कृषिमंत्री के बयान पर संसद में आज भी हंगामा बरपने के आसार

By: | Last Updated: Monday, 27 July 2015 1:09 AM
parliament monsoon session

नई दिल्ली: संसद में आज भी हंगामे के आसार बने हुए हैं. किसानों की मौत पर कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के विवादित बयान पर विपक्ष सरकार को घेरने की तैयारी में है.

 

पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा आज से दिल्ली के जंतर-मंतर पर अनशन शुरू करेंगे. वे किसानों के लिए विशेष पैकेज और संसद में चर्चा चाहते हैं.

 

देश के कृषिमंत्री ने किसानों को लेकर दिया था अबतक का सबसे भद्दा बयान

देश के कृषिमंत्री राधामोहन सिंह के मुताबिक देश में किसान प्रेम प्रसंग और नपुंसकता के कारण खुदकुशी कर रहे हैं.

 

क़षि मंत्रालय की ओर से राज्यसभा में दिए गए एक लिखित बयान में कहा गया है कि ”नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के मुताबिक देश में इतने किसानों की मौत शादी नाकाम होने या टूट जाने, दहेज से जुड़े विवाद, बीमारी, नशा, दहेज, प्रेम प्रसंग (लव अफेयर्स) और नपुंसकता की वजह से हुई है.”

 

देश में इस साल 1400 किसानों ने खुदकुशी की

एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक देश में इस साल 1400 किसानों ने खुदकुशी की.  राज्यसभा में पूछा गया था कि पिछले साल हुई किसानों की मौत के पीछे क्या कारण थे. इसी के जवाब में कृषि मंत्रालय ने यह जवाब दिया था.

 

2014 में कुल 5,650 किसानों ने खुदकुशी की

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, साल 2014 में कुल 5,650 किसानों ने खुदकुशी की, जिनमें अधिकांश मामले महाराष्ट्र, तेलंगाना और छत्तीगढ़ के हैं. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा जारी रिपोर्ट में ‘एक्सिडेंटल डेथ्स एंड सूसाइड्स इन इंडिया 2014’ के मुताबिक, कुल 5,650 किसानों ने खुदकुशी की, जिनमें 5,178 पुरुष, जबकि 472 महिलाएं थीं.

 

महाराष्ट्र के हैं सर्वाधिक मामले

आंकड़ों से यह खुलासा होता है, “महाराष्ट्र में किसानों की खुदकुशी के सर्वाधिक 2,578 (45.5 फीसदी), जिसके बाद तेलंगाना में 898 (15.9 फीसदी), जबकि मध्य प्रदेश में 826 मामले (14.6 फीसदी) सामने आए हैं.”

 

बयान पर राहुल ने पीएम मोदी पर निशाना साधा

राधामोहन सिंह के इस बयान पर हंगामा भी शुरू हो गया है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. राहुल ने कहा प्रधानमंत्री अपने मंत्री से कहे कि किसानों के घर जाकर देखें क्या स्थिति है.

 

कृषि मंत्री के खिलाफ जेडीयू ला सकती है विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव

जेडीयू नेता केसी त्यागी ने इसे किसानों का अपमान बताया और कहा कि संसद को गुमराह करने के लिए वह कृषि मंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे.

 

वहीं समाजवादी पार्टी नेता नरेश अग्रवाल ने राधामोहन सिंह के बयान को गैरजिम्मेदारान करार दिया है. नरेश यादव ने मांग की है कि राधामोहन सिंह इस बयान पर मांफी मांगे.

 

राधामोहन ने बयान पर दी ऐसी सफाई

राधामोहन सिंह ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा, ”हमने वही आंकड़े उपलब्ध कराए हैं जो हमें नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी) से मिले हैं.”

 

किसानों की खुदकुशी पर सरकार की यह टिप्पणी विपक्ष के लिए एक नया मुद्दा साबित हो सकती है, जो नरेंद्र मोदी सरकार को विवादित भूमि अधिग्रहण विधेयक को किसान विरोधी और गरीब विरोधी बताकर उसका पहले से ही विरोध कर रही है.

 

संबंधित ख़बरें-

सेना ने कबूला- नहीं है पर्याप्त गोला बारूद

ललित मोदी के लिए सिफारिश नहीं की: सुषमा

बिजली मंत्रालय: झूठे दावे, मामूली सुधार

ओवैसी पर भड़के बीजेपी नेता, बोले- पाकिस्तान जा सकते हैं!

लव अफेयर्स, शादी और नपुंसकता है किसानों की खुदकुशी की वजह: राधा मोहन सिंह 

सुषमा के आरोपों से बागड़ोदिया का इनकार

मॉनसून सत्र के चौथे दिन भी हंगामे के आसार, भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर कांग्रेस-बीजेपी में घमासान

60 मिनट बोलना कठिन नहीं है, छह मिनट में बात रखना कठिन है: मोदी

सोनिया की फटकार के बाद थरूर को मिली मोदी से तारीफ

हवा में कौन है मोदी या राहुल? 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: parliament monsoon session
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: parliament
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017