केजरीवाल से किसी मामले में कम नहीं हैं किरन बेदी, CM बनीं तो देंगी ईमानदार सरकार: शांति भूषण

By: | Last Updated: Thursday, 22 January 2015 2:03 AM
prashant bhushan

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के सदस्य शांति भूषण ने बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरन बेदी की तारीफ की है. इकॉनमिक टाइम्स से इंटरव्यू में शांति भूषण ने कहा है कि किरन बेदी को सीएम उम्मीदवार बनाना बीजेपी का मास्टर स्ट्रोक है.

 

शांति भूषण ने ET से कहा कि किरन बेदी दिल्ली की सीएम बनने के लिए उतना ही बढिया विकल्प हैं जितने अरविंद केजरीवाल. भूषण ने कहा है, ‘किरन बेदी को कैंडिडेट बनाना बीजेपी का मास्टरस्ट्रोक है. बेदी भी अरविंद केजरीवाल की तरह करप्शन के खिलाफ आवाज उठाती रही हैं.’

 

भूषण ने कहा, ‘अगर वह मुख्यमंत्री बनती हैं तो दिल्ली को बेहद ईमानदार सरकार देंगी. अगर वह जीतती हैं और सरकार बनाती हैं तो लोग खुश होंगे. महिला होने के नाते वे महिला सुरक्षा को बढावा देंगी.’ हालांकि शांति भूषण ने यह भी साफ कर दिया कि किरन बेदी की प्रशंसा का मतलब ये नहीं है कि वह बीजेपी की तारीफ कर रहे हैं.

 

भूषण ने कहा कि बीजेपी का अजेंडा सांप्रदायिक है. इसलिए वे उनके खिलाफ हैं. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि किरन को वे अच्छी तरह से जानता हैं वे सेक्युलर और ईमानदार हैं.

 

शांति भूषण ने कहा, ‘अगर किरन बेदी आम आदमी पार्टी की तरफसे मुख्यमंत्री बनती तो ज्यादा अच्छा होता. अन्ना जी को तो इस बात के लिए खुश होना चाहिए कि उनके ही आंदोलन का हिस्सा रहा कोई अब दिल्ली का सीएम बनने वाला है.’ आपको बता दें कि शांति भूषण आम आदमी पार्टी के सबसे बड़े डोनर रहे हैं.

 

क्या है किरन बेदी और केजरीवाल में समानता-

 

  • किरन बेदी आईएएस अफसर रहीं और केजरीवाल आईआरएस अफसर रहे
     
  • किरन बेदी ने आईआईटी दिल्ली से पढ़ाई की और केजरीवाल ने आईआईटी खड़गपुर से पढ़ाई की है
     
  • किरन बेदी और अरविंद केजरीवाल दोनों को ही मैग्सेसे पुरस्कार मिल चुका है
     
  • किरन बेदी और केजरीवाल दोनों ही अन्ना आंदोलन में सक्रीय रहे
     
  • किरन बेदी और अरविंद केजरीवाल दोनों ही एऩजीओ चलाते रहे हैं.

 

क्या है अन्य नेताओं की प्रतिक्रिया-

शांति भूषण के बयान पर अरविंद केजरीवाल अपनी प्रतिक्रिया दी है. केजरीवाल ने कहा है कि शांति भूषण का बयान पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र की आजादी को दिखाता है. केजरीवाल ने कहा कि हर किसी को अपनी राय रखने का हक है. बयान से पार्टी कमजोरी होगी क्या इसके जवाब में उन्होंने कहा कि य़े तो उनको सोचना चाहिए.

 

आशुतोष ने कहा है कि शांति भूषण ने जो कहा है वह पार्टी की राय नहीं है उनकी व्यक्तिगत राय है. आशुतोष ने कहा, ‘पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं. हमारी पार्टी में तानाशाही नहीं है. हर किसी को विचार रखने का अधिकार है. पार्टी अपनी बात पर अटल है. किरन बेदी और केजरीवाल की तुलना हो ही नहीं सकती हैं. जिस पार्टी की उन्होंने धज्जियां उड़ाई थीं आज उसी में शामिल हो गई हैं.’

 

बीजेपी के जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा, ‘शांति भूषण आप के फाउंडर मेंबर हैं, ‘इंडिया अगेन्स्ट करप्शन’ के फाउंडर मेंबर हैं. इसके बावजूद उऩ्होंने अरविंद केजरीवाल के कामकाज पर कई बार सवाल उठाए हैं. किरन बेदी सारे अपने चार दशक का काम बहुत ही सकारात्मक तरीके से किया है. केजरीवाल की ऊर्जा नकारात्मक विषय के लिए यूज हुई है. अरविंद केजरीवाल से किरन बेदी बेहतर हैं और काफी आगे हैं.

