मोदी मंत्रिमंडल के 6 सितारे

By: | Last Updated: Monday, 10 November 2014 1:10 PM

नई दिल्ली : बड़ी रंग बिरंगी सी दिखाई दे रही है नरेंद्र मोदी की नई कैबिनेट. मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में 21 मंत्रियों ने शपथ ली लेकिन इन 21 मंत्रियों में 6 नाम ऐसे हैं जो भीड़ से बिल्कुल अलग है. इनकी शुरुआत भी जुदा है और मंत्री बनने का अंदाज भी. मोदी के इन नए मंत्रियों में कोई साध्वी है तो कोई मजदूर. कोई गायक है तो कोई डॉक्टर. एक दूसरे से बिल्कुल अलग इन 6 मंत्रियों में सबसे पहले बात करते हैं पंजाब की होशियारपुर सीट से सांसद विजय सांपला की.

 

मोदी मंत्रिमंडल में मजदूर

विजय सांपला सामाजिक न्याय राज्यमंत्री बनाए गए हैं. सामाजिक न्याय जैसे मंत्रालय का जिम्मा संभालने जा रहे सांपला कभी खेत में मजदूरी किया करते थे. करीब 11 साल तक विजय सांपला ने सउदी अरब में प्लंबर का काम किया. अपने गांव में किसी से उधार लेकर पैसा कमाने के लिए सांपला सऊदी अरब गए थे. 1990 में सांपला देश लौटे और बिल्डिंग मटीरियल का बिजनेस शुरू किया. 53 साल के विजय सांपला की जिंदगी में अहम मोड़ तब आया जब उन्होंने साल 1997 में बीजेपी की सदस्यता ली.. यहीं से उनका राजनीतिक करियर शुरू हुआ और 17 साल बाद दसवीं पास विजय सांपला मोदी कैबिनेट में शामिल हुए हैं.. 1997 में पहली बार सांपला ने पुश्तैनी गांव सूफी पिंड में सरपंच का चुनाव लड़ा था.. 2014 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़े और सांसद बन गए. पंजाब में अकालीदल से बिगड़ते रिश्तों के बीच बीजेपी ने विजय सांपला को आगे करके दलित वोट बैंक पर भी कब्जा जमाने की कोशिश की है 

 

मोदी मंत्रिमंडल में साध्वी

मोदी मंत्रिमंडल में एक मंत्री अब चंदन का टीका, रुद्राक्ष की माला और भगवा चोला पहने नजर आएंगी. फतेहपुर से बीजेपी सांसद साध्वी निरंजन ज्योति को फूड प्रोसेसिंग राज्यमंत्री बनाया गया है 47 साल की निरंजन ज्योति ने 12 वीं कक्षा तक पढ़ाई की है. पहली बार सांसद बनी और सीधे राज्यमंत्री भी बन गईं.. अपनी इतनी लंबी छलांग से साध्वी निरंजन ज्योति खुद भी हैरान हैं. दरअसल साध्वी निरंजन ज्योति निषाद समुदाय से आती हैं और यूपी में भगवा ब्रिगेड का चेहरा मानी जाती हैं. यूपी में अगले विधानसभा चुनावों से पहले साफ-सुथरी छवि वाली साध्वी निरंजन ज्योति को राज्यमंत्री बनाकर निषाद समुदाय के लोगों को भी खुश करने की कोशिश की गई है. साल 2002 और 2007 में साध्वी बीजेपी के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़कर हार चुकी थीं लेकिन साल 2012 में विधायक का चुनाव जीता फिर सांसद का चुनाव जीता और अब राज्यमंत्री की कुर्सी संभाल चुकी हैं 

 

मोदी मंत्रिमंडल में निशानेबाज

जयपुर ग्रामीण सीट से पहली बार सांसद का चुनाव जीते राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को सूचना प्रसारण मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया है. 44 साल के राज्यवर्धन का नाम साल 2004 में ओलंपिक में सिल्वर मेडल जिताने के लिए चर्चा में आता था. राज्यवर्धन ने साल 2004 ओलंपिक में डबल ट्रैप शूटिंग में देश को सिल्वर मेडल जिताया था. तब देश का सिर गर्व से ऊंचा किया था और अब देश की सेवा करने के लिए तैयार हो चुके हैं. 23 साल तक सेना में रहने के बाद राज्यवर्धन साल 2013 में बीजेपी में शामिल हुए. राज्यवर्धन राजस्थान में पार्टी के युवा चेहरे के रूप में देखे जाते हैं. राज्यवर्धन ओलंपिक समेत निशानेबाजी की कई अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में तिरंगा लहरा चुके हैं. खेल जगह अपनी उपलब्धियों के लिए राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड और पद्मश्री से सम्मानित हो चुके हैं.

