मोदी का धुआंधार प्रचार विरोधी पार्टियों के लिए बना सिर दर्द

By: | Last Updated: Tuesday, 7 October 2014 2:55 PM

नई दिल्ली : महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी बीजेपी का सबसे बड़ा चेहरा बनते दिख रहे हैं. लेकिन सवाल ये कि मोदी ही क्यों. क्या बीजेपी के पास महाराष्ट्र में कोई और चेहरा नहीं है जो विधानसभा चुनाव में बेड़ा पार लगा सके. सवाल ये कि क्या आम चुनाव के साथ साथ बीजेपी के लिए विधानसभा चुनाव जीतना भी मोदी के बिना मुमकिन नहीं रह गया है.

 

नरेंद्र मोदी के पास पूरे देश की कमान है. लेकिन इन दिनों प्रधानमंत्री मोदी का सबसे ज्यादा वक्त गुजर रहा है महाराष्ट्र में. लेकिन लगातार मोदी की महाराष्ट्र में मौजूदगी एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे को जरा भी नहीं भा रही है.

 

ये वही राज ठाकरे हैं जो लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी की तारीफों के पुल बांधते दिखे थे लेकिन राज की जुबान अब सबसे ज्यादा मोदी के खिलाफ ही आग उगल रही है. कांग्रेस नेताओं को भी इसी बात की टीस है कि प्रधानमंत्री मोदी महाराष्ट्र में बीजेपी का चेहरा क्यों बने हुए हैं.

 

महाराष्ट्र की किस्मत का फैसला 15 अक्टूबर को ईवीएम में कैद होगा. लेकिन महाराष्ट्र में चुनाव इस बार बेहद दिलचस्प दिख रहे हैं. तस्वीर यहां पूरी तरह बदल चुकी है. इस विधानसभा चुनाव में कोई किसी के साथ नहीं है. बीजेपी शिवसेना का 25 साल पुराना रिश्ता टूट चुका है. कांग्रेस एनसीपी के रास्ते भी अलग हो चुके हैं. विधानसभा तक पहुंचने की अग्निपरीक्षा से सबको अकेले ही गुजरना है. सबसे ज्यादा नजरें टिकी हैं बीजेपी पर. जिसकी तरफ से महाराष्ट्र में फिलहाल सबसे बड़ा चेहरा बने हुए हैं मोदी. लेकिन सवाल ये है कि बीजेपी को महाराष्ट्र की लड़ाई जीतने के लिए मोदी की इतनी मदद क्यों लेनी पड़ रही है.

 

मोदी बीजेपी के लिए महाराष्ट्र में इसलिए भी मजबूरी बनते दिख रहे हैं क्योंकि बीजेपी के पास यहां फिलहाल कोई बड़ा चेहरा नहीं है. कुछ महीने पहले गोपीनाथ मुंडे का हादसे में निधन हो चुका है. नितिन गडकरी महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मददगार साबित हो सकते थे. लेकिन वह भी फिलहाल केंद्र में अहम जिम्मेदारियां संभाल रहे हैं.

 

लोकसभा चुनाव में मोदी ने बीजेपी के लिए दिन रात प्रचार किया था. उनके मैजिक के चलते ही बीजेपी बहुमत हासिल करने में कामयाब रही थी. लेकिन हालात अब बदल चुके हैं. मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं. बीजेपी की मजबूरी को महसूस करते हुए महाराष्ट्र में प्रचार का जिम्मा मोदी ने उठा तो लिया. लेकिन सवाल ये है कि अगर महाराष्ट्र विधानसभा में भी मोदी का मैजिक अगर चल गया और बात सीएम पद की जिम्मेदारी देने की हुई तब बीजेपी के पास कौन सा विकल्प है?

 

चुनाव में बहुमत किस पार्टी को मिलेगा ये तो 19 अक्टूबर को तय हो जाएगा लेकिन लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद महाराष्ट्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धुआंधार प्रचार विरोधी पार्टियों के लिए सिर दर्द जरूर बन गया है.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: PM Modi addresses many rally in Maharashtra
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014 Maharashtra PM Modi Shiv Sena
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017