राजस्थान: पुलिसवालों ने गृहमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना किया

राजस्थान: पुलिसवालों ने गृहमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना किया

लगातार विरोध कर रहे पुलिस वालों के परिजन भी विरोध में शामिल हो चुके हैं. पुलिस वालों के बच्चे हाथ में तख्तियां लेकर सड़कों पर भी प्रदर्शन कर चुके हैं. सोमवार को पुलिस कक्मियों के अचानक अवकाश पर जाने से शहर की व्यवस्था चरमरा गयी.

By: | Updated: 17 Oct 2017 01:36 PM

जोधपुर: राजस्थान के जोधपुर में इंटेलिजेंस ब्यूरो के रीजनल सेंटर के उद्घाटन पर पहुंचे गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पुलिस वालों ने गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना कर दिया. आनन फानन में दूसरे जवानों को बुलाकर गृहमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया.


दरअसल राजस्थान पुलिस के साल 2006 के बाद पुलिसकर्मी पिछले कुछ दिनों से वेतन कटौती को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. सोमवार को सभी  पुलिसकर्मियों ने सामूहिक अवकाश पर जाने का फैसला किया. ये पुलिस सभी पुलिस वाले पिछले आठ दिनों से मैच का भी बहिस्कार कर रहे थे.


इसी दौरान गृहमंत्री राजनाथ सिंह जोधपुर में इंटेलिजेंस ब्यूरो के रीजनल सेंटर के नए कार्यालय का उद्घाटन करने पहुंचे. छुट्टी पर गए जवानों ने गृहमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना कर दिया. इसके बाद साल 2006 के बाद वाले पुलिस कर्मियों को बुलाकर गार्ड ऑफ ऑनर दिलवाया गया. गृहमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी की जा रही है.


लगातार विरोध कर रहे पुलिस वालों के परिजन भी विरोध में शामिल हो चुके हैं. पुलिस वालों के बच्चे हाथ में तख्तियां लेकर सड़कों पर भी प्रदर्शन कर चुके हैं. सोमवार को पुलिस कक्मियों के अचानक अवकाश पर जाने से शहर की व्यवस्था चरमरा गयी.


क्या हैं पुलिस वालों की मांगे ?
वेतन से कटौती ना की जाए.
मैस एलाउंस 1600 रु. से बढ़ाकर चार हजार रुपए किया जाए
हार्ड ड्यूटी एलाउंस 12% से बढ़ाकर 50% किया जाए
कॉन्स्टेबल की एलिजिबिलिटी 12वीं पास की जाए
बाइक एलाउंस 2000 रु. किया जाए.
सातवां वेतन आयोग 1 जनवरी 2016 से लागू हो

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जानें- नमाज के नाम पर दिल्ली के रेलवे प्लेटफॉर्म पर कब्जे का सच