छः देशों को दौरे से वापस लौटें पीएम, बताया 'बेहतर भविष्य के लिए रिश्ते जरुरी'

By: | Last Updated: Tuesday, 14 July 2015 1:36 AM
PM TOUR COMPLETE

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस और पांच मध्य एशियाई देशों का दौरा पूरा कर कल रात स्वदेश लौट आए. इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री ने ब्रिक्स और शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सम्मेलनों में हिस्सा लिया और अपने पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ तथा अन्य नेताओं से बातचीत की.

 

आठ दिवसीय दौरे में मोदी उजबेकिस्तान, कजाखस्तान, रूस, तुर्कमेनिस्तान, किर्गिजस्तान और ताजकिस्तान गए.

 

यहां पालम तकनीकी हवाईअड्डे पर विमान से उतरने के बाद उन्होंने ट्वीट किया ‘‘मध्य एशिया की ऐतिहासिक यात्रा के बाद स्वदेश वापसी. इस क्षेत्र के साथ भारत के संबंधों को आगे बढ़ाने के संदर्भ में यह लंबी यात्रा थी.’’ मोदी ताजिकिस्तान से दिल्ली लौटे हैं जो उनके दौरे का अंतिम पड़ाव था.

 

ताजकिस्तान की राजधानी दुशान्बे से रवाना होते हुए उन्होंने ट्वीट किया ‘‘मैंने अपना मध्य एशिया दौरा पूरा किया. इन पांच देशों की इस यात्रा से मेरी समझ में आ गया कि भारत और मध्य एशिया को बड़े पैमाने पर फिर से जुड़ना चाहिए.’’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा ‘‘भारत और मध्य एशिया के बीच मजबूत संबंध भविष्य के लिए महत्वपूर्ण हैं जो हमने अपने देशों और क्षेत्रों से चाहते हैं.’’

 

रूस के उफा में अ मोदी ने पांच देशों के ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लिया. यह सम्मेलन आर्थिक एवं सुरक्षा सहयोग पर केंद्रित था. उन्होंने छह देशों के समूह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सम्मेलन में भी हिस्सा लिया जिसमें भारत तथा पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता देने का फैसला किया गया.

 

उफा में मोदी ने एससीओ शिखर सम्मेलन से इतर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मुलाकात की जिस दौरान संबंधों में सुधार के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले किए गए.

 

इन फैसलों में आतंकवाद पर चर्चा करने के लिए दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक करना, आरोपियों की आवाज के नमूने मुहैया कराने सहित मुंबई आतंकी हमला मामले की सुनवाई को तेज करना शामिल था.

 

नवाज शरीफ से भी की मुलाकात

 

शंघाई सहयोग संगठन सम्मेलन से अलग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के बीच रुस के शहर ऊफा में मुंबई हमले की सुनवाई में तेज़ी और आतंकवाद के खात्मे को लेकर काफी सकारात्मक बातचीत हुई. नवाज़ शरीफ ने मोदी को पाकिस्तान आने की दावत दी जिसे उन्होंने कबूल कर लिया है. अब अगले साल नरेंद्र मोदी सार्क शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान जाएंगे.

 

दोतरफा बातचीत में सभी मुद्दों पर बातचीत हुई. दोनों देश के नेताओं के बीच महज़ 45 मिनट की मुलाकात रखी गई थी, लेकिन ये मुलाकात करीब डेढ़ घंटे तक चली.

 

इस दोतरफा बातचीत की खास बात ये रही कि दोनों देश मुंबई के 26/11 हमलों के आरोपियों के वॉयस सैंपल साझा करने पर सहमति जताई.

 

इसके साथ ही आतंकवाद पर पर दोनों देश के NSA बात करेंगे.  बीएसएफ के डीजी और पाकिस्तान रैंजर्स के बीच भी बातचीत होगी. दोनों नेताओं के बीच हाफिज सईद और लखवी पर भी बातचीत हुई.

 

विदेश सचिव शिवशंकर मेनन ने बताया कि दोनों पक्षों ने 15 दिनों के भीतर एक दूसरे के मछुआरों और उनकी नौकाओं को छोड़ने का निर्णय किया.

 

इससे पहले दोनों नेताओं ने गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाकर एक-दूसरे का अभिवादन किया और चंद मिनटों की औपचारिकताओं के बाद बातचीत शुरू की.

 

भारत की ओर से वार्ता प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और विदेश सचिव एस. जयशंकर भी शामिल थे.

 

वहीं, पाकिस्तान की ओर से वार्ता प्रतिनिधिमंडल में विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज सहित अन्य अधिकारी भी शामिल थे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: PM TOUR COMPLETE
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017