पाकिस्तान ने भारतीय दूत को सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोका, भारत ने कराया विरोध दर्ज-Pakistan prevented Indian high commissioner from meeting Sikh pilgrims

पाकिस्तान ने भारतीय दूत को सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोका, भारत ने कराया विरोध दर्ज

भारतीय उच्चायुक्त को सिख श्रद्धालुओं से पाकिस्तान ने मिलने नहीं दिया. उन्हें बिना कोई कारण बताए बीच रास्ते से ही लौटने के लिए मजबूर कर दिया गया.

By: | Updated: 15 Apr 2018 05:35 PM
Pakistan prevented Indian high commissioner  from meeting Sikh pilgrims

नई दिल्ली: भारत ने पाकिस्तान में उसके राजनयिकों को तीर्थयात्रा पर गये सिख श्रद्धालुओं से नहीं मिलने देने और वहां एक प्रमुख गुरुद्वारा जा रहे भारतीय दूत को रास्ते से ही लौट जाने के लिए बाध्य करने पर उसके सामने कड़ा एतराज जताया है.


विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि करीब 1800 सिख श्रद्धालुओं का एक समूह सुविधाजन तीर्थयात्रा संबंधी द्विपक्षीय संधि के तहत 12 अप्रैल को पाकिस्तान की यात्रा पर गया. इन भारतीय तीर्थयात्रियों का स्वागत करने के लिए भारतीय उच्चायुक्त शनिवार को‘‘ इवैक्यू ट्रस्ट प्रोपर्टी बोर्ड’’ के अध्यक्ष के निमंत्रण पर गुरुद्वारा पंजा साहिब जा रहे थे लेकिन बिना कोई कारण बताए उन्हें बीच रास्ते से ही लौटने के लिए बाध्य कर दिया गया.


विदेश मंत्रालय ने इसे पाकिस्तान का ‘अतार्किक कूटनीतिक बेअदबी’ करार दिया और कहा कि ये घटनाएं राजनयिक संबंधों पर वियना संधि का स्पष्ट उल्लंघन है.  मंत्रालय के बयान के मुताबिक, ‘‘भारत ने तीर्थयात्रा पर गये श्रद्धालुओं से भारतीय राजनयिकों एवं दूतावास टीमों को नहीं मिलने देने पर कड़ा एतराज प्रकट किया है.’’


अभी महज दो हफ्ते पहले ही भारत और पाकिस्तान राजनयिकों के साथ व्यवहार से जुड़े मुद्दों का समाधान करने पर राजी हुए थे क्योंकि इन दोनों देशों के दूतों ने एक दूसरे के राजनयिकों के उत्पीड़न का दावा - प्रतिदावा किया था.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Pakistan prevented Indian high commissioner from meeting Sikh pilgrims
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 76 % लोगों ने कहा नाबालिग से रेप पर हो मौत की सजा: सर्वे