केजरीवाल को लिखे खत में 'गुडबाय' पर प्रशांत भूषण ने एबीपी न्यूज़ से कहा मैंने इस्तीफा नहीं दिया

By: | Last Updated: Saturday, 4 April 2015 2:22 AM
prashant bhushan open letter to kejriwal

नई दिल्ली: क्या प्रशांत भूषण ने आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. ये सवाल इसलिए उठ रहा है कि क्योंकि प्रशांत भूषण ने अरविंद केजरीवाल के नाम खुली चिट्ठी लिखी है.

 

इसमें उन्होंने अरविंद केजरीवाल पर तो कई मुद्दों पर हमला बोला ही है. साथ ही उन्होंने चिट्ठी के अंत में ‘गुडलक, गुडबाय़’ बोला है. इससे प्रशांत के पार्टी छोड़ने के संकेत के रूप में देखा जा रहा है.

 

एबीपी न्यूज़ से बातचीत में प्रशांत भूषण ने इस्तीफे की बात से इनकार किया है. प्रशांत ने कहा कि मैंने पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया है. एबीपी न्यूज़ से बात चीत में प्रशांत भूषण ने कहा कि अरविंद केजरीवाल पर फैसला 14 अप्रैल को होने वाली बैठक में लिया जाएगा.

 

केजरीवाल को लिखी चिठ्ठी में प्रशांत भूषण ने केजरीवाल पर पर अपने मन-मुताबिक पार्टी चलाने का आरोप लगाया लगाया. प्रभांत ने चिठ्ठी में अरविंद केजरीवाल की तुलना स्टालिन से की है. प्रशांत ने लिखा है कि अरविंद स्टालिन की तरह पार्टी चला रहे हैं. इसके साथ ही इस चिठ्ठी में प्रशांत ने अपने ऊपर लगे आरोपों से किया इंकार है.

 

प्रशांत ने चिठ्ठी में पार्टी के सिधांतों से भटक जाने की भी बात कही है. उन्होंने लिखा है, ‘आप शायद सोचते हैं कि 5 साल सरकार चला कर आप अपनी उन कमियों को छुपा लेंगे जो हाल ही में सामने आई हैं. हम ने जिन सिद्धांतों के लिए पार्टी बनाई थी वो ज़्यादा बड़े थे. खैर मैं आप को शुभकामनाएं देता हूं.’

 

इसके साथ ही प्रशांत ने आरोप लगाया कि 28 मार्च को हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में केजरीवाल ने जानबूझ कर उनके खिलाफ माहौल बनाया. प्रशांत ने केजरीवाल पर बैठक में पक्ष ना रखने देने का भी आरोप लगाया.

 

प्रशांत के मुताबिक बैठक में उन लोगों को भी बुलाया गया था जो कार्यकारिणी के सदस्य ही नहीं थे. ऐसे लोगों ने बैठक में हमारे खिलाफ नारे लगाए. प्रशांत भूषण ने आरोप लगाया कि केजरीवाल हर कीमत पर अपना फैसला लागू करवाना चाहते हैं चाहे भले ही दूसरे लोग उस पर असहमत हों.

 

सत्ता के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं केजरीवाल

प्रशांत भूषण ने चिठ्ठी में लिखा है कि लोकसभा चुनाव के बाद केजरीवाल दिल्ली में सत्ता हासिल करने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार थे, उन्होंने नवंबर में निखिल दे को फोन कर कांग्रेस के समर्थन जुटाने की बात कही थी. उन्होंने निखिल दे से राहुल गांधी को समर्थन के लिए मनाने की बात की थी

 

आपको बता दें आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी और पीएसी से प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव की छुट्टी हो चुकी है. दोनों पर पार्टी विरोधी बयान देने का आरोप लगाया गया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: prashant bhushan open letter to kejriwal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017