आतंकवाद की आड़ में पाकिस्तान प्रॉक्सी वॉर चला रहा है: राजनाथ सिंह

By: | Last Updated: Saturday, 26 September 2015 9:49 AM
Pak waging proxy terror war against India: Rajnath

लखनऊ: केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान पर आतंकवाद के जरिये भारत के विरूद्ध छद्म युद्ध करने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि यह देश के लिए एक बडी चुनौती है. सिंह ने कहा, ’’पाकिस्तान ने भारत के विरद्ध छद्म युद्ध छेड रखा है और यह हमारे लिए एक बड़ी चुनौती है. हमने इस मुद्दे पर कई देशों को भरोसे में लिया है . हम कूटनीतिक उपाय भी कर रहे हैं.’’

 

आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के साथ सहयोग और खुफिया सूचनाओं को साझा करने के लिए हुए समझौते का जिक्र करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि यह हमारी बड़ी कूटनीतिक कामयाबी है. गृह मंत्री आज यहां हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर लिमिटेड की तरफ से आयोजित शिखर समागम में भारत की प्रगति और सुरक्षा की दशा एवं दिशा विषय पर बोल रहे थे.

 

सिंह ने यहां कहा, ’’पाकिस्तान बार बार संघर्ष-विराम समझाौते का उल्लंघन कर रहा है, मगर भारत भी इसका मुंह तोड़ जवाब दे रहा है. ’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और चीन के साथ लगी देश की सीमाएं बहुत संवेदनशील हैं और इसे ध्यान में रखकर सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद रखा जाता है. सिंह ने कहा कि नेपाल और भूटान से जुड़ी सीमा पर कोई समस्या नहीं है लेकिन बांग्लादेश और म्यांमार की सीमा ’एक्टिव‘ है.

 

जम्मू कश्मीर में सीमा पार से होने वाली घुसपैठ को भी एक बडी चुनौती बताते हुए राजनाथ सिंह ने दावा किया कि राजग सरकार के सत्ता में आने के बाद घुसपैठ की घटनाओं में कमी आयी है. वर्ष 2013 में घुसपैठ की 277 और वर्ष 2012 में 264 घटनाएं हुई थीं जबकि 2014 में 52 घटनाएं हुईं और इस वर्ष अब तक केवल 15 घटनाएं हुई है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद घुसपैठ के खिलाफ सख्त चौकसी बरती गयी है और घुसपैठ की कोशिश करते 130 आतंकी मारे गये हैं, जबकि 2013 में 110 और 2012 में 67 आतंकवादी घुसपैठ की कोशिश करते मारे गये थे.

 

जिहादी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) को लेकर दुनिया भर में मचे शोर के बीच राजनाथ सिंह ने भरोसे के साथ कहा कि आईएसआईएस भारत में अपनी जड़ें नहीं जमा पायेगा और इसका बहुत बडा श्रेय देश के मुसलमानों को जाता है. उन्होंने कहा, ’’ यदि कुछ युवक भटक कर आईएसआईएस की तरफ झुकने लगते है तो उनके अभिभावक उन्हें सही रास्ता बताते है और चार परिवारों ने तो इस संबंध में मुझसे सम्पर्क किया है .

 

इसलिए मैं भरोसे के साथ यह कह सकता हूं कि आईएसआईएस भारत में अपने पैर नहीं जमा पायेगा. ’’इस सवाल पर कि आईएसआईएस ने 40 भारतीयों को बंधक बना रखा है , गृह मंत्री ने कहा कि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो पायी है. उन्होंने कहा कि भारत की बढती सामरिक ताकत से राष्ट्र विरोधी तत्वों को परेशानी हो रही है. उन्होंने चीन के बारे में कहा कि उसके साथ सीमा विवाद हैं और सरकार उन्हें सुलझाने की कोशिश कर रही है.

 

जम्मू कश्मीर में सीमा पार से होने वाली घुसपैठ को भी एक बड़ी चुनौती बताते हुए सिंह ने दावा किया कि राजग सरकार के सत्ता में आने के बाद घुसपैठ की घटनाओं में कमी आयी है. वर्ष 2013 में घुसपैठ की 277 और वर्ष 2012 में 264 घटनाएं हुई थीं जबकि 2014 में 52 घटनाएं हुईं और इस वर्ष अब तक केवल 15 घटनाएं हुई है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद घुसपैठ के खिलाफ सख्त चौकसी बरती गयी है. घुसपैठ की कोशिश करते 130 आतंकी मारे गये हैं, जबकि 2013 में 110 और 2012 में 67 आतंकवादी घुसपैठ की कोशिश करते मारे गये थे.

