हार्दिक पटेल की चेतावनी, मांग नहीं मानी तो 2017 में नहीं खिलने देंगे कमल

By: | Last Updated: Tuesday, 25 August 2015 5:56 AM
OBC quota: Hardik Patel’s mega rally in ahmedabad

अहमदाबाद: पटेल/पाटीदार समाज को ओबीसी में शामिल करने की मांग को लेकर आज क्रांति महारैली में नेता हार्दिक पटेल ने बीजेपी को खुली चुनौती दे डाली. हार्दिक ने चेतावनी भरे लहजे में कहा, ”यदि उनकी मांगे नहीं मानी गई तो 2017 वे कमल नहीं खिलने देंगे.”

 

लाखों की भीड़ को संबोधित करते हुए 22 साल के हार्दिक पटेल ने कहा कि अगर एक पटेल (सरदार पटेल) देश को जोड़ सकता है, तो हम राज्य में 50 लाख हैं, पूरे देश में 27 करोड़ हैं, हम ये नहीं कर सकते? हार्दिक ने कहा, देश में सबसे ज्यादा सांसद हमारे हैं.

 

प्यार से हक दो, नहीं तो छीन लेंगे. हम कोई राजनीतिक पार्टी नहीं हैं. हमसे ऊपर कोई सरकार नहीं है. हम जहां निकलते हैं वहीं क्रांति शुरू हो जाती है. आरक्षण की मांग को लेकर हार्दिक पटेल ने कांग्रेस और बीजेपी दोनों पर करारा प्रहार किया.

 

इसके साथ ही हार्दिक ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आंध्र के सीएम चंद्रबाबू नायडू का भी जिक्र किया. गुजरात में नरेंद्र मोदी से विरासत में मिली सीएम की कुर्सी संभालने वाली आनंदीबेन के सामने चुनौती खड़ी कर चुके हार्दिक ने कहा कि जब तक मुख्यमंत्री खुद आकर ज्ञापन नहीं लेंगी वे नहीं हटेंगे और आंदोलन जारी रखेंगे.

 

प्रधानमंत्री का नाम लेते हुए पटेल ने कहा कि मोदी साहब हमें सबका साथ सबका अधिकार चाहिए. सरदार पटेल पीएम होते तो हम बाहर नहीं होते. उन्होंने कहा, पटेल समाज को उसका हक और न्याय मिलना चाहिए. हमारी मांगें सही हैं. मैं किसी पार्टी से नहीं जुड़ा हूं, पटेल समाज को हक मिले, हमारी मांगे सही हैं.

 

गौरतलब है कि क्रांति महारैली के चलते अहमदाबाद शहर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है. इस रैली में लाखों की संख्या में पाटीदारों शामिल हुए हैं. पुलिस आयुक्त शिवानंद झा के अनुसार महारैली के चलते शहर में रथयात्रा से भी जोरदार सुरक्षा व्यवस्था की गई है. रैली के मार्ग व सभा स्थल पर सीसीटीवी तथा ड्रोन से नजर रखी जा रही है.

 

क्या कह रहा है पाटीदार समुदाय

पाटीदारों का कहना है कि उनके साथ नाइंसाफी हो रही है और अब उन्हें इंसाफ चाहिए. पाटीदारों  की मांग है कि उनके समाज को ओबीसी में शामिल करके आरक्षण का लाभ दिया जाए.

 

पाटीदार समुदाय की आरक्षण की मांग के विरोध में ओबीसी एकता मंच ने मोर्चा खोल दिया है. ओबीसी आरक्षण का फायदा उठा रहे ठाकोर, चौधरी और रबारी जैसे ओबीसी वर्ग के लोगों ने पाटीदार समुदाय की मांग पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं.

 

क्या है पाटीदार समुदाय?

 

पाटीदार समुदाय के लोग खुद को भगवान श्रीराम का वंशज कहते हैं. उनके मुताबिक वो श्रीराम के बेटे लव और कुश की संतान हैं. लव के वंश से नाता जोड़ने वाले पाटीदार खुद लेउवा पाटीदार कहते हैं. कुश के वंश से नाता जोड़ने वाले पाटीदार खुद कडवा पाटीदार कहते हैं. पाटीदारों की चार मुख्य जातियों में से लेउवा और कडवा पाटीदार को आरक्षण नहीं मिला है.

 

हार्दिक पटेल भी कडवा पाटीदार समुदाय से आते हैं. हार्दिक पटेल के दो महीने के आंदोलन के बाद गुजरात की सीएम आनंदीबेन पटेल ने 7 मंत्रियों की एक समिति बना दी है जो मांगों पर विचार कर रही है.

 

हार्दिक पटेल का कद जिस चमत्कारिक ढंग से बढ़ा है उसे लेकर भी सवाल उठ रहे हैं. माना ये जाता है कि इस आंदोलन के पीछे सत्तारुढ बीजेपी के कुछ नेताओं का भी हाथ है, जो आनंदीबेन पटेल की मौजूदा सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं.

 

बीजेपी के लोग कह रहे हैं कि ये आंदोलन कांग्रेस के बिना परवान नहीं चढ़ सकता था. वही राज्य सरकार में श्रम, रोजगार और परिवहन विभाग के मंत्री विजय रुपाणी का कहना है कि सरकार आंदोलनकारियों से बातचीत कर रही है और पूरे मसले को शांतिपूर्ण ढंग से सुलझा लिया जाएगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: OBC quota: Hardik Patel’s mega rally in ahmedabad
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017