बीजेपी के साथ सरकार बनाने की अटकलों से उमर का इनकाऱ

By: | Last Updated: Sunday, 17 January 2016 8:09 PM
Omar Abdullah rules out an alliance with BJP in Kashmir

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने बीजेपी के साथ सरकार बनाने की अटकलों को खारिज करते हुए कहा है कि वो विचारधारा पर कोई समझौता नहीं करेगें. बीजेपी की ओर से ऑफर मिलने पर विचार करने को लेकर दिए अपने पिता फारुक अब्दुल्ला के बयान पर उन्होंने कहा कि उनके पिता ने सारे विकल्प खुले होने की बात ही कही थी.

उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने कभी नहीं कहा था कि हम भाजपा के साथ जा रहे हैं, यह स्पष्ट होना चाहिए. मैंने सिर्फ यह कहा था कि पीडीपी को भाजपा के साथ सरकार बनाना चाहिए क्योंकि उनके पास जनादेश है. मैंने सिर्फ यह कहा कि हमारी पार्टी अपनी कार्यसमिति में किसी मुद्दे भी पर विचार कर सकती है.’’

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के सिर्फ 15 विधायक हैं और सिर्फ 15 विधायकों के साथ वह सरकार नहीं बना सकती. ‘‘हम कोई फैसला नहीं कर सकते क्योंकि हमारे पास जनादेश नहीं है और हमारे पास सिर्फ 14-15 लोग हैं तथा 14-15 लोग सरकार नहीं बना सकते.’’ नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता ने कहा, ‘‘मैं फैसला लेने वाला नहीं हूं, फैसला पार्टी आलाकमान को करना होता है.’’

उन्होंने गठबंधन सहयोगियों भाजपा और पीडीपी को सलाह दी कि वे अपने मतभेदों को दूर कर अविलंब सरकार बनाएं क्योंकि इस सीमावर्ती राज्य के लिए विलंब अच्छा नहीं है. उमर ने कहा कि पीडीपी भाजपा की सहयोगी है और उनके राजनीतिक गठबंधन में आए किसी गतिरोध से पीडीपी या भाजपा को निकालने के लिए नेशनल कान्फ्रेंस की कोई जिम्मेदारी नहीं है.

उन्होंने कहा कि यह भी याद रखा जाना चाहिए कि श्रीनगर में संपन्न अपनी हालिया बैठक में पार्टी की कार्य समिति ने पार्टी द्वारा एक साल पहले लिए गए फैसले का समर्थन किया था और ‘‘उस फैसले में कियी बदलाव की हम उम्मीद नहीं करते.’’

भाजपा के 87 सदस्यीय विधानसभा में 25 विधायक हैं जबकि उसकी सहयोगी पीपुल्स कांफ्रेंस के दो सदस्य हैं. सज्जाद गनी लोन इस पार्टी के नेता हैं. नेकां के 15 विधायक हैं. भाजपा और नेकां को सरकार बनाने के लिए कम से कम दो अन्य विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी. अब्दुल्ला ने कहा कि पीडीपी और भाजपा को साथ बैठना चाहिए तथा लोगों की समस्याओं का हल करना चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘‘विलंब राज्य के लिए खराब चीज है, यह एक सीमावर्ती राज्य है और मुश्किल दौर से गुजर रहा है, उन्हें (पीडीपी और भाजपा) जनादेश मिला है और उन्हें बैठना चाहिए तथा लोगों की समस्याओं का हल करना चाहिए और इसीलिए लोगों ने उन्हें निर्वाचित किया है, अगर वे लोगों की समस्याओं का हल नहीं कर सकते तो उन्हें विधानसभा भंग कर नया चुनाव कराना चाहिए.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Omar Abdullah rules out an alliance with BJP in Kashmir
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: omar abdullah
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017