मुख्यमंत्री योगी ने गोरखपुर में रिश्वतखोर भाजपा नेत्री को कराया गिरफ्तार

मुख्यमंत्री योगी ने गोरखपुर में रिश्वतखोर भाजपा नेत्री को कराया गिरफ्तार

महिला नेता पर मोबाइल चोरी में पकड़े गए युवक को बचाने के एवज में 50 हजार रुपये लेने का आरोप है. रकम देने के बाद भी युवक जेल गया तो परिजनों ने सीएम से शिकायत कर दी.

By: | Updated: 21 Oct 2017 08:52 AM

गोरखपुर: जेल जाने से बचाने के नाम पर रिश्वत लेना भाजपा की महिला नेत्री को महंगा पड़ गया. पीड़ित द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिकायत के बाद पुलिस ने महिला नेत्री को गोरखनाथ पुल से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. आरोपी युवक को छुड़ाने के एवज में दी गई 50 हजार रुपये की रकम भी महिला नेत्री के घर से बरामद हुई.


दरअसल, महिला नेता पर मोबाइल चोरी में पकड़े गए युवक को बचाने के एवज में 50 हजार रुपये लेने का आरोप है. रकम देने के बाद भी युवक जेल गया तो परिजनों ने सीएम से शिकायत कर दी.


कूड़ाघाट आवास विकास कालोनी की रहने वाली भारतीय जनता पार्टी महानगर में मंत्री सरिता सिंह पर आरोप है कि उन्होंने मोबाइल छीनने के आरोप में 13 अक्तूबर को कैंट पुलिस द्वारा पकड़े गए हर्षित पाण्डेय को जेल जाने से बचाने का वायदा किया. उन्होंने हर्षित के गिरफ्तार न किए जाने के एवज में 50 हजार रुपये की मांग की. हर्षित की मां रीता पाण्डेय ने बेटे को छुड़ाने के लिए कैंट थाने पहुंची थी जहां उनकी मुलाकात भाजपा नेत्री से हुई थी. भाजपा नेत्री ने रकम की मांग करते हुए छुड़ाने का आश्वासन दिया था. उसी दिन रीता ने पैसे का इंतजाम कर सरिता को रकम दे दी थी. लेकिन उसके बाद भी हर्षित जेल चला गया. हर्षित के परिजन तब रकम वापस मांगने लगे लेकिन सरिता सिंह लौटा नहीं रही थी. शुक्रवार को इसी बात की शिकायत लेकर हर्षित के परिजनों ने अपनी पड़ोसी रिश्तेदार प्रभा पाण्डेय के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर शिकायत की. प्रभा पाण्डेय इलाहीबाग तिवारीपुर की निवासी हैं.


पुलिस ने 50 हजार रुपये बरामद किए


मुख्यमंत्री ने तत्काल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को इस मामले में कार्रवाई करने के आदेश दिए. उसके बाद सक्रिय हुई पुलिस ने पीड़ित परिवार से लिखित शिकायत लेकर सरिता सिंह को गिरफ्तार कर लिया. उनकी निशानदेही पर उनके घर से 50 हजार रुपये की रकम बरामद की. सरिता सिंह को महिला थाना लाया गया जहां उनकी गिरफ्तारी संबंधी औपचारिकताएं पूर्ण की गई. महिला थाना की एसएचओ शालिनी सिंह ने बताया कि सरिता सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420 और 406 के अंतर्गत एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है.


हर्षित मोबाइल छीनैती की तीन वारदातों में आरोपी


13 अक्तूबर को हर्षित को कैंट थाना क्षेत्र से एसआई राजकुमार ने पकड़ा था. एचएसओ कैंट मनोज पाठक ने बताया कि पूछताछ में मोबाइल छिनैती की तीन वारदातों को हर्षित ने स्वीकार किया था.


कौन है सरिता सिंह? 


भारतीय जनता पार्टी महानगर की टीम में मंत्री नियुक्त होने के पूर्व सरिता सिंह भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा में पदाधिकारी थी. इसके पूर्व वे भाजपा के मालवीय नगर मण्डल में पदाधिकारी रही हैं. गिरधरगंज कूड़ाघाट महादेव झारखण्डी वार्ड संख्या 20 से पार्षद पद के लिए अपनी प्रत्याशिता जता रही सरिता सिंह आवास विकास कालोनी कूड़ाघाट की रहने वाली हैं. उनके पति महिपाल सिंह रेलवे मैकेनिकल कोआपरेटिव बैंक में कर्मचारी हैं. महिपाल की तबीयत पिछले एक साल से खराब है. बताया जाता है कि वह महिला मोर्चा में थी तो काफी सक्रिय थी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ के खेल में फंस गयी है कांग्रेस, 18 दिसंबर को देखेगी आखिरी एपिसोड: पीएम मोदी