डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण की इजाजत देने की जांच शुरू, फिल्ममेकर्स पर होगी कार्रवाई होगी: बीएस बस्सी

By: | Last Updated: Wednesday, 4 March 2015 12:26 PM
police commissioner BS Bassi on BBC Documentary

नई दिल्ली: गैंगरेप डॉक्यूमेंट्री विवाद पर गृह मंत्रालय में हुई हाई लेवल मीटिंग के बाद दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने कहा है कि बीबीसी को डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण के रोक पर दिल्ली की अदालत के फैसले से अवगत करा दिया गया है.

 

बस्सी ने कहा कि कोर्ट ने डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण पर रोक लगा रखी है, इसलिए मीडिया से अपील है कि वो उसे न दिखाएं.

 

पुलिस कमिश्नर ने कहा कि डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण की इजाजत देने की जांच शुरू कर दी है और फिल्ममेकर्स पर कार्रवाई होगी.

 

आपको बता दें कि गैंगरेप डॉक्यूमेंट्री  विवाद को लेकर गृह मंत्रालय में हाई लेवल मीटिंग हुई जिसमें गृह मंत्री राजनाथ सिंह, दिल्ली के उपराज्यपाल, पुलिस कमिश्नर, गृह सचिव, तिहाड़ जेल के डीजी शामिल हुए.

 

इससे पहले कोर्ट ने डॉक्यूमेंट्री दिखाने पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि गृह मंत्रालय डॉक्यूमेंट्री बनाने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की तैयारी कर रही है.

 

गृह मंत्रालय ने अपनी जांच में पाया है कि इंटरव्यू की इजाजत सामाजिक सरोकार के लिए ली गई थी लेकिन बीबीसी के साथ मिलकर प्रोडक्शन कंपनी उसका व्यवसायिक इस्तेमाल करना चाह रही थी. 8 मार्च को डॉक्यूमेंट्री का प्रसारण बीबीसी करने वाला था. इस डॉक्युमेंट्री में फांसी की सजा पाये गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह का इंटरव्यू है. जिसको लेकर विवाद है. संसद में भी आज ये मामला उठा.

 

क्या है मुद्दा?

 

बीबीसी ने 16 दिसंबर के रेपकांड पर एक डॉक्यूमेंट्री बनाई है जिसमें रेप के दोषी और फांसी की सज़ा पा चुके मुकेश सिंह का इंटरव्यू भी शामिल है. खबरों के मुताबिक रेपिस्ट मुकेश ने अपने इंटरव्यू में महिलाओं को लेकर ऐसी आपत्तिजनक बातें कहीं जिससे प्रसारण पर गृह मंत्रालय रोक चाहता है. आस संसद में भी ये मामला गूंजा, दो सांसदों ने इसके प्रसारण पर रोक लगाने को गलत माना.

 

डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण पर रोक जारी रहेगी: अदालत

 

दिल्ली की एक अदालत ने आज कहा कि 16 दिसंबर के सामूहिक बलात्कार कांड के मुजरिम के तिहाड़ जेल में लिए गए साक्षात्कार के प्रसारण पर रोक अगले आदेश तक जारी रहेगी.

 

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट (सीएमएम) संजय खनगवाल ने यह आदेश उस समय दिया जब दिल्ली पुलिस ने एक मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट द्वारा कल लगाये गये प्रतिबंध संबंधी आदेश को उनके समक्ष पेश किया, जिसमें मीडिया पर इस साक्षात्कार का प्रकाशन, प्रसारण और उसे इंटरनेट पर अपलोड पर रोक लगा दी थी.

 

सीएमएम की अदालत ने अपने आदेश में कहा, ‘‘मामले के जांच अधिकारी ने यह सूचना देते हुए आवेदन दिया है कि मीडिया, इंटरनेट पर निर्भया सामूहिक बलात्कार कांड के मुजरिमों में एक के साक्षात्कार के प्रकाशन, पारेषण, प्रसारण, अपलोडिंग करने पर रोक लगाने के लिए तीन मार्च, 2015 को ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष आवेदन दिया गया था जो पहले ही अगले आदेश तक के लिए पाबंदी आदेश जारी कर चुके हैं. ’’

 

अदालत ने कहा, ‘‘ड्यूटी मजिस्ट्रेट पुनीत पाहवा के तीन मार्च, 2015 के आदेश को बरकरार रखा गया. रिकार्ड में रखा जाए. ’’

 

पुलिस ने कल अदालत के समक्ष दायर अपने आवेदन में कहा था कि मुकेश सिंह, जो उस बस का चालक था, जिसमें 16 दिसंबर 2012 को 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्र के साथ बर्बर बलात्कार किया गया था, ने इस साक्षात्कार में महिलाओं के बारे में दुर्भावनापूर्ण और अपमानजनक बातें कहीं.

 

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि निर्भया कांड के दोषी से इंटरव्यू लिए जाने की घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और इस बारे में जो भी आवश्यक कदम उठाए जा सकते हैं , उठाए जाएंगे. उन्होंने कहा कि किन परिस्थितियों में रिपोर्टर को इंटरव्यू लेने की अनुमति दी गयी इसकी जिम्मेदारी तय की जाएगी.

 

इससे पूर्व लोकसभा में इस विषय को उठाते हुए कांग्रेस की रंजीत रंजन ने कहा कि दुखद सिर्फ यह नहीं है कि एक ब्रिटिश फिल्म निर्माता ने निर्भया कांड के दोषी का इंटरव्यू लिया बल्कि दुखद यह है कि उसका पक्ष इस तरह रखा गया है कि जिससे कि ऐसे कांडों को दोहराने को बढ़ावा मिलेगा.

 

उन्होंने कहा कि इस इंटरव्यू में वीभत्स बलात्कार के दोषी ने बलात्कार के लिए लड़कियों को ही दोषी ठहराया है कि वे रात में क्यों निकलती हैं और ऐसे वैसे कपड़े क्यों पहनती हैं.

 

रंजन ने रोष जताते हुए कहा कि आज बलात्कार का भी बाजारीकरण किया जा रहा है. कभी निर्भया बलात्कार कांड के नाटकीय मंचन के रूप में बस में फैशन शो आयोजित किए जाते हैं तो अब बलात्कारी को सही तथा महिला को दोषी बताने वाली एक डाक्यूमेंट्री अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दिखाई जाने वाली है.

 

उन्होंने सवाल किया कि बलात्कार के लिए लड़की को ही जिम्मेदार ठहराने वाले इस इंटरव्यू को देखकर उस लड़की के माता पिता पर क्या गुजरेगी ? माकपा की पी के श्रीमती टीचर ने कहा कि यह बहुत ही स्तब्ध करने वाली बात है कि इंडियाज डॉटर्स ’’ के नाम से एक डाक्यूमेंट्री बनायी गयी है और उसका स्टार’’ वह बलात्कारी है जो निर्भया कांड के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा फांसी की सजा सुनाए जाने पर तिहाड़ जेल में बंद है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: police commissioner BS Bassi on BBC Documentary
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017