गुरदासपुर हमला: क्या है पाकिस्तान का K-2 प्लान?

By: | Last Updated: Monday, 27 July 2015 5:33 PM
Pakistan_

नई दिल्ली: पाकिस्तान के खतरनाक मंसूबे एक बार फिर भारत की धरती पर दहशत की तैयारी कर रहे हैं. पंजाब की धरती पर 20 साल बाद आतंक की सबसे बड़ी घटना ने इस पर मुहर लगा दी है और ताजा आतंकवादी घटना से एक गंभीर सवाल देश के सामने है क्या पाकिस्तान ने अपने के-2 प्लान यानी कश्मीर और खालिस्तान के दोहरे आतंकी एजेंडे को दोबारा शुरू कर दिया है.

 

पंजाब के गुरदासपुर में करीब 20 साल बाद बड़ा आतंकी हमला हुआ. 27 जुलाई की सुबह करीब साढ़े 5 बजे आतंकी गुरदासपुर के दीनानगर थाने में दाखिल हुए थे. 11 घंटे लंबे ऑपरेशन में सभी आतंकी मारे गए. एक एसपी, दो होमगार्ड समेत 9 लोगों की मौत ने ना सिर्फ पूरे देश को दहला दिया है बल्कि एक बड़ा और गंभीर सवाल भी खड़ा कर दिया है. क्या पाकिस्तान दोबारा K2 प्लान शुरू कर चुका है?

 

सरहद पार पाकिस्तान की धरती पर पलने वाले जिस के2 प्लान का जिक्र किया जा रहा है उसका सीधा मतलब है कि आईएसआई के पाले हुए आतंकवादियों के जरिए भारत के कश्मीर और खालिस्तान के नाम पर पंजाब में खूनखराबा करना.

 

पाकिस्तान के नापाक K-2 प्लान के बारे में और बताने से पहले आपको लिए चलते हैं सरहद पार पाकिस्तान की धरती पर जहां लोकतंत्र को कुचलकर पाकिस्तानी सेना के कमांडर जियाउल हक ने 1977 में खुद को पाकिस्तान का राष्ट्रपति घोषित कर दिया था.

 

1965 और 1971 में भारत से जंग में मुंह की खा चुका सेना के अधिकारी जिया उल हक के एजेंडे में सबसे ऊपर थी भारत से दुश्मनी. सीधी लड़ाई की हिम्मत टूट चुकी थी और रास्ता बचा था आतंकियों की मदद से भारत पर कायराना हमले करना. जिया उल हक की उसी योजना का नाम था K-2. कश्मीर तो एजेंडे में पहले से था लेकिन नई साजिश ये थी कि पंजाब के युवाओं को अलग देश खालिस्तान का सपना दिखाया जाए.

 

जिया उल हक की उस K-2  प्लान को देश पर मर मिटने को तैयार रहने वाले सिक्खों के जहन में उतारना नामुमकिन था. लेकिन पाकिस्तान ने इसे धार्मिक रंग देने की कोशिश की. जगजीत सिंह चौहान नाम के एक सिक्ख नेता की मदद ली गई और पाकिस्तान की जमीन पर खालिस्तान की नई सरकार बनाने का ड्रामा भी किया गया.

 

लेकिन जगजीत सिंह चौहान 1979 में ब्रिटेन चले गए और खालिस्तान बनाने की पाकिस्तानी साजिश को अंजाम देने की जिम्मेदारी उनके साथी जरनैल सिंह भिंडरावाले ने संभाल ली.

 

तब की कांग्रेस सरकार से एक बड़ी चूक हो गई. पंजाब की स्थानीय राजनीति में अकाली दल को कमजोर करने के लिए जरनैल सिंह भिंडरावाले को समर्थन दे दिया गया और भिंडरावाले का कद बड़ा होता चला गया.

 

भिंडरावाले पर उस दौर में अपने विरोधियों, धार्मिक नेताओं की हत्या के आरोप लगे. जेल तक जाना पड़ा लेकिन समर्थकों के हिंसक विरोध के बाद वो जेल से बाहर आ गए. लेकिन पंजाब में आतंकी घटनाओं का सिलसिला शुरू हो गया. बड़े पैमाने पर हत्याएं हुईँ यहां तक कि अवतार सिंह अटवाल नाम के एक डीआईजी को दरबार साहब के दरवाजे पर मार दिया गया. ये 1983 का दौर था.

 

साल 1984 ने ना सिर्फ भारत को बल्कि दुनिया को चौंका दिया. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने एक कड़ा फैसला लिया. खुफिया जानकारी के मुताबिक भिंडरावाले ने उस वक्त तक अमृतसर के स्वर्ण मंदिर को आतंकियों की पनाहगाह बना दिया था और पाकिस्तान से आए हथियार और गोला-बारूद का गोदाम भी बन चुका था स्वर्ण मंदिर

 

सेना की अलग अलग 6 टुकड़ियों ने 2 जून से 8 जून 1984 के बीच स्वर्ण मंदिर में मौजूद उग्रवादियों पर हमला किया. करीब 500 लोगों की जान गई और सेना ने भी 138 जवानों को गंवा दिया. इसे ऑपरेशन ब्लू स्टार का नाम दिया गया था.

 

ऑपरेशन ब्लू स्टार को सिक्ख विरोधी ठहराने की कोशिश की गई यानी इसका वो असर हुआ जो पाकिस्तान की आईएसआई हमेशा से चाहती थी. के-2 प्लान की साजिश को स्वर्ण मंदिर पर सेना के ऑपरेशन का बहाना मिल गया. बड़े पैमाने पर पंजाब के युवाओं को बरगलाया गया और उन्हें हथियार थमा दिए गए. पंजाब जल उठा.

 

असर ये हुआ कि 30 दिसंबर 1084 को यानी महज छह महीने बाद इंदिरा गांधी की हत्या भी उन्हीं के सिक्ख बॉडीगार्ड ने कर दी. ये सिलसिले पर तब लगाम लगनी शुरु हुई जब पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह ने हिंसा पर लगाम लगाने के लिए सेना और पुलिस को खुली छूट दे दी. 1995 आते आते पंजाब को खालिस्तान नाम के आजाद देश में बदलने का सपना टूटने लगा था. लेकिन आखिरी बड़ी वारदात बाकी थी

 

आतंकी हमलों और निर्दोष जानों की बलि लेने के बाद इस विरोध में अगस्त,1995 में पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री बिएंत सिंह, एक आत्मघाती हमले में मौत के शिकार हो गये.

 

ये वो आखिरी बड़ी वारदात थी जो पाकिस्तान के K2 प्लान का हिस्सा थी. इसके बाद पंजाब में किसी बड़ी आतंकी वारदात का नाम नहीं सुना लेकिन अब एक बार फिर पंजाब के गुरुदासपुर में हुई घटना ने उसी के-2 प्लान की याद दिला दी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Pakistan_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Pakistan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017