56 इंच का सीना, 67 घंटे का ऑपरेशन?

pathankot attack

अगर खुफिया तंत्र चुस्त हो और सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद हो तो आतंकी क्या परिंदे भी पर नहीं मार सकते हैं. ये हम नही कह रहें हैं बल्कि इसी तरह का भाव प्रधानमंत्री के भाषण से देखने को मिला था. गुवाहटी में डीजीपी कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने 2014 में कहा था कि कारगर खुफिया नेटवर्क वाले देश को सरकार चलाने के लिए किसी हथियार और गोला-बारूद की जरूरत नहीं है लेकिन पठानकोट में आतंकी हमले में खुफिया नेटवर्क तो फेल हुआ ही साथ ही सुरक्षा की भी पोल खुल गई और तो बची खुची सरकार की साख पर भी बट्टा लगा.

 

प्रधानमंत्री से लेकर गृहमंत्री ऑपरेशन खत्म हुआ नही कि पीठ थपथपाने लगे. आतंकी वहीं छिपे रहे लेकिन ऑपरेशन खत्म होने की जानकारी दी गई. शायद यह पहली बार हुआ है कि आतंकियों पर पूरी तरफ सफलता पाए बिना डंके की चोट पर देशवासियों को भरोसा देने का काम हुआ है लेकिन चंद घटों में शुरू हुई फायरिंग से सरकार की पोल खुल गई. चार आतंकवादी मारे गये थे जबकि पठानकोट के एयरबेस के इर्द-गिर्द दो आतंकी छिपे हुए थे. आखिरकार कहां चूक हुई और क्यों चूक हुई.

 

कहां से ऑपरेशन खत्म होने की जानकारी मिली और किसने अधूरी जानकारी देने की कोशिश की. आतंकी हमले में 6 आतंकी मारे गये जबकि 7 जवान शहीद हो चुके है और ऑपरेशन जारी है. सबसे बड़ा सवाल ये है 6 आतंकी को ढ़ेर करने में 67 घंटे क्यों लगे. एनएसजी की टीम, डीएससी की टीम, पुलिस इत्यादि लगाये गये थे लेकिन जो परिणाम सामने आये हैं उससे हमारी सुरक्षा व्यवस्था की पोल खुलती है. हमारी सुरक्षा व्यवस्था से लेकर खुफिया व्यवस्था, हमारी तैयारी से लेकर हमारी बहादुरी पर सवाल खड़े हो रहे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक खुफिया एजेंसी को आतंकी गतिविधियों के बारे में जानकारी थी तब क्यों नहीं इतने बड़े आतंकी हमले को रोका गया या काबू किया गया. जब पठानकोट में एसपी का अपहरण हुआ इसके बाद ही वहां पर एनएसजी को तैनात कर दिया गया. अगर ऐसा नहीं होता तो शायद बड़ा नुकसान हो सकता है. गनीमत रही कि एयरबेस पर रक्षा साजो सामान का नुकसान नहीं हुआ.

 

पठानकोट एयरबेस रक्षात्मक नजरिए से महत्वपूर्ण है. इस एयरबेस में मिग 21, लडाकू विमानों के अलावा एमआई 25 और एमआई 35 हमलावर हेलीकॉप्टरों का भी ठिकाना है. मिसाइल के अलावा यहां पर और महत्वपूर्ण हथियार भी हैं फिर इसकी सुरक्षा करीब 50 से 100 डीएससी के भरोसे कैसे छोड़ दिया गया. करीब 50 स्कवायर किलोमीटर एयरबेस जिसमें करीब तीन चौथाई जंगल है वहां पर सिर्फ एक कंपनी एनएसजी कमांडो लगाया गया. पठानकोट में आर्मी रहते हुए आर्मी की सेवा क्यों नहीं ली गई. दरअसल एयरफोर्स का लड़ने का तर्जुबा हवाई लड़ाई में होती है जबकि आर्मी ग्राऊंड पर लड़ने के लिए बेहतर माना जाता है . कहा जा रहा है कि सुरक्षा एजेंसियों में समन्वय की कमी थी और दिलो-दिमाग से जंग नहीं लड़ा गया. माना जा रहा है कि इतने बड़े एयरबेस की सुरक्षा के लिए कम से कम 500 सुरक्षाकर्मी होनी चाहिए थी और तकनीकी सुविधा से चुस्त-दुरुस्त होना चाहिए था. आतंकी एयरबेस में घुस गये और घुसकर छिपे रहे. खुफिया अलर्ट के बावजूद पुख्ता कार्रवाई नहीं हुआ. दुश्मन आतंकियों ने 7 बहादुर सैनिकों को मौत के घाट उतार दिए. ये साफ दर्शाता है कि सुरक्षा कर्मी में तालमेल नहीं रहा है.

