पाकिस्तान ने भारत को फिर ललकारा, पूंछ में एलओसी पर की फायरिंग

By: | Last Updated: Monday, 1 June 2015 4:42 AM

नई दिल्ली: पाकिस्तान ने एलओसी पर पुंछ में भारत की ओर फायरिंग की है लेकिन भारत ने गोलीबारी का जवाब नहीं दिया है. रात 12 बजे और सुबह 6 बजे पाकिस्तान की ओर से फायरिंग की गई.

 

आपको बता दें कि पुंछ की घटना से ठीक पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी दी थी. कल ABP न्यूज के सवाल पर सुषमा ने कहा था कि सीमा पर गोली चली तो हम भी चुप नहीं बैठेंगे. सुषमा स्वराज ने कहा आतंक मुक्त माहौल में ही बातचीत संभव है.

 

सुषमा स्वराज ने कल बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी बीजिंग यात्रा के दौरान पाकिस्तान और चीन के बीच आर्थिक गलियारे का मुद्दा बड़ी सख्ती से उठाया था और उन्हें बताया था कि भारत को यह अस्वीकार्य है.

 

पुंछ से पहले जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के तंगधार में आतंकियों और सेना के बीच एनकाउंटर हुआ था. रविवार की सुबह शुरू हुआ एनकाउंटर तीनों आतंकियों के मारे जाने के बाद खत्म हुआ. हथियारों से लैस आतंकी पाकिस्तान से भारत में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे लेकिन समय पर ही सुरक्षाबलों ने उनका रास्ता रोक लिया. इससे पहले भी 25 मई को तंगधार में घुसपैठ की कोशिश हुई थी जिसमें दो सैनिक शहीद हुए थे और एक आतंकी मारा गया था.

 

कश्मीर में लोग पाकिस्तान का झंडा फहराते रहेंगे: गिलानी

अलगाववादी नेता सैयद अली खान गिलानी ने भी भारत को चुनौती दी है. गिलानी ने भड़काऊ बयान देते हुए कहा कि घाटी में पाकिस्तानी झंडे लहराते रहेंगे. हाल के दिनों में अलगाववादी नेताओं की रैलियों में पाक के झंडे खुलेआम लहराए जा रहे हैं.

 

कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी ने यहां अपने आवास पर एक समारोह में कहा, ‘पाकिस्तानी झंडे फहराए गए हैं (कश्मीर में) और इंशाअल्लाह भविष्य में भी फहराए जाएंगे क्योंकि पाकिस्तान हमारा पड़ोसी और शुभचिंतक है.’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Pakistani troops violated ceasefire twice along LoC
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017