नेस वाडिया केस में पंजाब टीम के COO ने नहीं लगाई प्रीति के आरोपों पर मुहर, लेकिन पड़ोसी ने दी प्रीति के पक्ष में गवाही

By: | Last Updated: Tuesday, 1 July 2014 2:29 PM
priety_newwwadia_case

मुंबई : प्रीति जिंटा केस में नेस वाडिया की मुश्किल बढ़ गई है. पारुल खन्ना का बयान दर्ज किया गया है जो प्रीति की इमारत में रहती हैं. पारुल ने प्रीति के बयान की पुष्टि की है.  वीआईपी बॉक्स में मैच के दिन प्रीति अपने दोस्तों के साथ इस तरह बैठी थी.

 

पुलिस ने किंग्स इलेवन पंजाब के सीओओ फ्रेजर केस्लिन का भी बयान दर्ज कर लिया है लेकिन सूत्रों के मुताबिक फ्रेजर केस्लिन ने प्रीति के आरोपों की पुष्टि नहीं की है.

 

बाईं ओर से शैलेश खन्ना, फिर पारुल खन्ना, जीन, तब प्रीति. उनके बगल में दानिश मर्चेंट और फिर जय कन्नौजिया. जय कन्नौजिया, दानिश और पारुल ने प्रीति का पक्ष लिया है.

 

प्रीति की पड़ोसी और प्रीति के साथ मैच देख रही पारुल खन्ना दो और गवाहों के बयान दर्ज किए गए हैं. प्रीति की दोस्त पारुल ने पुलिस को बयान दिया है.

 

30 मई 2014 को वानखेड़े स्टेडियम में मैच शुरु होने से पहले मैं तकरीबन सात बजकर 45 मिनट पर पहुंची थी. गरवारे पवैलियन में मुझे दी गई 12 सीटों पर मेरे अलावा मेरे दोस्त शैलेष गुप्ता, पारुल खन्ना, जीन दानिश मर्चेंट और जय कन्नौजिया इसी क्रम में सबसे आगे की छह सीटों पर बैठे थे और मेरे पीछे की रॉ में बाकी छह सीटों पर डेविड मिलर के माता पिता अर्जुन और उसके साथी बैठे थे.

 

 

मैच शुरु होने के बाद तकरीबन 8.20- 8.45 के दौरान मैने नेस वाडिया को हमारी सीट के तीन चार लाइन पीछे मेरी टीम किंग इलेवन पंचाब के COO फ्रेजर कैस्टलीनो और तारा के साथ चिल्लाते हुए सुना. मैने अपनी सीट से ही नेस को शांत रहने को कहा लेकिन नेस ने मुझे “Come Here, Come Here” कहा. मै नेस के पास गई लेकिन उसने मेरे साथ गाली गलौज किया. मै अपनी सीट पर आकर बैठ गई. कुछ समय बाद नेस ने वहां आकर मेरी बांह को जोर से पकड़ते हुए अपनी तरफ खींचा और गंदी गालियां देनी शुरु की. मेरे पास बेठे मेरे दोस्त जीन ने मुझे नेस से छुड़ाया और नेस को वहां से चले जाने को कहा.

 

मेरी टीम मैच जीत चुकी थी इसके बाद मैं अपने खिलाड़ियों को कंग्रेच्युलेट करने मैदान पर गई. मैने कुछ खिलाड़ियों को कंग्रेच्युलेट किया. उसी वक्त नेस भी खिलाड़ियों को बधाई देने के लिए मैदान पर आए. उन्होंने मेरे साथ फिर गाली गलोज की और दुर्र्वयहार किया. मैने इस घटना की जानकारी बीसीसीआई के अधिकारी सुंदर रमन को दी. इसके बाद मैने IPL चेयरमैन रंजीब विसवाल और सचिव संजय पटेल को बताया कि मै नेस के खिलाफ पुलिस में शिकायत करना चाहती हूं. ये सब बताते हुए मैं कांप रही थी लेकिन जवाब में उन्होंने हमारी जीत पर मुझे बधाई देकर चले गए.

 

इससे पहले 12 फरवरी 2014 को बैंग्लूर में हुए आईपीएल टीम के ऑक्सन के दौरान भी नेस ने मेरे साथ सरेआम बदतमीजी की थी और उस वक्त आईपीएल के सीईओ को दखलअंदाजी करनी पड़ी थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: priety_newwwadia_case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017