निजी वाहनों के फिटनेस की अवधि 15 साल से कम करने का प्रस्ताव नहीं: सरकार

By: | Last Updated: Monday, 22 December 2014 11:09 AM

नई दिल्ली: सरकार ने निजी वाहनों के फिटनेस की अवधि 15 साल से कम करने के किसी प्रस्ताव से इंकार किया है.

 

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने आज राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि मोटरवाहन अधिनियम 1988 की धारा 41 की उपधारा सात के अनुसार वाहन का पंजीकरण प्रमाणपत्र, जारी किए जाने की तारीख से केवल 15 साल तक ही कानूनी रूप से मान्य रहेगा. बाद में उसका नवीनीकरण किया जा सकेगा.

 

एक अन्य प्रश्न के लिखित उत्तर में उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण ने 26 नवंबर 2014 को दिए एक आदेश में दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में 15 वर्षों से अधिक पुराने वाहनों को चलाने पर प्रतिबंध लगा दिया है. इस आदेश का कार्यान्वयन किया जा रहा है.

 

उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट में एम सी मेहता बनाम भारत सरकार और अन्य के मामले में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय का विचार है कि पंद्रह साल से अधिक पुराने निजी वाहनों को केवल फिटनेस जांच करने के बाद ही अनुपयुक्त घोषित किया जाए. साथ ही से अनुपयुक्त घोषित करने के लिए प्रदूषण जांच में यह भी घोषित होना चाहिए कि केंद्रीय मोटरवाहन नियमावली 1989 के नियमों के अनुसार, वाहन मरम्मत के लायक नहीं है. यह मामला फिलहाल अदालत में है.

 

गडकरी ने यह भी बताया कि दिल्ली की सीमा में प्रवेश करने वाले 15 साल पुराने सभी वाहनों की जांच करने के लिए दिल्ली में राजमार्गो के प्रवेश स्थलों पर सात टीमें गठित कर तैनात की गई हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: private car
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017