ों की मानें तो नोटबंदी के बाद से देश में 11 अरबपति कम हो गए हैं.


अमीरों की लिस्ट में सबसे उपर हैं मुकेश अंबानी


हालांकि, इस दौरान देश में अरबपतियों की कुल प्रॉपर्टी में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है. मुकेश अंबानी 26 अरब डालर की प्रॉपर्टी के साथ सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं. आज जारी एक अध्ययन में यह आंकड़ा सामने आया है.


रिपोर्ट के मुताबिक भारत में कुल 132 लोग हैं अरबपति


हुरन ग्लोबल रिच लिस्ट इंडिया के अध्ययन में कहा गया है कि भारत में 132 अरबपति हैं, जिनकी कुल प्रॉपर्टी एक अरब डालर या उससे अधिक है. कुल मिलाकर भारत में अरबपतियों की कुल संपत्ति 392 अरब डॉलर आंकी गई है.


रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी के बाद अरबपतियों की संख्या में कमी


रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के बाद हालांकि देश में अरबपतियों की संख्या में कमी आई है. लेकिन उनकी कुल प्रॉपर्टी पिछले साल की तुलना में 16 प्रतिशत बढ़ी है. शीर्ष दस सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में अंबानी के बाद 14 अरब डालर की प्रोपर्टी के साथ एसपी हिंदुजा और परिवार दूसरे स्थान पर है. 14 अरब डालर की प्रॉपर्टी के साथ दिलीप सांघवी तीसरे स्थान पर हैं.


किसके पास है कितनी प्रॉपर्टी


अन्य लोगों में 12 अरब डालर की प्रॉपर्टी के साथ पल्लोनजी मिस्त्री चौथे, लक्ष्मी निवास मित्तल पांचवे (12 अरब डालर), शिव नादर छठे (12 अरब डालर), साइरस पूनावाला सातवें (11 अरब डालर), अजीम प्रेमजी आठवें (9.7 अरब डालर), उदय कोटक नौवें (7.2 अरब डालर) और डेविड रबेन और साइमन रबेन (6.7 अरब डालर) दसवें स्थान पर हैं.


मुंबई में 42, दिल्ली में 21 और अहमदाबाद में 9 अरबपति


रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद देश में अरबपतियों की संख्या में 11 की कमी आई है. मुंबई में 42, दिल्ली में 21 और अहमदाबाद में 9 अरबपति हैं. बंबई सहित महाराष्ट्र में कुल मिला कर 51 अरबपति है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Business News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आज़ादी के बाद दलितों को वोट का अधिकार मिलना सबसे बड़ी क्रांति थी: रामविलास पासवान