 

यही नहीं एयरबेस के एक तरफ सुरक्षा तो बढ़ाई गई तो दूसरे हिस्से में सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई. सबसे बड़ी चूक तो ये थी शनिवार को सरकार ने चार आतंकियों को मारे जाने की खबर दी और ऑपरेशन को रोक दिया. एनएसजी और एसपीजी को उम्दा क्वालिटी का सुरक्षा बल माना जाता है . दूसरे देश में आईईडी और ग्रेनेड को डिफ्यूज करने के लिए रोबोट का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन पठानकोट में रोबोट का इस्तेमाल नहीं किया गया है. जब मालूम था कि आतंकी आत्मघाती जैसा हमला किया तो आतंकी के शरीर से आईईडी हटाने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना चाहिए था. अगर ऐसा होता तो एनएसजी के लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन कुमार की जान बच सकती थी. निरंजन कुमार ने जान जोखिम में डालकर बहादुरी का अदम परिचय दिया. नरेन्द्र मोदी सरकार को मालूम था कि नवाज शऱीफ से बात करने का मतलब खतरे से खाली नहीं है.
पाकिस्तान के काबू में न तो आर्मी है न ही आतंकवादी है तो ऐसे में पाकिस्तान से बातचीत करने के बाद भारत को ज्यादा सतर्क, अपनी सुरक्षा और बढ़ानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ. ये पुराना इतिहास रहा है कि जब भी पाकिस्तान से भारत हाथ बढ़ाने की कोशिश की को पाकिस्तान ने अच्छा शिला कभी नहीं दिया है. यही नहीं ये हमला हमारी सीमा की सुरक्षा पर भी सवाल उठाता है. आतंकी कैसे अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था की फायदा उठाते हुए घुसपैठ करने में कामयाब हुए. जबकि अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद होनी चाहिए थी. सबसे बड़ी बात ये है कि इन दगाबाजी चाल में पाकिस्तान के साथ राजनैतिक और कूटनीतिक रिश्ते कैसे बेहतर हो सकते हैं. मोदी नवाज शरीफ से हाथ मिला चुके हैं फिर बातचीत तोड़ते हैं तो मोदी सरकार की बड़ी किरकिरी हो सकती है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: pathankot attack
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Pathankot attack PM Narendra Modi
First Published:

Related Stories

J&K: पुलवामा में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के जिला कमांडर अयूब लेलहारी को किया ढेर
J&K: पुलवामा में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के जिला कमांडर अयूब लेलहारी को...

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के जिला कमांडर को आज...

गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर और ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी हादसे की जिम्मेदार
गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर और ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली...

नई दिल्ली: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 10 अगस्त से 12 अगस्त के बीच 48 घंटे के भीतर 36 बच्चों की...

अमेरिका ने हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन घोषित किया
अमेरिका ने हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन घोषित किया

वाशिंगटन: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के करीब दो महीने बाद आज अमेरिका...

RBI ने नहीं पूरी की नोटों की गिनती तो पीएम ने कैसे किया 3 लाख करोड़ वापस आने का दावा: कांग्रेस
RBI ने नहीं पूरी की नोटों की गिनती तो पीएम ने कैसे किया 3 लाख करोड़ वापस आने का...

नई दिल्ली: कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वाधीनता दिवस के अवसर पर राष्ट्र के नाम...

'सोनू' के तर्ज पर कपिल मिश्रा का 'पोल खोल' वीडियो, गाया- AK तुझे खुद पर भरोसा नहीं क्या...?
'सोनू' के तर्ज पर कपिल मिश्रा का 'पोल खोल' वीडियो, गाया- AK तुझे खुद पर भरोसा नहीं...

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार में मंत्री पद से बर्खास्त किए गए कपिल मिश्रा ने सीएम अरविंद केजरीवाल...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. रिश्तों में टकराव के लिए चीन ने पीएम नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है. http://bit.ly/2vINHh4  मंगलवार को...

 'ब्लू व्हेल' गेम पर सरकार सख्त, रविशंकर प्रसाद ने कहा- इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता
'ब्लू व्हेल' गेम पर सरकार सख्त, रविशंकर प्रसाद ने कहा- इसे स्वीकार नहीं किया...

नई दिल्ली: जानलेवा ‘ब्लू व्हेल’ गेम को लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को...

विपक्षी दलों के साथ शरद यादव कल करेंगे 'शक्ति प्रदर्शन'!
विपक्षी दलों के साथ शरद यादव कल करेंगे 'शक्ति प्रदर्शन'!

नई दिल्ली: जेडीयू के बागी नेता शरद यादव कल यानि गुरुवार को अपनी ताकत के प्रदर्शन के लिए सम्मेलन...

भगाए जाने के बाद बोला चीन, लद्दाख में टकराव की कोई जानकारी नहीं
भगाए जाने के बाद बोला चीन, लद्दाख में टकराव की कोई जानकारी नहीं

बीजिंग: चीन ने जम्मू-कश्मीर के लद्दाख में मंगलवार को दो बार भारतीय इलाके में घुसपैठ की कोशिश...

योगी राज में किसानों के 'अच्छे दिन'
योगी राज में किसानों के 'अच्छे दिन'

नई दिल्लीः यूपी के किसानों के लिए खुशखबरी का इंतजार खत्म हो गया है. कल सीएम योगी आदित्यनाथ 7 हज़ार...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017