पाकिस्तान समर्थक नारे बर्दाश्त नहीं करेगी सरकार: राजनाथ सिंह

By: | Last Updated: Tuesday, 26 May 2015 1:02 PM

कोलकाता: जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के रुख को स्पष्ट करते हुए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को जोर देकर कहा कि सरकार पाकिस्तान समर्थक नारों को बर्दाश्त नहीं करेगी.

 

सत्तारूढ़ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार की अगुवाई वाली भाजपा पिछले कई सालों से मांग करती आई है कि जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा देना चाहिए.

 

राजनाथ ने यहां मीडियाकर्मियों को कहा, “धारा 370 पर हमारी कोई दो राय नहीं है. लेकिन जम्मू एवं क्शमीर की सत्ता में नई सरकार आई है और भाजपा पहली बार इसमें शामिल है. इसलिए पहले विकास होने दीजिए. हम जो भी करेंगे, आम जनता के समर्थन से करेंगे.”

 

कश्मीर में अलगाववादियों द्वारा लगातार पाकिस्तानी झंडे लहराए जाने के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि सरकार भारतीय धरती पर पाकिस्तान समर्थक नारों को बर्दाश्त नहीं करेगी.

 

उन्होंने कहा, “हम भारतीय जमीन पर किसी को भी पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे नहीं लगाने देंगे. भाजपा का विश्वास है कि सभी भारतीय, चाहे वे हिंदू हों या मुसलमान राष्ट्रवादी हैं. लेकिन यदि भारतीय जमीन पर किसी ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए तो फिर चाहे वह किसी भी धर्म का हो, सरकार उसे बर्दाश्त नहीं करेगी.” उन्होंने कहा, “सभी जानते हैं कि अलगाववादी नेता मसरत आलम को क्यों गिरफ्तार किया गया.”

 

राजनाथ ने कहा, “केंद्र सरकार और जम्मू एवं कश्मीर की मुफ्ती मोहम्मद सईद सरकार कश्मीरी पंड़ितों के पुनर्वास को लेकर प्रतिबद्ध है. कश्मीरी पंड़ितों के पुनर्वास के लिए हमने एक कोष की स्थापना की है. हम जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री से बात कर रहे हैं और उन्होंने हमें आश्वासन दिया है कि वह कश्मीरी पंड़ितों के पुनर्वास के लिए भूमि उपलब्ध कराएंगे.”

 

तीस्ता समझौते को अंतिम रूप जल्द : राजनाथ

 

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जून में प्रस्तावित बांग्लादेश दौरे के मद्देनजर दावा किया कि पड़ोसी देश के साथ तीस्ता नदी जल बंटवारा समझौते को जल्द अंतिम रूप दिया जाएगा. राजनाथ ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का समर्थन मिलने का दावा किया. चार साल पहले बनर्जी ने ही भारत और बांग्लादेश के बीच इस समझौते का विरोध किया था.

 

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, “बांग्लादेश के साथ भू-सीमा समझौता पहले ही तय हो गया है और तीस्ता समझौता भी जल्द अंतिम रूप लेगा. हमें ममता बनर्जी सरकार से पूरा समर्थन मिलने का यकीन है.” बनर्जी ने फरवरी में अपने बांग्लादेश दौरे के दौरान बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को तीस्ता जल बंटवारा विवाद सुलझाने का आश्वासन दिया था.

 

बनर्जी के तीव्र विरोध के बाद तीस्ता जल बंटवारा संधि को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था. बनर्जी ने इस समझौते का विरोध अपने राज्य के पूर्वोत्तर हिस्से में आपदा के भय से किया था.

 

सितंबर 2011 में उन्होंने जल साझेदारी समझौते पर बांग्लादेश जाने वाले प्रतिनिधिमंडल से अपना हाथ खींच कर तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लज्जित किया था. इस कदम के बाद भारत को इसे एजेंडे से बाहर रखने पर मजबूर होना पड़ा था.

 

वहीं, राजनाथ ने यह भी कहा कि कोलकाता एवं ढाका के बीच बस सेवा जल्द शुरू होगी. उन्होंने कहा, “कोलकाता व ढाका के बीच बस सेवा का परीक्षण परिचालन पहले ही पूरा हो चुका है. सेवा जल्द शुरू की जाएगी.”

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rajnath singh
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: rajnath singh
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017