केजरीवाल की आलोचना पर 'आप' विधायक राजेश गर्ग का यू टर्न

By: | Last Updated: Wednesday, 8 October 2014 2:44 AM

नयी दिल्ली: दो दिन पहले अरविन्द केजरीवाल से पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र के बारे में सवाल करने वाले ‘आप’ विधायक राजेश गर्ग ने आज अपने सुर बदलते हुए कहा है कि यह एक गलती थी और इसके लिए पहले उन्हें पार्टी से विचार विमर्श करना चाहिए था.

 

अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट डालकर केजरीवाल की आलोचना करने वाले रोहिणी के विधायक ने यह भी कहा कि वह पार्टी नहीं छोड़ेंगे.

 

फेसबुक पर केजरीवाल की आलोचना करने के बाद शहर से रहस्यमय तरीके से गायब हो जाने वाले गर्ग ने कहा, ‘‘पोस्ट को अपलोड करने से पहले मुझे पार्टी से विचार विमर्श करना चाहिए था और यह मेरी गलती है.’’

 

ये है पूरा मामला

आम आदमी पार्टी में एक चिट्टी को लेकर बवाल मचा हुआ था. पार्टी का कहना था कि राजेश गर्ग का अकाउंट हैक किया गया था जबकि उनके ही विधायक गर्ग ने कहा था कि अकाउंट हैक नहीं हुआ बल्कि वह चिट्ठी उन्होंने खुद ही लिखी थी.

 

चिट्ठी की सच्चाई क्या है? इस सवाल पर राजेश गर्ग ने एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए बताया, “अकाउंट है हैक नहीं हुआ था. जो चिट्ठी लिखी गई थी वो उन्होंने ही लिखी थी. जो लिखा था सोच समझ के ही लिखा था. उनकी मंशा सच्चाई लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की थी. दिल्ली की जनता पर फिर से चुनाव का बोझ पड़ता और वो व्यक्तिगत तौर पर इस बात से परेशान थे, गर्ग ने अपने मन की बात चिट्ठी के सहारे केजरीवाल जक पहुंचाने की कोशिश की थी.”

 

गर्ग ने ‘आप’ को विपक्ष में बैठन की सलाह भी दी थी- इससे जुड़े सवाल पर राजेश गर्ग का कहना था, “हमारे पास नंबर नहीं है. बीजेपी के पास नंबर है तो आए और बनाए सरकार. मैंने अपनी, विधायकों की और पब्लिक की राय रखी है. मैं देश के लोगों की सवाल करना चाहता हूं. पब्लिसिटी नहीं चाहता. केजरीवाल जी बेबाक व्यक्ति हैं. उनपर किसी प्रकार का कोई आरोप नहीं लगाया जा सकता. अगर इस्तीफा नहीं दिया होता तो आज लोगों की सेवा कर रहे होते.”

 

यहां सुनें पूरी बातचीत-