 

मोदी मंत्रिमंडल में इन्वेस्टमेंट कंसल्टेंट

जयंत सिन्हा …कॉरेपोरेट की दुनिया में करीब तीन दशक गुजारने के बाद किस्मत उन्हें राजनीति के मैदान में ले आई और पहली बार में ही वित्त राज्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गये. जयंत सिन्हा झारखंड के हजारीबाग से सांसद हैं. इस साल मई में पिता यशवंत सिन्हा ने चुनाव लड़ने से मना किया…तो हजारीबाग सीट से बीजेपी ने उन्हें मैदान में उतार दिया. मई में लोकसभा पहुंचे…और चार महीने बाद मंत्रिमंडल में भी जगह पक्की हो गई. मशहूर अमेरिकी इन्वेस्टमेंट फर्म मैकिंजी में नौकरी और पार्टनरशिप, बिलियन डॉलर इन्वेस्टमेंट फर्म ओमिडियार में पार्टनरशिप, ग्लोबल हेज फंड करेज कैपिटल में मैनेजिंग डायरेक्टर…ये सारी फेहरिस्त बताती है कि कार्पोरेट जगत में जयंत सिन्हा का कद कितना बड़ा रहा है.

 

एक दिलचस्प बात और जान लीजिए. आज हम जिस एक पेज के सरल फॉर्म के जरिए आयकर रिटर्न भरते हैं…उससे भी जयंत सिन्हा का नाता है. अमेरिकी टैक्स फॉर्म 1040 EZ को मॉडल बनाकर उन्होंने भारत में सरल फॉर्म को लागू करने का विचार दिया था. इसके बाद हमारी टैक्स की मुश्किलें कितनी आसान हो गईं, ये दुनिया जानती है. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी का आर्थिक एजेंडा तैयार करने में भी जयंत सिन्हा ने बड़ी भूमिका निभाई थी, पीएम नरेंद्र मोदी तभी से उनके मुरीद बन गए थे.

 

वैसे आप ये जानकर भी हैरान होंगे…1983 से 1985 के दौरान जयंत सिन्हा …युववाणी में रेडियो एनाउंसर भी रहे. ये बात उनके कॉलेज की पढ़ाई के दौरान की है. पिता यशवंत सिन्हा और जयंत सिन्हा का राजनीतिक करियर एक जैसे अंदाज में शुरू हुआ. 1984 में पिता ब्यूरोक्रेसी की नौकरी छोड़कर राजनीति में उतरे…तीस साल बाद जयंत भी उसी अंदाज में कार्पोरेट जगत की जमी-जमाई नौकरी को छोड़कर राजनीति में उतरे और छा गए.

 

मोदी मंत्रिमंडल में डॉक्टर

पेशे से डॉक्टर महेश शर्मा संस्कृति और पर्यटन विभाग में स्वतंत्र प्रभार के राज्यमंत्री बनाए गए हैं महेश शर्मा को उम्मीद से बहुत ज्यादा मिला है. इसी साल मई में नोएडा से सांसद का चुनाव जीता था महेश शर्मा ने. खुद डॉक्टर महेश शर्मा को यकीन नहीं था…कि मोदी सरकार में उन्हें इतनी बड़ी जिम्मेदारी मिलने जा रही है. यूपी में 2017 में विधानसभा चुनाव हैं. माना जा रहा है कि यूपी के ब्राह्मण वोटों को रिझाने के लिए डॉक्टर महेश शर्मा को मोदी मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है.

 

डॉक्टर महेश शर्मा का संघ से पुराना नाता रहा है. छात्र जीवन में वो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के साथ जुड़े और फिर बीजेपी से राजनीतिक सफर शुरू किया. पेशे से डॉक्टर महेश शर्मा कई साल से नोएडा में कैलाश हॉस्पिटल चला रहे हैं. समाजसेवा में भी वो उतने ही सक्रिय हैं. एमिटी यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट से सम्मानित महेश शर्मा को कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुके हैं.

 

मोदी मंत्रिमंडल में गायक

संगीत की महफिल से सीधे मंत्री तक का सफर तय किया है बाबुल सुप्रियो ने . बाबुल को शहरी विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाया गया है. गायक बाबुल सुप्रियो ने पश्चिम बंगाल के आसनसोल से बीजेपी के टिकट पर पहली बार 74 हजार वोटों से सांसद का चुनाव जीता और सीधे मंत्रिमंडल में जगह बना ली. बाबुल सुप्रियो के सहारे बीजेपी पश्चिमबंगाल में अपनी जड़ें जमाने की कोशिश कर रही है.. पहली बार बीजेपी ने पश्चिम बंगाल की सारी सीटों पर उम्मीदवार उतारकर अपने दम पर दो लोकसभा सीटें जीती हैं साल 2016 में होने वाले चुनावों के मद्देनजर बाबुल सुप्रियो को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है. पेशे से गायक 43 साल के बाबुल सुप्रियो पार्टी का युवा चेहरा हैं और काफी लोकप्रिय भी.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: pm narendra modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017