आदर्श घोटाले में एक्शन लेता तो कांग्रेस महाराष्ट्र में खत्म हो जाती: चव्हाण

By: | Last Updated: Tuesday, 14 October 2014 1:11 PM
prithvi raj chauvan interview

नई दिल्ली: महाराष्ट्र चुनाव में वोटिंग से पहले राज्य के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने ऐसे बयान दिए हैं जो कांग्रेस के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं.

 

पृथ्वीराज चव्हाण ने एक इंटरव्यू में कहा है कि अगर आदर्श केस में उन्होंने कार्रवाई की होती तो कांग्रेस खत्म हो जाती. अब बीजेपी पूछ रही है कि अगर पता था कि भ्रष्टाचार हुआ है फिर कार्रवाई क्यों नहीं की.

 

महाराष्ट्र चुनावों में कल वोटिंग होनी है और चुनाव के ऐन एक दिन पहले द टेलीग्राफ अखबार में पृथ्वीराज चव्हाण का जो बयान छपा है वो खुद कांग्रेस को मुश्किल में डाल सकता है.

 

चव्हाण के फैसले

चव्हाण ने आदर्श घोटाले के बारे में कहा है कि उस वक्त उन्होंने हालात और कानून के मुताबिक फैसले किए.

 

उन्होंने कहा, “हां, मुझे कहना होगा कि आदर्श घोटाले में जांच के दायरे में महाराष्ट्र की टॉप लीडरशिप विलासराव देशमुख, सुशील शिंदे और अशोक चव्हाण थे. अगर मैं इनके खिलाफ एक्शन लेता तो कांग्रेस महाराष्ट्र में खत्म हो जाती. हम उन्हें अलग नहीं कर सकते. अगर हम उन्हें जेल भेजते तो इसे पार्टी के संगठन पर असर पड़ता. पार्टी टूट सकती थी. किसी ने उस वक्त ये खुलकर नहीं कहा था. मैंने भी नहीं.”

 

सिंचाई घोटाले पर साफगोई

 

इसी तरह सिंचाई घोटाले के बारे में भी चव्हाण अब खुलकर बोल रहे हैं. चव्हाण के मुताबिक एनसीपी और बीजेपी ने मिलकर जांच को आगे नहीं बढ़ने दिया.

 

उन्होंने कहा, “मुझे ज्यादा सक्रिय होना चाहिए था. मुझे जोर देना चाहिए था कि SIT की बजाए न्यायिक कमीशन जांच करे जो (अजित) पवार को बुलाकर पूछताछ करे, पर मैं गठबंधन चला रहा था. मेरे हाथ बंधे थे. SIT का बनना ही सिंचाई मंत्री अजित पवार के दोषी होने की तरह देखा गया, उन्होंने तुरंत इस्तीफा दिया पर जल्द ही एहसास हो गया कि बिना सत्ता के वो कुछ नहीं. इस्तीफा वापस लिया और मेरी सरकार में वित्त मंत्री की हैसियत से वापस आए. मुझे सरकार में शामिल होने से रोकना चाहिए था. पर ये गठबंधन सरकार थी और मेरी मजबूरियां थीं. मैंने एक कदम आगे बढ़ाया होता तो सरकार गिर जाती.”

 

गठबंधन टूटा था

 

चुनाव से ठीक पहले ही एनसीपी और कांग्रेस का गठबंधन टूटा था. अब दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं. इसी तरह शिवसेना और बीजेपी का गठबंधन भी टूट गया है और बीजेपी बड़ी जीत का दावा कर रही है.

 

चव्हाण का कहना है कि बीजेपी मजबूरी में किसी एक चेहरे को आगे नहीं बढ़ा पा रही है. एकनाथ खड़से, प्रकाश जावड़ेकर, नितिन गडकरी और देवेंद्र फडणवीस दौड़ में हैं लेकिन फडणवीस को ब्राह्रण होने का खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.

 

पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, मराठा बहुल महाराष्ट्र में किसी ब्राह्मण को सीएम बनाना आसान नहीं है. 43 लोगों की कैबिनेट में एक भी ब्राह्रण नहीं था. स्थानीय राजनीति में उनकी चलती नहीं हैं. बीजेपी के लिए भी वो बोझ की तरह ही हैं.

 

उन्होंने आगे कहा, देवेंद्र फडणवीस अच्छे राजनेता हैं,  अच्छे इंसान हैं. उनके पास खडसे जैसा अनुभव नहीं है पर बीजेपी सत्ता में आती है तो वो मुख्यमंत्री बनने के लायक हैं. पर उनकी पार्टी उनकी जाति को लेकर असमंजस में है.

 

महाराष्ट्र में 19 तारीख को नतीजे आने हैं. बीजेपी, शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के अलग-अलग लड़ने की वजह से मुकाबला रोचक हो गया है. लेकिन सवाल ये है कि आखिरी दिनों में इस साफगोई से क्या पृथ्वीराज चव्हाण का भला होगा या कांग्रेस के वोट बढ़ पाएंगे?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: prithvi raj chauvan interview
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017