पीएम मोदी करेंगे अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को लॉन्च, घंटों की दूरी अब मिनटों में होगी तय

पीएम मोदी करेंगे अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को लॉन्च, घंटों की दूरी अब मिनटों में होगी तय

दूरी को कम करने वाले फेरी सर्विस का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को लोकापर्ण करने वाले हैं. पहली पैसेंजर फेरी बोट घोघा से समुद्री रास्ते दक्षिण गुजरात में दहेज तक जाएगी. जिसमे स्वयं पीएम भी मौजूद रहेंगे.

By: | Updated: 21 Oct 2017 09:35 PM

नई दिल्ली: कल प्रधानमंत्री पिछले एक महीने में तीसरी बार गुजरात जा रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल अपने ड्रीम प्रोजेक्ट यानि सौराष्ट्र और दक्ष‍िण गुजरात के बीच फेरी सेवा का उद्घाटन करेंगे. सौराष्ट्र के भावनगर से अगर दक्षिण गुजरात के सूरत तक का सफर करना हो तो 8-10 घंटे लग जाते थे, लेकिन अब प्रधानमंत्री मोदी की तरफ से इस सेवा के उद्घाटन के बाद ये दूरी 50 मिनटों में पूरी की जा सकेगी.


दरअसल सौराष्ट्र के अमरेली, राजकोट और भावनगर से कई व्यापारी सूरत और दक्षिण गुजरात के बाकी शहरों में बसे हैं. दूरी को कम करने वाले घोघा-दहेज रो-रो फेरी सर्विस का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को लोकापर्ण करने वाले हैं. पहली पैसेंजर फेरी बोट घोघा से समुद्री रास्ते दक्षिण गुजरात में दहेज तक जाएगी. जिसमे स्वयं पीएम भी मौजूद रहेंगे.


गौरतलब है कि पीएम मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री हुआ करते थे, तभी उन्होंने यह सपना देखा था. पीएम की सोच यह थी कि जो व्यापारी भावनगर अमरेली से सूरत व्यापार करने जाते हैं, उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. वैसे में अगर इस तरह की बोट सेवा उपलब्ध हो जाती है, तो पैसेंजर को दिक्कतों का कम सामना करना पड़ेगा. इससे वो सुबह जाकर शाम को वापस आ सकते हैं.


रो-रो फेरी सर्विस में जो बोट रहेगी, उसमें 100 बड़े वाहनों की ढुलाई और करीब 500 लोगों की यात्रा एक साथ होगी, लेकिन फिलहाल इस प्रोजेक्ट का एक ही फेज पूरा हुआ है. जिसमें केवल पैसेंजर्स के लिए सुविधा शुरू होगी. हालांकि, इंडिगो सीवेस के चेयरमैन चेतन कांट्रेक्टर कहना है कि फिलहाल उनके पास केवल एक ही फेरी है. जो दिन में 2 से 3 बार सर्विस देगी. जल्द 3-4 फेरी और शामिल होगी. प्रति व्यक्ति 600 रुपये लगेंगे. फेरी के किराए की यह दर बस सुविधा से सस्ती होगी.


भावनगर के घोघा से भरूच के दहेज के बीच अगर सड़क के रास्ते कोई यात्रा करे तो 310 किमी की दूरी होती है, लेकिन समुद्र के रास्ते यह दूरी सिर्फ 17 नॉटिकल माइल्स यानी 32 किमी की हो जाएगी. यानी केवल 50 मिनट में 7-8 घंटों की दूरी पूरी होगी. जिससे समय तो बचेगा और पेट्रोल भी बचेगा. साथ ही सड़क हादसो में भी काफी कमी आएगी.

केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया का कहना है कि इस प्रोजेक्ट का दूसरा फेज जनवरी 2018 में शुरू होगा जिसके तहत बड़े वाहन के साथ-साथ 500 से ज्यादा यात्री एक ही फेरी में आ जाया करेंगे. फिलहाल फेज-1 की फेरी में 250 पैसेंजर ही आ सकेंगे.


हालांकि, चुनाव से पहले इस सेवा को शुरू करने के पीछे भी बीजेपी की रणनीति साफ देखी जा रही है. दरअसल सौराष्ट्र के कई पाटीदार दक्षिण गुजरात में बसे है और व्यापार के लिहाज से भी ये सेवा उन्हें बड़ी सौगात देगी. साफ है चुनाव से पहले एक तरह से बीजेपी उन्हें लुभाने की कोशिश कर रही है. हालांकि बीजेपी ने इसे राजनीति से अलग कर सौराष्ट्र का विकास करार दिया है.

घोघा टर्मिनल पूरी तरह कार्यरत होने के बाद गुजरात सरकार इसे घोघा से मुंबई और घोघा से हजीरा तक फेरी सर्विस चलाने का प्लानिंग कर रही है. ये पूरा प्रोजेक्ट गुजरात मेरिटाटम बोर्ड के जरिए तैयार हुआ है. फिलहाल इस फेरी सर्विस का किराया 600 रुपया रखा गया है जिसके बाद में भावनगर से पिकप प्वाइंट, प्री-बुकिंग, ऑनलाइन बुकिंग को भी शुरू किया जाएगा.


प्रधानमंत्री घोघा से दहेज तक की रो-रो फेरी सर्विस के जरिए यात्रा भी करेंगे. इसके बाद वह दहेज से वडोदरा हेलिकॉप्टर से जाएंगे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story अमित शाह ने वोट डाला, लोगों से विकास विरोधियों को हराने की अपील की