 

आतंकी संगठन आईएसआईएस को लेकर दुनिया भर में मचे शोर के बीच सिंह ने कहा कि यह भारत में अपनी जड़ें नहीं जमा पायेगा और इसका बहुत बडा श्रेय देश के मुसलमानों को जाता है.

 

उन्होंने कहा, ’’ यदि कुछ युवक भटक कर आईएसआईएस की तरफ झुकने लगते हैं तो उनके अभिभावक उन्हें सही रास्ता बताते हैं. चार परिवारों ने तो इस संबंध में मुझसे सम्पर्क किया है . इसलिए मैं भरोसे के साथ यह कह सकता हूं कि आईएसआईएस भारत में अपने पैर नहीं जमा पायेगा. ’’ इस सवाल पर कि आईएसआईएस ने 40 भारतीयों को बंधक बना रखा है, गृह मंत्री ने कहा कि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो पायी है.

 

उन्होंने कहा कि भारत की बढती सामरिक ताकत से राष्ट्र विरोधी तत्वों को परेशानी हो रही है. उन्होंने चीन के बारे में कहा कि उसके साथ सीमा विवाद हैं और सरकार उन्हें सुलझाने की कोशिश कर रही है.

 

सिंह ने वामपंथी उग्रवाद को एक बड़ी चुनौती बताते हुए कहा कि 10 राज्यों के लगभग 125 जिले इससे प्रभावित हैं. उन्होंने साइबर अपराध को भी एक बड़ी चुनौती बताया और कहा कि उससे निपटने की तैयारी लगातार चल रही है.

 

सिंह से जब कहा गया कि भाजपा अथवा संघ के कुछ लोग ऐसे बयान दे देते हैं जो साम्प्रदायिक सौहाद्र्र के लिए ठीक नहीं, सिंह ने कहा, ’’एक दो लोगों की टिप्पणी को पार्टी के साथ जोड़ना ठीक नहीं है . हमारा केन्द्रीय नेतृत्व क्या कह रहा है और हमारी नीतियां क्या हैं, उन्हें देखा जाना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में तो कहने वाले कांग्रेस को भी हिन्दू पार्टी कहते थे.

 

विपक्षी दलों के इस आरोप पर कि आरएसएस मोदी सरकार को चला रहा है, सिंह ने कहा, ’’हम संघ के स्वयंसेवक हैं और रहेंगे. संघ कभी जाति और धर्म के नाम पर भेदभाव की इजाजत नहीं देता.’’ उन्होंने यह भी कहा, ’’जब हम बैठते है, तो हम उनसे अपने विचार साझा करते हैं इसलिए कि उनके पास काफी अनुभव है, मगर वे हमारे कामकाज के बारे में कोई रिपेार्ट कार्ड नहीं मांगते.

 

संसद के मानसून सत्र की बर्बादी के बारे में प्रश्न होने पर सिंह ने कहा कि एनडीए सरकार प्रतिपक्ष की अनदेखी नहीं करना चाहती, कारण कि स्वस्थ जनतंत्र में विपक्ष की राय का सम्मान जरूरी है.

 

उन्होंने वस्तु एवं सेवा कर :जीएसटी: विधेयक पर विपक्षी दलों के सहयोग की अपील करते हुए कहा , ’’ हमने भूमि अधिग्रहण विधेयक पर अडियल रूख नहीं अपनाया. इसलिए कि हम सबको साथ लेकर चलना चाहते है . इसमें हार जीत कर प्रश्न नहीं. ’’ इस जिक्र पर कि क्या बिहार विधानसभा चुनाव केन्द्र सरकार के रिपोर्ट कार्ड पर लडे जा रहे हैं, उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल सभी चुनाव को चुनौती के रूप में लेकर लड़ते है और जीतना चाहते है, हम भी वही कर रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Pak waging proxy terror war against India: Rajnath
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: proxy terror rajnath singh
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017