मोदी सरकार ने शारदा घोटाले पर अमित शाह के दावे की निकाली हवा

By: | Last Updated: Wednesday, 3 December 2014 12:14 PM

नई दिल्ली: सरकार ने लोकसभा में लिखित बयान दिया कि उसके पास ऐसा कोई सबूत नहीं है कि शारदा चिटफंड का पैसा बांग्लादेश के आतंकी कनेक्शन में लगा है. सरकार के इस बयान के बाद टीएमसी ने अमित शाह से माफी मांगने के लिए कहा है क्योंकि अमित शाह ने कोलकाता की रैली में कहा था बर्धमान ब्लास्ट में शारदा चिटफंड का पैसा लगा है.

 

सरकार के इस लिखित बयान के बाद अमित शाह के दावे झूठे साबित हो रहे हैं. हालांकि, इस पूरे मामले में दो खास पेंच है? आइए देखते हैं क्या है वो खास पेंच?

 

आतंकी नेटवर्क में नहीं हुआ इस्तेमाल

 

शारदा चिटफंड पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में सरकार ने लोकसभा में लिखित उत्तर देते हुए कहा, “शारदा चिटफंड घोटाले मे अबतक जो जांच हुई है, उसमें ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है कि शारदा चिटफंड का पैसा बांग्लादेश के आतंकी नेटवर्क में इस्तेमाल हुआ हो.”

 

जैसी ही सरकार का ये बयान आया, टीएमसी ने अमित शाह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया.

 

टीएमसी नेता सुदीप बंद्योपाध्याय ने कहा कि अमित शाह अपने बयान के लिए माफी मांगे.

 

टीएमसी अमित शाह के जिस बयान पर माफी मांगने की बात कर रही है, वो बयान उन्होंने रविवार को कोलकाता की रैली के दौरान दिया था.

 

अमित शाह ने कहा था, शारदा चिटफंड के घोटाले में टीएमसी शामिल हैं और इस घोटाले का पैसा बर्धमान धमाके में इस्तेमाल किया गया.

 

अब इस पूरे मामले का पहला पेंच देखिए. अमित शाह ने कहीं ये नहीं कहा है कि शारदा चिटफंड का पैसा बांग्लादेश के आतंकियों के पास गया और वहां से वो बर्धमान ब्लास्ट में इस्तेमाल हुआ. उन्होंने सीधे सीधे बर्धमान ब्लास्ट में शारदा चिटफंड के पैसे लगे होने की बात कही है.

 

सरकार ने भी जो बयान दिया है उसमें उसने केवल यही कहा है कि शारदा चिटफंड का पैसा बांग्लादेश के आतंकी नेटवर्क में नहीं लगा है. मतलब अमित शाह की बात को काट नहीं रही है सरकार हालांकि सरकार के बयान से टीएमसी को थोड़ी राहत जरूर मिल सकती है, क्योंकि अबतक बीजेपी ममता पर आतंकियों को बचाने का आरोप लगाते आई है.

 

ये खेल अलग है-येचुरी

 

उधर पश्चिम बंगाल की विपक्षी पार्टी सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी का कहना है कि बीजेपी-टीएमसी में मिलीभगत, क्योंकि राज्यसभा में बीजेपी को टीएमसी के सपोर्ट की जरुरत है.

 

यही है पूरे मामले का दूसरा पेंच जिसका जिक्र सीताराम येचुरी कर रहे हैं. हालांकि बीजेपी और टीएमसी में नजदीकियों की बात फिलहाल दूर की कौड़ी ही दिख रही है क्योंकि हाल के दिनों में दोनों के बीच जबरद्स्त तल्खी देखने के लिए मिली है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: parliament on amit shah claim on Saradha chit fund
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017