Pakistan fired most in seven years near the Line out of Control । पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पास सात साल में सबसे अधिक गोलीबारी किया

बाज नहीं आ रहा है पाकिस्तान, सीमा पर पिछले सात साल में सबसे अधिक की गोलीबारी

पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने इस साल अक्टूबर तक अंतरराष्ट्रीय सीमा एवं नियंत्रण रेखा के पास 724 बार संघर्षविराम उल्लंघन किया.

By: | Updated: 03 Dec 2017 03:20 PM
Pakistan fired most in seven years near the Line out of Control

नई दिल्ली: पाकिस्तान ने इस साल जम्मू-कश्मीर से लगती अंतरराषट्रीय सीमा के पास 720 से अधिक बार संघर्ष विराम उल्लंघन किया है. संघर्ष विराम उल्लंघन की यह घटना पिछले सात साल में सबसे अधिक है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने इस साल अक्टूबर तक अंतरराष्ट्रीय सीमा एवं नियंत्रण रेखा के पास 724 बार संघर्षविराम उल्लंघन किया है. जबकि साल 2016 में यह संख्या 449 थी.


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने आंकड़े का हवाला देते हुए कहा कि अक्टूबर तक सीमा पार से हुई गोलीबारी में कम से कम 12 स्थानीय नागरिक मारे गए, 17 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए, 79 स्थानीय नागरिक और 67 सुरक्षा कर्मी घायल हुए हैं. अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और जम्मू कमश्मीर में वास्तविक जमीनी स्थिति रेखा (एजीपीएल) के पास भारत और पाकिस्तान के बीच युद्धविराम नवंबर 2003 में प्रभाव में आया था. पाकिस्तान के साथ लगती भारत की 3,323 किलोमीटर लंबी सीमा रेखा है.


साल 2016 में संघर्ष विराम उल्लंघन की 449 घटनाएं हुई


बता दें कि साल 2016 में संघर्ष विराम उल्लंघन की 449 घटनाएं हुई थीं जिनमें 13 स्थानीय नागरिक मारे गये थे एवं 13 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गये थे और 83 स्थानीय नागरिक एवं 99 सुरक्षाकर्मी घायल हो गये थे. साल 2015 में संघर्ष विराम उल्लंघन की 405 घटनाएं, साल 2013 में 347, साल 2012 में 114, साल 2011 में 62 और साल 2010 में 62 घटनाएं हुई थीं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Pakistan fired most in seven years near the Line out of Control
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story होटलों की तरह टिकट बुकिंग पर छूट पर विचार, फ्लेक्सी किराए में होगा सुधार: रेल मंत्री