रांची में पीएम के सामने सीएम की हूटिंग पर हंगामा, न्योते के बावजूद मोदी के मंच पर नहीं पहुंचे महाराष्ट्र के सीएम

By: | Last Updated: Friday, 22 August 2014 1:42 AM
pm_cm_hooting

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रांची के सरकारी कार्यक्रम में पहुंचे लेकिन भीड़ ने मोदी-मोदी के नारे लगाए. रांची के कार्यक्रम में जब हेमंत सोरेन के खिलाफ नारे लगे तो पीएम मोदी ने लोगों से शांत रहने और सोरेन को बोलने देने का इशारा किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रांची के बाद महाराष्ट्र में हुए कार्यक्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण नहीं पहुंचे.

 

सीएम पृथ्वीराज चव्हाण पीएम के कार्यक्रम में मुख्यमंत्रियों की हूटिंग से नाराज थे, इसीलिए मोदी के कार्यक्रम में नहीं पहुंचे.

 

पीएम के कार्यक्रम में सीएम की हूटिंग पर कांग्रेस नाराज ने भी नाराजगी जताई है. कांग्रेस नेता अंबिका सोनी ने कहा, ”ये सब बीजेपी की सोची समझी रणनीति है. हम सरकारी कार्यक्रम में भीड़ के जरिए सीएम की हूटिंग नहीं करा सकते.”

 

पीटीआई के मुताबिक वेंकैया नायडू ने पृथ्वीराज चव्हाण को मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए मनाने की कोशिश की थी. शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कार्यक्रम में शामिल होने के लिए न्यौता भी भिजवाया था लेकिन चव्हाण नहीं माने.

 

शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने मुंबई मेट्रो की यात्रा की. एयरपोर्ट रोड से घाटकोपर तक की यात्रा के दौरान यात्रियों से की बात. वेंकैया नायडू आज पुणे मेट्रो को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के साथ मुंबई में बैठक करेंगे.

 

‘प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में मेरी हूटिंग लोकतांत्रिक व्यवस्था का ‘बलात्कार’ है’

 

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज प्रधानमंत्री की यहां आयोजित सभा में अपनी हूटिंग को लोकतांत्रिक व्यवस्था का ‘बलात्कार’ बताते हुए इसकी कड़ी आलोचना की जबकि उनकी पार्टी ने प्रधानमंत्री से सार्वजनिक रूप से मांफी मांगने की मांग की.

 

सोरेन ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा में उनके भाषण के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा की गयी हूटिंग पर गहरी नाराजगी जतायी और मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘मेरे भाषण के दौरान इस तरह की अशोभनीय हरकत करना वास्तव में लोकतांत्रिक व्यवस्था का बलात्कार है.’’ उन्होंने आगे कहा कि इस तरह देश का लोकतंत्र बिखर जायेगा. उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर ऐसे में लोकतांत्रिक व्यवस्था का क्या होगा? बाद में एक बयान जारी कर मुख्यमंत्री के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है, ‘‘मैं प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री की हैसियत से भाषण दे रहा था, ऐसे में मेरे साथ इस तरह का व्यवहार राज्य और यहां की जनता का अपमान है.’’ उन्होंने कहा कि यह घटना अमर्यादित, अशोभनीय और लोकतंत्र की मर्यादा के खिलाफ है.

 

इस बीच कांग्रेस ने भी इस घटना की निन्दा की है. कांग्रेस प्रवक्ता शमशेर आलम ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए इसे सुनियोजित साजिश बताया.

 

मोदी की आज की यहां हुई आम सभा में हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा की तर्ज पर ही सोरेन की भी जमकर हूटिंग हुई लेकिन उन्होंने अपना भाषण न सिर्फ पूरा किया बल्कि लोगों को मंच की गरिमा बनाये रखने की नसीहत भी दी. आज प्रधानमंत्री के मंच पर बोलने के लिए जैसे ही मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन उठे, सभा में मौजूद सैकड़ों लोगों ने शोर मचाना प्रारंभ कर दिया और बाद में वह ‘मोदी-मोदी…’ के नारे लगाने लगे. शोर बढ़ता देख प्रधानमंत्री ने हाथों से इशारा कर लोगों से शांत होने की अपील की. इस बीच सोरेन हूटिंग देखते हुए कुछ देर थमे लेकिन फिर उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा, ‘‘आप लोग प्रधानमंत्री की उपस्थिति में मंच की गरिमा समझें और उसे बरकरार रखें.’’ सोरेन ने अपना भाषण हूटिंग के बावजूद जारी रखा और प्रधानमंत्री का राज्य में स्वागत करते हुए उन्हें प्रधानमंत्री चुने जाने पर बधाई भी दी. हेमंत ने झारखंड में गरीबों की समस्या का ध्यान रखने और उनके उत्थान के लिए योजना बनाने की अपील की.

 

हरियाणा में गत मंगलवार को हूटिंग के बाद मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुडा ने प्रधानमंत्री मोदी के साथ स्टेज पर न बैठने की घोषणा की थी . महाराष्ट्र के नागपुर में हुए प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में वहां के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चह्वण नहीं आये जिसकी घोषणा उन्होंने पहले ही कर दी थी.

 

मोदी के कार्यक्रम स्थल के पास कांग्रेस कार्यकर्ताओं का काले झंडों के साथ प्रदर्शन

 

कांग्रेस समर्थकों के एक समूह ने गुरुवार को नागपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम स्थल के पास काले झंडों के साथ प्रदर्शन किया.

 

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कस्तूरचंद पार्क मैदान पर प्रदर्शन किया जो कि उस आयोजन स्थल के पास था जहां मोदी नागपुर मेट्रो रेल परियोजना की आधारशिला रख रहे थे.

 

कार्यक्रम के दौरान विदर्भ राज्य समर्थकों ने काले झंडे उठाये.

 

कांग्रेस कार्यकर्ताओं के अनुसार वे गत सप्ताह सोलापुर में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान अपने नेता और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण का विरोध करने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे.

 

प्रदर्शन का नेतृत्व नागपुर कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष एवं पूर्व महापौर विलास ठाकरे, पूर्व मंत्री अनीस अहमद और पाषर्द प्रशांत धावड़ ने किया. पार्टी कार्यकर्ताओं ने मोदी के खिलाफ नारेबाजी भी की.

 

पुलिस सूत्रों और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों को तितर बितर किया और उन्हें हिरासत में भी ले लिया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: pm_cm_hooting
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017