पटना हादसे पर राजनीति तेज, कटघरे में सरकार और प्रशासन

By: | Last Updated: Saturday, 4 October 2014 1:51 PM

नई दिल्ली: पटना के गांधी मैदान में मौत की भगदड़ के बाद अब लोग अपनों की तलाश में है . कोई अपनों की तलाश में अखबार के पन्ने पलट रहा है तो कोई शवगृह तक जा पहुंचा है . हालत ये हो गई कि पटना मेडिकल कॉलेज के शवगृह पर लगे ताले को तोड़ दिया गया

 

सवाल उठता है कि इस हादसे का जिम्मेदार कौन है . विपक्ष बिहार सरकार और प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगा रहा है . सवाल बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर भी उठ रहे हैं . मुख्यमंत्री पर सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं क्योंकि हादसे के बाद मुख्यमंत्री अपने गांव चले गए थे और घंटो उनसे संपर्क नहीं हो पाया . विपक्ष इस्तीफा मांग रहा है .

 

इस बड़े हादसे पर बड़ी राजनीति हो रही है लेकिन सवाल उठता है कि क्या इस हादसे को रोका जा सकता था .शुक्रवार की शाम 6 बजे रावण दहन हुआ . पांच लाख लोग इस आयोजन में आए थे . रावण दहन के बाद लोग लौट रहे थे तभी भगदड़ मची और इतना बड़ा हादसा हो गया .

 

 हादसा हुआ गांधी मैदान से निकलने वाले उस गेट पर जो रामगुलाम चौक की तरफ है .सवाल उठ रहा है कि जितनी सुरक्षा होनी चाहिए थी क्या उतनी थी? सवाल पुलिस के लाठीचार्ज पर भी उठ रहे हैं .

 

गांधी मैदान में बिजली की व्यवस्था पर भी सवाल खड़ा किया जा रहा है . हादसा और हादसे को लेकर सरकार और प्रशासन की विफलता पर कई सवाल उठ रहे हैं .  पुलिस जांच में लग गई है .सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं. लेकिन सवाल उठाने वाले जांच की प्रक्रिया पर भी सवाल उठा रहे हैं .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: PATNA
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017