प्रभाकरन का जन्मदिन मनाने की कांग्रेस सदस्यों ने की भर्त्सना

By: | Last Updated: Monday, 1 December 2014 8:34 AM
prabhakaran birthday celebrate

नई दिल्ली: राज्यसभा में आज एक मनोनीत सदस्य ने लिट्टे के मारे गये नेता प्रभाकरन के जन्मदिन पर तमिलनाडु के एक नेता द्वारा केक काटे जाने की घटना की भर्त्सना करते हुए कहा कि ऐसे आरोप हैं कि लिट्टे नेता के निर्देश पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की गयी थी.

 

कांग्रेस के विभिन्न सदस्यों ने भी इस घटना की भर्त्सना की. मनोनीत सदस्य अशोक गांगुली ने कहा कि यह एक बेहद गंभीर घटना है जिसमें तमिलनाडु के एक नेता ने प्रभाकरन के जन्मदिन पर पिछले दिनों एक कार्यक्रम में केक काटा था.

 

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रभाकरन के निर्देश पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की गयी थी. उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या से जुड़े एक व्यक्ति का जन्मदिन मनाया जाना एक अकल्पनीय और भर्त्सना योग्य कदम है.

 

कांग्रेस सदस्यों ने इस घटना का विरोध करते हुए कहा कि इसकी भर्त्सना की जानी चाहिए. द्रमुक के तिरची शिवा ने कहा कि यह घटना तमिलनाडु में हुई और इसे रोकने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की थी.

 

उन्होंने कहा कि यह राज्य की कानून व्यवस्था से जुड़ा मुद्दा है और इसे राज्यसभा में नहीं उठाया जाना चाहिए. गौरतलब है कि पिछले दिनों एमडीएमके नेता वाइको ने तमिलनाडु में एक समारोह के दौरान लिट्टे के मारे गये नेता प्रभाकरन का जन्मदिन केक काटकर मनाया था.

 

द्रमुक सदस्य ने शून्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप से श्रीलंका में मौत की सजा पाये पांच मछुआरों को रिहा किये जाने का मुद्दा उठाते हुए इसके लिए उन्हें धन्यवाद दिया.

 

उन्होंने कहा कि श्रीलंका के नौसैनिक आये दिन तमिलनाडु के मछुआरों को पकड़कर उनकी नौका जब्त कर लेते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं बेहद दुखद हैं क्योंकि इससे तमिलनाडु के मछुआरों का जीवनयापन प्रभावित होता है.

 

शिवा ने कहा कि मोदी सरकार की मदद से वह पांच भारतीय मछुआरे तो रिहा कर दिए गए जिन्हें श्रीलंका में मौत की सजा सुनाई गई थी लेकिन उनकी नौकाएं नहीं लौटाई गइ’.

 

उन्होंने कहा कि 23 नवंबर को जाफना प्राय:द्वीप के समीप श्रीलंका की नौसेना ने 14 भारतीय मछुआरों को अपने जलक्षेत्र में मछली पकड़ने के आरोप में पकड़ा था. गत शुक्रवार को चार भारतीय मछुआरे और पकड़ लिए गए.

 

शिवा ने कहा कि श्रीलंका की जेल में अभी भी 24 मछुआरे बंद हैं और कम से कम 78 नौकाएं उनके कब्जे में हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को इन मछुआरों तथा उनकी नौकाओं की रिहाई के लिए पहल करनी चाहिए.

 

उन्होंने किसी का नाम लिए बिना कहा कि हाल में भाजपा के एक नेता ने तमिलनाडु के मछुआरों की रिहाई को लेकर एक विवादास्पद बयान दिया था. इस बारे में भाजपा को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. शिवा ने श्रीलंका से कच्चातिवु द्वीप वापस लिये जाने की मांग भी की.

 

अन्नाद्रमुक के एस मुथुकरप्पन ने कहा कि श्रीलंका में भारत के 38 मछुआरे बंद हैं और उन्होंने मछुआरों की 78 नाव जब्त कर रखी हैं. उन्होंने मांग की कि भारतीय मछुआरों को रिहा कर उनकी नावें वापस करवाई जानी चाहिए.

 

उन्होंने कहा कि इन मछुआरों को पकड़ने से पहले उन पर पत्थर फेंके गए थे. इन मछुआरों में से तीन की उम्र 18 साल से कम है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: prabhakaran birthday celebrate
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017