इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश- अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में मिले लड़कियों को एंट्री

By: | Last Updated: Friday, 14 November 2014 3:17 AM

इलाहाबाद: अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में लड़कियों के दाखिल होने पर पाबंदी मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला आया है. अदालत ने एएमयू प्रशासन से लड़कियों को तत्काल प्रभाव से लाइब्रेरी में पढ़ाई की इजाजत देने का आदेश दिया. अदालत ने वीसी के फैसले पर हैरानी जताते हुए इसे लिंग भेद (Gender Differences ) का मामला मानते हुए फैसले को गैरकानूनी माना.

 

अदालत ने कहा कि लिंग भेद के आधार पर पढ़ाई से रोकना गैर कानूनी है. अदालत ने कहा जगह कम होने की सूरत में लड़कियों के लिए अलग वक्त निर्धारित किया जाए या कोई दूसरे वैकल्पिक इंतजाम किये जाएं. अदालत ने एएमयू के वीसी और रजिस्ट्रार को नोटिस जारी कर दस दिनों में जवाब दाखिल करने को कहा है. 24 नवंबर को होगी मामले की अगली सुनवाई.

 

इस जनहित याचिका में विश्वविद्यालय के अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई  थी कि वे लाइब्रेरी में छात्राओं को जाने की अनुमति दें.

 

विधि इंटर्न (लॉ इंटर्न) और कार्यकर्ता दीक्षा द्विवेदी द्वारा दायर जनहित याचिका में आरोप लगाया गया था कि एएमयू के कुलपति जमीरूद्दीन शाह पुस्तकालय में छात्राओं को जाने की अनुमति नहीं देकर लड़कियों के साथ भेदभावपूर्ण रवैया अपना रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: pil against the ban on girls participation in amu’s library
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: AMU library PIL
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017