 

आम आदमी पार्टी के सदस्य आशीष खेतान ने कहा, ‘शांति भूषण जी ये कह रहे हैं कि बीजेपी ने किरन बेदी को लाकर यह सिद्ध कर दिया है कि अन्ना आंदोलन की जीत हुई है और आज अरविंद केजरीवाल का मुकाबला करने के लिए बीजेपी के पास कोई चेहरा नहीं है. उसी आंदोलन से निकले दो लोग आज मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं. केजरीवाल की भ्रष्टाचार के पास जो मुहिम है आज उसी की जीत हुई है. हमने कहा कि बीजेपी कोई एक चेहरा दिखा दे जो केजरीवाल की ईमानदारी का सामना कर सकता हो और बीजेपी ने हार मान ली. आखिर में एक बाहर से चेहरा लेकर आए, वो भी उस चेहरे को जो बीजेपी को पहले कहता था कि बीजेपी भ्रष्टाचारी है.’

 

पिता के बयान को प्रशांत भूषण को निजी बताया

प्रशांत भूषण ने कहा है कि किरन बेदी पर शांति भूषण के विचार उनकी निजी राय है पार्टी इसका समर्थन नहीं करती. प्रशांत भूषण का कहना है कि वे अपने पिता के विचार से सहमत नहीं हैं. प्रशांत भूषण ने कहा, ‘किरन बेदी ने सांप्रदायिक पार्टी को ज्वाइन करके गलत किया है.’

 

आम आदमी पार्टी के लिए प्रचार नहीं करेंगे प्रशांत भूषण

उनके बेटे प्रशांत भूषण पार्टी के सक्रिय सदस्य हैं. प्रशांत भूषण को लेकर खबर ये है कि वो दिल्ली में आप के लिए चुनाव प्रचार नहीं कर रहे हैं और नहीं करेंगे. प्रशांत भूषण ने ईटी से कहा है कि उनके पास प्रचार के लिए समय नहीं हैं. आप उनकी पहली प्राथमिकता नहीं है. एक वकील होने के नाते जनहित के काम करना उनकी प्राथमिकता है.

 

आज कृष्णानगर मुआयन के लिए पहुंची किरन

हालांकि शांति भूषण के बयान के बारे में जब किरन बेदी से पूछा गया तो उन्होंने सिर्फ धन्यवाद कह कर बात खत्म कर दी. आज डॉ. हर्षवर्धन के साथ किरन बेदी अपने इलाके कृष्णानगर में मुआयने के लिए निकली थीं.

 

आपको बता दें कि बीजेपी द्वारा किरन बेदी को सीएम उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद राजनीतिक सरगर्मी और तेज हो गई है. किरन बेदी को बीजेपी ने अपने गढ़ कृष्णानगर से से उतारा है. बीजेपी की सबसे सुरक्षित सीट कृष्णानगर से डॉ. हर्षवर्धन 1993 से लगातार विधायक रहे हैं. 1993 में यह सीट बनी थी.

 

आम आदमी पार्टी ने किरन बेदी के खिलाफ कृष्णानगर से एस के बग्गा को खड़ा किया है. पेशे से वकील रहे एस के बग्गा 40 साल से कांग्रेस में रहे हैं लेकिन पिछले साल बग्गा आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए. बग्गा पहली बार चुनाव मैदान में हैं.

 

वहीं कांग्रेस ने बंसीलाल को कृष्णा नगर से किरन बेदी के खिलाफ खड़ा किया है. बंसीलाल कृष्णा नगर से निर्दलीय पार्षद हैं. किरन बेदी और एस के बग्गा बुधवार को कृष्णा नगर से नामांकन दाखिल करेंगे. सात फरवरी को वोटिंग है और 10 फरवरी को नतीजे आएंगे.

केजरीवाल से कम नहीं है किरन बेदी: शांति भूषण 

यह भी पढ़ें-

दिल्ली चुनाव: केजरीवाल, बेदी और माकन तीनों करोड़पति  

आज केजरीवाल की दो रैलियां, किरन बेदी ने भी झोंकी ताकत, आज घोषणापत्र जारी करेगी कांग्रेस 

किरन बेदी के गुणगान में कूदा हिंदू रक्षा दल, रानी लक्ष्मीबाई से की तुलना 

करोड़पति किरन बेदी के पास है मारुति 800 कार 

टिकट बंटवारे पर बीजेपी दफ्तर में फिर हंगामा, लगे मुर्दाबाद के नारे 

मोदी जी आप देश संभालो, दिल्ली हम पर छोड़ दो: AAP 

RSS एक राष्ट्रवादी संगठन, भारत को एकजुट रखा है: किरन बेदी 

दिग्गजों ने भरा पर्चा, केजरीवाल के नामांकन में लगे मोदी-मोदी के नारे 

अजय माकन ने किरन बेदी और केजरीवाल को बताया अवसरवादी 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: prashant bhushan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017