कांग्रेस लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार को पचा नहीं पा रही है- मोदी

By: | Last Updated: Wednesday, 27 May 2015 10:15 AM
PM on minorities: Violence or any discrimination against any community will not be tolerated

नई दिल्ली: कांग्रेस की तरफ से सूट-बूट की सरकार के हमलों का करारा जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि लोकसभा चुनाव में मिली बुरी हार को कांग्रेस पचा नहीं पा रही है. पीएम ने सोनिया गांधी पर हमला करते हुए कहा कि यूपीए शासन के दौरान एक ‘संविघान से बाहर’ सत्ता के रूप में शासन की वास्तविक शक्ति उनके पास थी, जबकि उनकी सरकार केवल संवैधानिक तरीकों से ही चल रही है.

संसद में एनडीए सरकार द्वारा ‘खुला अहंकार’ प्रदर्शित करने और ‘एक व्यक्ति की सरकार’ संबंधी कांग्रेस अध्यक्ष के आरोपों पर मोदी ने कहा, ”वह संभवत: उस तथ्य का उल्लेख कर रही थीं कि पूर्व में संविधान से बाहर की शक्तियों के हाथों में वास्तविक सत्ता थी.” उन्होंने कहा कि अब सत्ता ‘केवल संवैधानिक माध्यमों से ही संचालित होती है.’

 

मोदी ने कहा कि अगर आरोप यह है कि ”हम संवैधानिक माध्यमों के जरिये काम कर रहे हैं और किसी संविधान से बाहर की शक्ति की बात नहीं सुन रहे हैं, तब मैं इस आरोप को स्वीकार करता हूं.”

 

पीटीआई को दिये साक्षात्कार में प्रधानमंत्री ने सोनिया और राहुल गांधी द्वारा उन पर किये जा रहे प्रहारों, भूमि अधिग्रहण और जीएसटी विधेयकों और उनके विदेशी दौरों की आलोचनाओं, प्रधानमंत्री कार्यालय में सत्ता केंद्रीयकृत होने के साथ सुधारों समेत विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात रखी.

 

‘कांग्रेस हार पचा नहीं पा रही है’

 

राहुल गांधी द्वारा उनपर ‘सूटबूट की सरकार’ होने की चुटकी लिये जाने पर मोदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त को कांग्रेस एक साल बाद भी अभी तक पचा नहीं पायी है.

 

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर प्रहार जारी रखते हुए कहा, ”जनता ने उन्हें उनकी भूल चूक के पापों के लिए दंडित किया है. हमने सोचा था कि वे इससे सबक सीखेंगे लेकिन ऐसा लग नहीं रहा है.” उन्होंने ‘कान इज द अपोजिट आफ प्रो’ मुहाबरे का उपयोग करते हुए कहा कि अगर ऐसा है तब कांग्रेस प्रगति का विपरीतार्थक है.

 

‘किसी से भेदभाव बर्दाशत नहीं’

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के एक साल पूरे होने पर समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में अल्पसंख्यकों पर कहा कि किसी भी समुदाय के खिलाफ हिंसा या किसी तरह का भेदभाव बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

 

पीएम के इंटरव्यू की मुख्य बातें

 

# यूपीए शासन के दौरान गैर संवैधानिक प्राधिकारों के पास ही वास्तविक शक्ति थी: प्रधानमंत्री मोदी

 

# प्रधानमंत्री कार्यालय में सत्ता के केंद्रीत होने की आलोचनाओं को खारिज करते हुए मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री और पीएमओ संवैधानिक व्यवस्था का हिस्सा हैं और इससे बाहर नहीं हैं.

 

# एनजीओ के खिलाफ कार्रवाई पर प्रधानमंत्री ने कहा कि कानून के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है और कोई भी देशभक्त नागरिक इस पर आपत्ति नहीं उठा सकता है.

 

# जीएसटी और प्रस्तावित भूमि अधिग्रहण विधेयक कुछ ही समय में पारित होगा

 

# गरीबों, किसानों और गांवों के पक्ष में भूमि विधेयक पर कोई भी सुझाव सरकार स्वीकार करेगी: मोदी

 

# प्रधानमंत्री ने अल्पसंख्यकों पर कहा, किसी भी समुदाय के खिलाफ हिंसा या किसी तरह का भेदभाव बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

 

# विपक्ष मेरे विदेश दौरों के बारे में आधारहीन आरोप लगा रहा है

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: PM on minorities: Violence or any discrimination against any community will not be tolerated
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017